varanasi में Ganga उफान पर, एक सेंटीमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से बढ़ रहा Ganga का जलस्तर
varanasi में Ganga उफान पर, एक सेंटीमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से बढ़ रहा Ganga का जलस्तर
The water level of Ganga rising at the speed of one centimeter per hour on the Ganga boom in Varanasi

वाराणसी। गंगा के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। पानी एक सेंटीमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से बढ़ रहा है। शुक्रवार की सुबह जलस्तर 66.62 मीटर रिकार्ड किया गया। घाटों का आपसी संकर्ट टूट चुका है।

तटवर्ती इलाके के लोग सशंकित हैं। वैसे, प्रशासन जलस्तर में वृद्धि को देखते हुए अलर्ट है। 

 वाराणसी समेत आसपास के इलाके में पिछले दो दिनों से तेज बारिश नहीं हुई। पर्वतीय इलाके में बारिश की वजह से गंगा का जलस्तर पांच दिनों से लगातार बढ़ रहा है।

इस समय एक सेंटीमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पानी बढ़ रहा है। वाराणसी में गंगा का चेतावनी बिंदु 70.262 मीटर और खतरा का बिंदु 71.262 मीटर है। जलस्तर अभी खतरे के बिंदु से लगभग चार मीटर नीचे है। 

तेज बारिश के आसार नहीं वाराणसी व आसपास के इलाके में आने वाले दिनों में तेज बारिश अथवा बाढ़ की आशंका नहीं है। मौसम विभाग से जारी अलर्ट के मुताबिक कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

इस बार मानसून सत्र में औसत से कम बरसात हुई। इसकी वजह से किसान मायूस हैं। उन्हें अब रबी फसलों का ही सहारा है। 

क्या आपको भी है मंगल दोष तो यहां करें पूजा, मत्स्य पुराण में भी है इस मंदिर का जिक्र

Durga Puja 2022: Varanasi में Pashupatinath Mandir में विराजेंगी Mahishasura Mardini, Hathwa Market में बन रहा भव्य पंडाल

Durga Puja 2022: Varanasi में Pashupatinath Mandir में विराजेंगी Mahishasura Mardini, Hathwa Market में बन रहा भव्य पंडाल

वाराणसी। 26 सितंबर यानि सोमवार से शारदीय नवरात्र शुरू हो रहा है। वहीं इस बार नगर में दुर्गा पूजा की धूम दिखाई पड़ने वाली है।

इन दिनों शहर में जगह -जगह पर पूजा पंडाल बनाये जा रहे हैं। वहीं इन पंडालों को बनाने में कारीगर दिन रात एक कर जुटे हुए हैं।

इसी कड़ी में हथुआ मार्केट में बनने वाला पूजा पंडाल नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर (Pashupatinath Mandir) की प्रतिकृति है। जो भव्य आकार में बन रहा है। 

बता दें कि बीते दो सालों में कोरोना की वजह से सभी त्यौहार फीके हो गए थे। मगर इसबार हर त्यौहार को मनाया जा रहा है। इन दिनों शहर में जगह -जगह पूजा पंडाल बनाये जा रहे।  बंगाल से आये कारीगर पंडाल को अंतिम रूप देने में शोर से जुट हैं। 

इस दौरान हथुआ मार्केट के कोषाध्यक्ष संजय गुप्ता ने बताया कि इस बार भव्य पंडाल बनाया जा रहा है। जिसके लिए कारीगर बंगाल से बुलाये गए हैं। पंडाल में कलश पूजा की जाएगी। पंडाल बनाने में 20 कारीगर लगे हुए हैं। जो पंडाल को जल्द पूरा कर लेंगे।

क्या आपको भी है मंगल दोष तो यहां करें पूजा, मत्स्य पुराण में भी है इस मंदिर का जिक्र

Shardiya Navratri 2022: इस बार हाथी पर सवार होकर आ रही मां दुर्गा, देश के लिए है शुभ संकेत

Shardiya Navratri 2022: इस बार हाथी पर सवार होकर आ रही मां दुर्गा, देश के लिए है शुभ संकेत

Shardiya Navratri 2022: मां दुर्गा के भक्तों को उनकी आराधना करने के लिए पूरे साल शारदीय नवरात्रि का इंतजार रहता है। यह 9 दिन हर माता के भक्त के लिए बहुत विशेष होते हैं।

देश भर में माता के जयकारे गूंजते हैं, रतजगों को माता की आराधना होती है, हवन और यज्ञ करके लोग माता को प्रसन्न करते हैं। इस साल भी अब ये शुभ दिन आने ही वाले हैं।

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से यह व्रत शुरू होते हैं। इसे शारदीय नवरात्रि के नाम से जाना जाता है। तो आइए जानते हैं कि इस साल यह 9 दिन का उत्सव किस तारीख से शुरू हो रहा है।

साथ ही जानते हैं कि व्रत और घट स्थापना का शुभ मुहूर्त और तिथि क्या है। 

ये नवरात्रि पर्व है काफी खास

हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल का शारदीय नवरात्रि बहुत विशेष है। क्योंकि इस बार नवरात्रि की शुरूआत सोमवार के दिन हो रही है।

भोलेनाथ की भक्ति के साथ यह दिन चंद्र ग्रह का दिन है, इसलिए इसे पूजा-पाठ के लिए काफी शुभ माना जाता है। इतना ही नहीं ऐसी मान्यता है कि जब भी नवरात्रि की शुरुआत रविवार या सोमवार से होती है तब मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर पधारती हैं।

हाथी की सवारी से सीधा संबंध सुख सम्पन्नता से माना जाता है। इसलिए यह नवरात्रि का त्योहार विश्वभर शांति और सुख लेकर आएगा। 

प्रारंभ तिथि और घट स्थापना

आपको बता दें कि इस साल शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर से प्रारंभ होकर, 5 अक्टूबर तक चलेगी। वहीं प्रतिपदा तिथि 26 अक्टूबर को है,  तो घटस्थापना का मुहूर्त 26 सितंबर की सुबह 06 बजकर 20 मिनट से 10 बजकर 19 मिनट तक रहेगा।

आपको बता दें कि प्रतिपदा का प्रांरभ 26 सितंबर को सुबह 3 बजकर 24 मिनट को होगा। प्रतिपदा तिथि 27 सितंबर की सुबह 03 बजकर 08 मिनट तक रहेगी।  

अभिजीत मुहूर्त-

26 सितंबर सुबह 11 बजकर 54 मिनट से दोपहर 12 बजकर 42 मिनट तक।

नोट : यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। लाइव भारत न्यूज़ एक भी बात की सत्यता का प्रमाण नहीं देता है।

Share this story