×

Varanasi news: पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निदेशक के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज...

Varanasi news: Corruption case registered against director of Purvanchal Vidyut Vitran Nigam

पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) पृथ्वीपाल सिंह के खिलाफ वाराणसी के चितईपुर थाने में आय से अधिक संपत्ति हासिल करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है।

 

 

विजिलेंस के इंस्पेक्टर चंद्रभूषण प्रजापति ने जो तहरीर दी है, उसके मुताबिक निदेशक ने आय से 97 लाख रुपये ज्यादा कमाई की है। वाराणसी सहित कई शहरों में संपत्ति बनाई है।



इस कार्रवाई से निगम के अफसरों में हड़कंप मचा हुआ है। गौरतलब है कि पृथ्वीपाल सिंह वाराणसी में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) के पद पर फरवरी 2020 से तैनात हैं।

 

 BHU CHS Entrance 2023: सीएचएस में दाखिले के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू, ऐसे करें आवेदन

 


आय से 97 लाख रुपये ज्यादा खर्च


उत्तर प्रदेश पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड के लखनऊ स्थित मुख्यालय के अध्यक्ष ने पृथ्वीपाल सिंह की संपत्ति की जांच के लिए विजिलेंस को कहा था।

 

जांच में सामने आया कि एक जून 1986 से 30 जून 2022 तक पृथ्वीपाल सिंह की आय चार करोड़ 62 लाख 82 हजार 776 रुपये थी। लेकिन, इस अवधि में उनके द्वारा पांच करोड़ 60 लाख 62 हजार 667 रुपये खर्च किए गए।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">

भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज हुआ केस

इस तरह से पृथ्वीपाल सिंह ने अपनी आय से 97 लाख 79 हजार 891 रुपये ज्यादा खर्च किए। यह रुपये पृथ्वीपाल सिंह द्वारा वैध स्त्रोतों से अर्जित आय से 21.13 प्रतिशत ज्यादा है।

यह रुपये कहां से आए, इसकी पड़ताल की जा रही है। 

इंस्पेक्टर चंद्रभूषण प्रजापति के अनुसार जांच में सामने आया कि पृथ्वीपाल सिंह ने वैध कमाई से ज्यादा खर्च किया।

Varanasi: BHU में महिला प्रोफेसर से पढ़ने के बजाए विदेशी छात्र करता था अश्लील हरकतें, गंदे मैसेज, छूने की कोशिश और ...

यह भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत अपराध की श्रेणी में आता है। इसलिए पृथ्वीपाल के खिलाफ चितईपुर थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है।पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) पृथ्वीपाल सिंह के खिलाफ वाराणसी के चितईपुर थाने में आय से अधिक संपत्ति हासिल करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है।

विजिलेंस के इंस्पेक्टर चंद्रभूषण प्रजापति ने जो तहरीर दी है, उसके मुताबिक निदेशक ने आय से 97 लाख रुपये ज्यादा कमाई की है। वाराणसी सहित कई शहरों में संपत्ति बनाई है।



इस कार्रवाई से निगम के अफसरों में हड़कंप मचा हुआ है। गौरतलब है कि पृथ्वीपाल सिंह वाराणसी में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (तकनीकी) के पद पर फरवरी 2020 से तैनात हैं।


आय से 97 लाख रुपये ज्यादा खर्च


उत्तर प्रदेश पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड के लखनऊ स्थित मुख्यालय के अध्यक्ष ने पृथ्वीपाल सिंह की संपत्ति की जांच के लिए विजिलेंस को कहा था। जांच में सामने आया कि एक जून 1986 से 30 जून 2022 तक पृथ्वीपाल सिंह की आय चार करोड़ 62 लाख 82 हजार 776 रुपये थी। लेकिन, इस अवधि में उनके द्वारा पांच करोड़ 60 लाख 62 हजार 667 रुपये खर्च किए गए।

भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज हुआ केस

इस तरह से पृथ्वीपाल सिंह ने अपनी आय से 97 लाख 79 हजार 891 रुपये ज्यादा खर्च किए। यह रुपये पृथ्वीपाल सिंह द्वारा वैध स्त्रोतों से अर्जित आय से 21.13 प्रतिशत ज्यादा है। यह रुपये कहां से आए, इसकी पड़ताल की जा रही है। 

इंस्पेक्टर चंद्रभूषण प्रजापति के अनुसार जांच में सामने आया कि पृथ्वीपाल सिंह ने वैध कमाई से ज्यादा खर्च किया। यह भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत अपराध की श्रेणी में आता है।

इसलिए पृथ्वीपाल के खिलाफ चितईपुर थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया है।

Share this story