×

Traffic News: वाराणसी में 36 मीटर चौड़े होंगे पांच चौराहे, चांदपुर होगा पूर्वांचल का सबसे बड़ा चौराहा

fdg

Traffic News: वाराणसी में 36 मीटर चौड़े होंगे पांच चौराहे, चांदपुर होगा पूर्वांचल का सबसे बड़ा चौराहा


अगले दो महीनों में शहर की यातायात व्यवस्था में काफी हद तक सुधार देखने को मिलेगा। चौड़ी की जा रही सड़कों के चौराहे भी चौड़े किए जाएंगे।

कचहरी से आशापुर के बीच पड़ने वाले कचहरी, पुलिस लाइन, काली मंदिर, पहड़िया, आशापुर चौराहे पहले चौड़े होंगे। इन्हें 36 मीटर चौड़ा किया जाएगा। इसकी योजना पहले से तैयार है। इस महीने से ही चौड़ीकरण शुरू होगा। मार्च तक काम पूरा हो जाएगा।


लोक निर्माण विभाग के सभी मार्गों के चौराहों को भी चौड़ा करने की योजना है। इसके लिए पीडब्ल्यूडी ने चौराहों को चिह्नित भी कर लिया है। मार्च 2024 के समापन तक सड़क व चौराहों का चौड़ीकरण पूरा हो जाएगा। इससे यातायात व्यवस्था तो सुदृढ़ होगी ही जाम की समस्या से भी निजात मिलेगी।


मंडुवाडीह चौराहा और ककरमत्ता तिराहे का चौड़ीकरण नहीं योजना के मुताबिक मंडुवाडीह चौराहे और ककरमत्ता तिराहे का चौड़ीकरण नहीं होगा। इन दोनों स्थानों पर फ्लाईओवर प्रस्तावित हैं। सेतु निगम की ओर से शासन को इसका प्रस्ताव भेजा गया है। अनुमति मिलते ही फ्लाइओवर का निर्माण किया जाएगा।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">


इन चौराहों को भी चौड़ा करने की योजना शहर को जाम से राहत देने को सर्वाधिक ट्रैफिक झेलने वाले चौराहों को भी चिह्नित किया गया है। इनमें सुंदरपुर, लंका, पड़ाव, रामनगर चौक, पांडेयपुर, रोहनिया चौराहे को भी चौड़ा करने की योजना है। लोक निर्माण विभाग की ओर से इन्हें भी चौड़ा करने का काम जल्द ही किया जाएगा।


चांदपुर होगा पूर्वांचल का सबसे बड़ा चौराहा मोहनसराय से बौलिया तक निर्माणाधीन सिक्सलेन में चांदपुर में पूर्वांचल का सबसे बड़ा चौराहा बनाने की तैयारी है। यहां वर्तमान सड़क के केंद्र से 28 मीटर एक तरफ तक खाली कराया जाएगा। इसके साथ ही चौराहे के चारो तरफ 20 से 30 मीटर तक चौड़ाई में चौराहे को विकसित किया जाएगा। इसी चौराहे से एक फोरलेन लोहता होते हुए अकेलवा में रिंग रोड को जोड़ रहा है।

प्रमुख सड़कों के साथ ही चौराहों को भी चौड़ीकरण के लिए चिह्नित किया गया है। जिन पांच चौराहों को पहले चौड़ा किया जा रहा है, वे सभी अन्य जिलों को वाराणसी से जोड़ने वाले प्रमुख मार्गों पर हैं। - केके सिंह, अधिशासी अभियंता, लोक निर्माण विभाग

Share this story