वाराणसी में अपर मुख्य सचिव ने जांची जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था, जिला महिला अस्पताल समेत अन्य चिकित्सालयों का किया निरीक्षण
कोविड टीकाकरण का जाना हाल, अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश 

कोविड टीकाकरण का जाना हाल, अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश 

 वाराणसी। उत्तर प्रदेश शासन के अपर मुख्य सचिव व जिले के नोडल अधिकारी दीपक कुमार ने गुरुवार को जिले की चिकित्सकीय व्यवस्थाओं का जायजा लिया। एसएसपीजी मण्डलीय चिकित्सालय, जिला महिला चिकित्सालय, राजकीय आयुर्वेद अस्पताल व चोलापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का उन्होंने औचक निरीक्षण किया। स्वास्थ्य व्यवस्थाओं के साथ ही उन्होंने कोविड के तीसरे लहर से निपटने एवं वैक्सीनेशन की जानकारी ली।

अपर मुख्य सचिव दीपक कुमार पूर्वाह्न लगभग दस बजे अचानक सनबीम वरुणा स्कूल पहुंचे। उनके साथ मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संदीप चौधरी भी थे। स्कूल में स्वास्थ्य विभाग की ओर से 15 से 18 वर्ष के बच्चों के लिए लगाये गये कोविड टीकाकरण कैम्प में पहुंच कर उन्होंने वैक्सीनेशन के बारे में जानकारी ली। टीकाकरण केन्द्र में मौजूद स्वास्थ्य कर्मियों से पूछा कि वे अब तक कितना टीकाकरण कर चुके हैं। यहां से वह चौकाघाट स्थित राजकीय आयुर्वेद चिकित्सालय पहुंचे और वहां हो रहे कोविड टीकाकरण की व्यवस्थाओं के बारे में जाना। टीकाकरण कराने आये लोगों से उन्होंने पूछा कि उन्हें टीकाकरण कराने में कोई असुविधा तो नहीं हो रही। इस दौरान वहां मौजूद आयुर्वेद चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्सक डा. विनय मिश्र ने वहां हो रहे टीकाकरण और अस्पताल की चिकित्सकीय व्यवस्थाओं की पूरी जानकारी अपर मुख्य सचिव को दी। 

कोविड टीकाकरण का जाना हाल, अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश 

चौकाघाट के बाद अपर मुख्य सचिव कबीरचौरा स्थित एसएसपीजी मण्डलीय चिकित्सालय पहुंचे। मण्डलीय चिकित्सालय व जिला महिला चिकित्सालय का निरीक्षण करने के साथ उन्होंने यहां भी 15 से 18 वर्ष के बच्चों तथा वयस्कों के हो रहे टीकाकरण के बारे में जानकारी ली। टीकाकरण केंद्र  पर जाकर उन्होंने वहां की  सुरक्षा व्यवस्था और टीका लगवाने वाले आ रहे हैं लोगों के बारे में जाना। उन्होंने पूछा कि प्रतिदिन कितने लोग वैक्सीनेशन के लिए आ रहे हैं। उन्होंने टीकाकरण केंद्र पर बैठी नर्स से सुबह से हुए वैक्सीनेशन के बारे में पूछा और यह भी पूछा कि इस डेस्क पर कोविड की कौन सी वैक्सीन लग रही है।  

इसके साथ ही उन्होंने मण्डलीय चिकित्सालय में लगे आक्सीजन प्लांट का भी निरीक्षण किया। उन्होंने प्लांट को चलवाकर भी देखा। आपरेटर से उन्होंने प्लांट के संचालन की पूरी प्रक्रिया को समझा। निरीक्षण के दौरान जिला महिला चिकित्सालय के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. ए.के. श्रीवास्तव व मण्डलीय चिकित्सालय के वरिष्ठ चिकित्सक डा.एसपी सिंह ने अपस्पताल की चिकित्सकीय व्यवस्थाओं के बारे में अपर मुख्य सचिव को जानकारी दी। यहां से अपर मुख्य सचिव चोलापुर पहुंचे उनके साथ मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल भी थे। चोलापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में बने 30 बेड के कोविड केयर सेंटर का उन्होंने निरीक्षण किया। यहां बने 12 बेड के “पीकू वार्ड”  को भी उन्होंने देखा। निरीक्षण के दौरान चोलापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी डा. आर.बी. यादव ने अपर मुख्य सचिव को अवगत कराया कि “पीकू वार्ड” आक्सीजन की सुविधा से लैस है और इसके लिए यहां आक्सीजन प्लांट भी लगा है।

कोविड टीकाकरण का जाना हाल, अधिकारियों को दिये आवश्यक दिशा-निर्देश 

इस पर अपर मुख्य सचिव ने वहां आक्सीजन प्लांट का भी निरीक्षण किया। यहां निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल ने वहां मौजूद चोलापुर ग्राम सभा की निगरानी समीतियों के सद्स्यों के बारे में अपर मुख्य सचिव को जानकारी दी। अपर मुख्य सचिव ने समीति के सदस्यों से उनके कार्यों  के बारे में बातचीत की। निरीक्षण के दौरान अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. एके मौर्या, जिला सर्विलांस अधिकारी डा. एसएस कन्नौजिया, वरिष्ठ चिकित्सक डा. एके पाण्डेय,  डा. अतुल सिंह मौजूद थे। इसके पूर्व  बुधवार की रात अपर मुख्य सचिव ने जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा व मुख्य चिकित्सा अधिकारी के साथ बैठक कर कोविड के तीसरी लहर से निपटने के लिये की गयी तैयारियों की समीक्षा की। साथ ही कोविड वैक्सीनेशन की रफ्तार में तेजी लाने का निर्देश दिया। बैठक में जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख आधिकारी मौजूद थे।

Share this story