चंदौली के परेवा गांव में भैंस चराते वक्त आकाशीय बिजली की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत
One person died due to lightning while grazing buffalo in Pareva village of Chandauli

One person died due to lightning while grazing buffalo in Pareva village of Chandauli

चंदौली के सैयदराजा थाना क्षेत्र है,जहां थाना क्षेत्र के परेवा गांव में आकाशीय बिजली की चपेट ने आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई है आपको बता दे की सैयदराजा थाना अंतर्गत परेवा गांव निवासी  राजेंद्र यादव 50 वर्ष रोजाना की तरह अपनी भैंस चरा रहे थे तभी अचानक आकाशीय बिजली की चपेट में आ गए। 

आनन-फानन में निजी वाहन से राजेंद्र यादव को जिला अस्पताल लाया गया जहां पर चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया,कानूनी प्रक्रिया के तहत शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला मोर्चरी भेज दिया गया है।

चंदौली की नई जिलाधिकारी ईशा दुहन, एक लाठी लेकर खनन माफियाओं से लोहा लेने वाली ईशा दुहन कैसे बने लेडी सिंघम

काशी में लम्पीवाइरस के प्रकोप को खत्म करने के लिए हुआ यज्ञ

देश में तेजी से लम्पीवाइरस का खतरा बढ़ता जा रहा है जिसे तमाम राज्यों से गायों के बीमार होने की खबरें सामने आ रही हैं। धर्म अध्यात्म की नगरी काशी में आज इस वायरस को पूर्ण रूप से समाप्त हो इस संकल्प के साथ महामृत्युंजय मंत्र एवं गायत्री मंत्र का जप निरंजनी अखाड़ा कार्तिकेयजी काशी में बीएचयू के डॉक्टर सुनील कुमार द्वारा किया गया। 

डॉक्टर सुनील ने बताया कि देश में तेजी से लम्पी वायरस का प्रकोप बढ़ रहा है और हमारी गौ माताओं को यह अपने चपेट में ले रहा है उन्होंने संकल्प के साथ महामृत्युंजय मंत्र , गायत्री मंत्र का जप किया और हवन किया और भगवान से प्रार्थना की है कि जल्द से जल्द इस वायरस से मुक्ति मिले। 

डाक्टर सुनील ने कहा कि उन्होंने कहा कि देश में लम्पीवायरस बढ़ रहा है जिसके चलते तमाम गौ माताओं की मृत्यु हो रही है। उन्होंने कहा कि मैं मानता हूं कि रोग के निवारण के साथ साथ दैविक कृपा की भी आवश्यकता होती है।

इसी सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए। हमने आज महामृत्युंजय मंत्र और गायत्री मंत्र का जप का यह पूरा कार्यक्रम पांच ब्राह्मणों द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा  माध्यम से हमने यह कामना की है कि जल्द से जल्द हमारी गौ माताओं को इस वायरस से मुक्ति मिले। 

उन्होंने कहा कि इस कामना के साथ हमने तमाम साधु-संतों उसे इस बात पर चर्चा की है एवं मठ के मठाधीश समुंदरपुरी के सहयोग से यह कार्यक्रम सफल हुआ है। कार्यक्रम के उपरांत एक भव्य भंडारे का आयोजन किया गया जिसमें तमाम साधु-संतों ने प्रसाद ग्रहण किया।

Share this story