×

Gold Demand: चीन में कोरोना के कड़े प्रतिबंधों से सोने की मांग में गिरावट दर्ज

Gold Demand: चीन में कोरोना के कड़े प्रतिबंधों से सोने की मांग में गिरावट दर्ज

चीन में कोरोना महामारी के कारण लगाए गए कड़े प्रतिबंधों से देश में सोने की फिजिकल डिमांड में इस सप्ताह कमी दर्ज की गई। हालांकि इस दौरान एशिया में सोने की डिमांड बनी रही।

 

बीजिंग: चीन में कोरोना महामारी के कारण लगाए गए कड़े प्रतिबंधों से देश में सोने की फिजिकल डिमांड में इस सप्ताह कमी दर्ज की गई। हालांकि इस दौरान एशिया में सोने की डिमांड बनी रही। भारत में सोने की कीमतों में आए उछाल से अधिकांश खरीदारों को निराश किया।

 

भूकंप के झटकों से हिला तुर्की, 50 लोग हुए घायल, 5.9 रही तीव्रता

 

चीन में पिछले सप्ताह एक Ounce (28.3 ग्राम) प्रीमियम सोने की कीमत आठ अमेरिकी डालर से लेकर 25 अमेरिकी डालर तक कम होकर 10 से 15 अमेरिकी डालर पर आ गया।

 

कौन होगा पाकिस्‍तान का नया सेना प्रमुख? सरकार को मिली सीनियर जनरल के नामों की लिस्‍ट

 

इस मामले के जानकार और स्वतंत्र विश्लेषक रास नार्मन (Ross Norman) ने कहा, 'पूरी दुनिया में सोने की मांग में काफी तेजी दर्ज की जा रही है। वैश्विक स्तर पर मौसमी मांग के कारण इसमें काफी मजबूत हुई है। चीन में कोरोना संक्रमण के कारण देश में नए सीरे से लगाए गए लाकडाउन ने घरेलू मांगों को कम कर दिया है।

 

China news: चीन के हेनान प्रांत में कारखाने में लगी आग, घटना में 36 लोगों की मौत व दो लापता

 

चीन में प्रीमियम की कीमतों में सितंबर के बाद से बढ़ोतरी दर्ज की गई थी और दौरान यह 45 अमेरिकी डालर के उच्च स्तर पर पहुंच गया था। हालांकि इसकी कीमतों में इस माह कमी दर्ज की गई है। मालूम हो कि वाणिज्यिक बैंकों को कोटा के माध्यम से कितना सोना देश में लाना है इसका नियंत्रण चीन का केंद्रीय बैंक करता है।

 

दृश्यम के जैसे ही सस्पेंस से भरपूर हैं ये सारी फिल्में, रात में देखने पर हिल जाएगा आपका दिमाग

 

हालांकि इस बीच पिछले सप्ताह की 26 अमेरिकी डालर की तुलना में भारत में इसके डीलरों ने घरेलू कीमतों पर 21 डालर प्रति Ounce पर छूट की पेशकश की है। मुंबई स्थित चेनाजी नरसिंहजी (Chenaji Narsinghji) के मालिक और सोने के थोक व्यापारी अशोक जैन ने कहा कि कुछ लोग नए जेवर खरीदने के बजाए पुराने जेवर को बेच रहे हैं।

 

त्योहारी सीजन में मूल्य वृद्धि ने खरीदारी की गति को रोक दिया है। उन्होंने बताया कि पिछले सप्ताह स्थानीय स्तर पर सोना 53,200 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया, जो 19 अप्रैल के बाद से सबसे उच्चतम है।

यह भी पढ़े:

गोद लिया बच्चा अनुकंपा नियुक्ति प्राप्त करने का हकदार: Karnataka High Court

खंडपीठ ने कहा, "बेटा, बेटा होता है या बेटी, बेटी होती है, गोद ली गई है या अन्यथा, अगर इस तरह के अंतर को स्वीकार किया जाता है तो गोद लेने से कोई उद्देश्य पूरा नहीं होगा।"

कर्नाटक हाईकोर्ट: कर्नाटक हाईकोर्ट ने यह स्पष्ट कर दिया है कि एक गोद लिया बच्चा अपने दत्तक माता-पिता की मृत्यु के बाद अनुकंपा नियुक्ति प्राप्त कर सकता है, जो परिवार की देखभाल करता था।

