×

Varanasi News: नमामि गंगे ने वेदपाठी बटुकों के साथ ज्ञानवापी की तस्वीर लेकर गंगा किनारे आरती उतार कर व्यक्त की प्रसन्नता

dfvf

Varanasi News: नमामि गंगे ने वेदपाठी बटुकों के साथ ज्ञानवापी की तस्वीर लेकर गंगा किनारे आरती उतार कर व्यक्त की प्रसन्नता 

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की रिपोर्ट पर जताई खुशी नमामि गंगे ने वेदपाठी बटुकों के साथ ज्ञानवापी की तस्वीर लेकर गंगा किनारे आरती उतार कर व्यक्त की प्रसन्नता 

ज्ञानवापी परिसर में हुए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण एएसआइ के सर्वे में हिंदू मंदिर होने के स्पष्ट प्रमाण मिलते ही नमामि गंगे ने महर्षि योगी विद्याश्रम के वेद पाठी बटुकों के साथ सिंधिया घाट पर आरती उतार कर खुशी का इजहार किया ।

ज्ञानवापी की तस्वीर और मां गंगा की आरती उतार कर वेद मंत्रोच्चार के बीच प्रसन्नता व्यक्त की । गंगा तट हर हर महादेव के गगनभेदी उद्घोष से गूंज उठा । ज्ञानवापी परिसर में 300 हिंदू देवी-देवताओं के चिन्ह और 34 शिलालेखों की प्राप्ति पर हर्ष व्यक्त करते हुए हर-हर महादेव शंभू काशी विश्वनाथ गंगे के जयकारे लगे ।

fdgd

नमामि गंगे काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला ने कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की रिपोर्ट में ऐसे शिलालेखों के मिलने की बात कही गई है जो पहले से मौजूद हिंदू मंदिरों के हैं। ज्ञानवापी के सर्वे में शिवलिंग, विष्णु जी , नन्दी , हनुमान जी, गणेश जी की मूर्ति प्राप्त हुई है । यह सभी मंदिर 16 और 17वीं शताब्दी के हैं ऐसा रिपोर्ट में उल्लेख है ।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">

तहखानों में भी हिंदू देवी देवताओं की मूर्तियां मिली है। गलियारे में कुआं भी मिला है। स्वास्तिक के निशान और नाग देवता के निशान भी मिले हैं ‌। चौकोर अरघा भी मिला है जिसे शिवलिंग का बताया जा रहा है ।

रिपोर्ट में संस्कृत में लिखे शब्दों को 16वीं शताब्दी का अवशेष बताया गया है । संस्कृत में लिखे समस्त शब्द ज्ञानवापी के पुरातन इतिहास को दर्शा रहे हैं । ज्ञानवापी परिसर की पश्चिमी दीवार साक्षात प्रमाण है  जिसको हम कई वर्षों से अपनी आंखों से देखते आ रहे हैं।

रिपोर्ट पर प्रसन्नता व्यक्त करने वालों में प्रमुख रूप से काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला,महर्षि योगी विद्याश्रम के प्रभारी सुनील श्रीवास्तव प्रबंधक सीसंत केसरी स्वाइं, महर्षि योगी विद्याश्रम के वेदपाठी बटुक शामिल रहे ।

Share this story