शादी के बाद दुल्हन का कराया वर्जिनिटी टेस्ट, फेल हुई तो दूल्हे ने पार की सारी हदें...
शादी के बाद दुल्हन का कराया वर्जिनिटी टेस्ट, फेल हुई तो दूल्हे ने पार की सारी हदें...

सुहागरात पर सफेद चादर बिछाकर दुल्हन का कराया वर्जिनिटी टेस्ट, फेल हुई तो दूल्हे ने पार की सारी हदें...

भीलवाड़ा।  राजस्थान के मेवाड़ के ग्रामीण इलाकों में चलने वाली शादी के बाद ‘वर्जिनिटी टेस्ट’ (Virginity Test) की कुप्रथा ‘कुकड़ी’ अभी भी विवाहिताओं का पीछा नहीं छोड़ रही है। मेवाड़ के भीलवाड़ा जिले में एक नई दुल्हन वर्जिनिटी टेस्ट में फेल हो गई।

 

 

इस पर समाज की खाप पंचायत ने शुद्धिकरण के नाम पर विवाहिता और उसके परिजनों पर 10 लाख का जुर्माना लगा दिया। जुर्माना नहीं देने के कारण विवाहिता को लगातार मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है। लिहाजा विवाहिता शादी के पांच माह बाद भी अपना घर नहीं बसा पाई है। विवाहिता के साथ शादी से पहले रेप हुआ था।

इस शहर का अजीबोगरीब रिवाज, लड़कों का ये अंग देखने के बाद ही विवाह के लिए राजी होती हैं लड़कियां

इसका मामला भीलवाड़ा शहर के सुभाष नगर थाने में दर्ज है। अब पीड़िता ने बागोर पुलिस थाने में अपने पति और ससुर के खिलाफ 10 लाख रुपये के लिए प्रताड़ित करने का मामला दर्ज कराया है।

मांडल पुलिस उपाधीक्षक सुरेंद्र कुमार ने बताया कि पीड़िता की शादी बीते 11 मई को हुई थी। शादी के बाद उनके समाज की ‘कुकड़ी प्रथा’ के तहत उसका वर्जिनिटी टेस्ट किया गया था। उसमें वह खरी नहीं उतर पाई। विवाहिता से जब परिजनों ने पूछताछ की तो सामने आया कि शादी से पहले उसके पड़ोस में रहने वाले एक युवक ने उसका रेप किया था।

इसका मामला सुभाष नगर थाने में दर्ज है। बाद में पीड़िता ने कुकड़ी प्रथा और उसके साथ हुये दुर्व्यवहार की पुलिस को शिकायत की। इस मामले की जांच चल रही है। इसकी जांच मांडल के सीओ सुरेंद्र कुमार कर रहे हैं।

'Sex' को लेकर Google पर सबसे ज्यादा पूछे जा रहे ये 10 सवाल, जानिए उनके जवाब

बताया जा रहा है कि विवाहिता के वर्जिनिटी टेस्ट के बाद उसके साथ पूर्व में हुए रेप की बात सामने आ गई थी। इसके बाद बागोर के भादू माता मंदिर में समाज की पंचायत बैठी।

इसकी शिकायत पुलिस को मिलने के बाद उसने विवाहिता के ससुराल पक्ष और समाज के पंचों को आगाह भी किया था। लेकिन इसके बावजूद भी 31 मई को फिर से पंचायत रखी गई। उसमें पीड़िता के पीहर पक्ष को 10 लाख रुपए जुर्माने के तौर पर देने का आदेश दिया गया।


पीड़िता का आरोप है कि सब कुछ पता चलने के बाद भी ससुराल पक्ष की ओर से समाज की पंचायत बिठाई गई। पंचायत ने उसके पीहर पक्ष पर शुद्धिकरण अनुष्ठान के नाम पर 10 लाख रुपये जुर्माना लगा दिया गया।

 विवाहिता का आरोप है कि पिछले पांच माह से उसे जुर्माने के जुर्माना राशि के लिए प्रताड़ित किया जा रहा है। इस पर अब उसने पुलिस की शरण ली है।

बताया जा रहा है कि कुकड़ी प्रथा के चलते जिले में कई लड़कियों की जिंदगी खराब हो चुकी है। कई बेटियां इस प्रथा के बाद की प्रताड़नाओं से तंग आकर सुसाइड भी कर चुकी है। 

Share this story