जस्टिस सूरज गोविंदराज और जस्टिस जी बसवराज की खंडपीठ ने कहा, "बेटा, बेटा होता है या बेटी, बेटी होती है, गोद ली गई है या अन्यथा, अगर इस तरह के अंतर को स्वीकार किया जाता है तो गोद लेने से कोई उद्देश्य पूरा नहीं होगा।"

कोर्ट एक दत्तक पुत्र की रिट अपील पर सुनवाई कर रहा था, जिसके दत्तक पिता, जो सहायक लोक अभियोजक के कार्यालय में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी के रूप में कार्यरत थे, के निधन के बाद अनुकंपा रोजगार के लिए उसका आवेदन खारिज कर दिया गया था।

विनायक मुत्तत्ती के प्राकृतिक पुत्र की सड़क दुर्घटना में मृत्यु के बाद अपीलकर्ता को 2011 में गोद लिया गया था। 2018 में खुद मुत्तती का निधन हो गया। अनुकंपा नियुक्ति के आवेदन को इस आधार पर खारिज कर दिया गया कि अपीलकर्ता को "adopt" किया गया है।

इस आदेश को चुनौती देने वाली एक रिट याचिका को उच्च न्यायालय की एकल पीठ द्वारा इस आधार पर खारिज कर दिया गया था कि कर्नाटक सिविल सेवा (अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति) नियम, 1996 (अपीलकर्ता के आवेदन की तिथि पर लागू) के अनुसार अनुकंपा नियुक्ति पर दत्तक पुत्र के लिए विचार करने का कोई प्रावधान नहीं है।

अपील पर फैसला करते हुए खंडपीठ ने कहा कि मुत्तत्ती अपने पीछे अपनी पत्नी, दत्तक पुत्र और अपनी प्राकृतिक बेटी छोड़ गए हैं जो मानसिक रूप से विक्षिप्त और शारीरिक रूप से विकलांग हैं।

कोर्ट ने कहा, "नियुक्ति प्राधिकारी को अनुकंपा नियुक्ति के आवेदन पर विचार करना होगा यदि वास्तव में वित्तीय कठिनाई या अनुकम्पा नियुक्ति की आवश्यकता में कठिनाई है। वर्तमान मामले में, बेटी एक प्राकृतिक बेटी होने के नाते, अनुकंपा नियुक्ति की हकदार होगी यदि वह मानसिक रूप से विक्षिप्त होने के साथ-साथ शारीरिक रूप से विकलांग नहीं होती।

ऐसी स्थिति में, यह गोद लिया हुआ पुत्र अनुकंपा नियुक्ति का हकदार है, जिसे मृतक द्वारा दत्तक लिया गया था, जो प्राकृतिक रूप से जन्मे पुत्र की मृत्यु के कारण परिवार की देखभाल के लिए था, जिसने अनुकम्पा नियुक्ति के लिए आवेदन किया था।"  

कोर्ट ने प्रतिवादी की इस दलील को खारिज कर दिया कि 1996 के नियम अनुकंपा नियुक्ति के लिए दत्तक पुत्र पर विचार करने का प्रावधान नहीं करते हैं। बल्कि, यह नोट किया गया कि नियमों को 2021 में इस आशय से संशोधित किया गया था कि अनुकंपा नियुक्ति के आवेदन पर विचार करते समय दत्तक पुत्र को एक प्राकृतिक पुत्र के समान व्यवहार करना होगा।

उच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया कि हालांकि अपीलकर्ता के आवेदन के बाद संशोधन पेश किया गया था, लेकिन इसके लाभ से इनकार नहीं किया जा सकता।

कोर्ट ने कहा, "प्रतिवादी संख्या 2 और 4 द्वारा दत्तक पुत्र और एक प्राकृतिक पुत्र के बीच किए गए अंतर या तो मौजूदा नियमों के आधार पर हमारी राय में इस मामले में कोई प्रभाव या भूमिका निभाने के लिए नहीं होगा।

इस बात को ध्यान में रखते हुए कि वही संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करेगा, उक्त नियमों में संशोधन किया गया है ताकि कृत्रिम भेद को दूर किया जा सके।" इसलिए कोर्ट ने अधिकारियों को 12 सप्ताह के भीतर अपीलकर्ता के आवेदन पर विचार करने का निर्देश दिया, जैसे कि वह मृतक का प्राकृतिक जन्म पुत्र हो।

केस : गिरीश पुत्र विनायक कुमुत्तत्ती बनाम कर्नाटक राज्य व अन्य।

Share this story