×

Varanasi News: ब्रह्मनिष्ठ सतगुरु ही मानव को अध्यात्म की राह दिखाते है – स्वामी ब्रमेशानंद जी

Varanasi News: ब्रह्मनिष्ठ सतगुरु ही मानव को अध्यात्म की राह दिखाते है – स्वामी ब्रमेशानंद जी 

Varanasi News: ब्रह्मनिष्ठ सतगुरु ही मानव को अध्यात्म की राह दिखाते है – स्वामी ब्रमेशानंद जी 
    
चौबेपुर दिव्य आशुतोष महाराज जी के दिव्य मार्गदर्शन में दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान वाराणसी द्वारा चार दिनों तक  नैपाली भगवती धाम छित्तमपुर चौबेपुर में भव्य श्री हरि कथा का आयोजन  कथा के द्वितीय दिवस में दिव्य गुरु श्री आशुतोष महाराज जी के  शिष्य स्वामी ब्रमेशानंद  जी ने शिव विवाहप्रसंग प्रस्तुत किया ।

शिव और पार्वती के विबाह प्रसंग के पश्चात हि श्रीराम कथा प्रारम्भ होती है ।भगवान शिव विस्वास के प्रतीक है और पार्वती श्रद्धा के प्रतीक है। श्रद्धा और बिस्वास के बगैर राम  की कथा समझा नही जा सकता है। आगे स्वामी जी ने राम की महिमा गाते हुवे कहा  प्रभु श्री राम का चरित्र विश्व संस्कृति में एक उज्जवल एवं सर्वत्र परिव्याप्त वर्णातीत सत तत्व है।

भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता में राम कथा का वशिष्ट स्थान है। राम जी के बिना भारतीयता का अस्तित्व एवं उसकी पहचान भी संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारे जीवन का आधार प्रभु श्री राम है लेकिन उन्हें हम अपनी बुद्धि के द्वारा कभी समझ ही नहीं सकते। शास्त्र कहते है राम अतर्क्य बुद्धि मन वाणी बुद्धि की एक सीमा होती है और सीमित बुद्धि से असीम को पाया नहीं जा सकता। जहां बुद्धि की सीमा समाप्त होती है वहीं से ज्ञान का प्रारम्भ होता है।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">

उन्होंने माता सती के प्रसंग के माध्यम से समझाया कि सती बुद्धि से इन्द्रियों से राम जी की लीला और उनके रहस्य को समझना चाहती थी पर नाकामयाब हुई। ठीक इसी प्रकार मन बुद्धि से हम अध्यात्म को समझ नहीं सकते क्योंकि अध्यात्म का अर्थ होता है आत्मा का अध्ययन आत्मानुभूति।

जो केवल एक गुरु की कृपा से ही हम कर सकते है। मात्र एक पूर्ण गुरु ही हमें संशयों के भवर  से निकाल कर अध्यात्म की डगर पर ले चल सकता है। मंचासीन स्वामी हरिप्रकाशनन्द जी ने मंच संचालन करते हुवे कहा दिव्य गुरु आशुतोष महाराज जी केवल ईश्वर की बात नही करते है दिव्य नेत्र के माध्यम से उस परम प्रकाश स्वरूप राम को मनुष्य के अन्तर्घट दर्शन करवाते है । कार्यक्रम का शुभारंभ मंत्रो उच्चारण व समापन मंगल श्रीराम जी की आरती से हुआ कथा में अवनीश दुबे ,संतोष बरनवाल रिंकू यादव,प्रेमशंकर तिवारी,अमरेश चंद्र चौबे,ओमप्रकाश मौर्या आदि लोग उपस्थित रहे।

Share this story