×

वाराणसी पहुंचा दुनिया का सबसे लंबा रिवर क्रूज, जानिए इसकी खास सुविधाएं और सफर की कीमत

वाराणसी पहुंचा दुनिया का सबसे लंबा रिवर क्रूज, जानिए इसकी खास सुविधाएं और सफर की कीमत

वाराणसी। कोलकाता से 22 दिसंबर को रवाना हुई गंगा विलास लग्जरी क्रूज मंगलवार को वाराणसी पहुंच गया है। मौसम खराब होने की वजह से यह 3 दिन देर से काशी पहुंचा। क्रूज रामनगर बंदरगाह से वाराणसी के संत रविदास घाट पर पहुंचेगा। यहां पर उसका भव्य स्वागत होगा।

 


 दुनिया के सबसे लंबे जलमार्ग पर चलने वाले गंगा विलास क्रूज यात्रा को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 13 जनवरी को वर्चुअल हरी झंडी दिखाएंगे। प्रधानमंत्री इस लग्जरी क्रूज को वाराणसी से डिब्रूगढ़ के लिए रवाना करेंगे। 51 दिनों तक एडवेंचरस सफर पर निकलने वाला यह क्रूज 15 दिनों तक बांग्लादेश से गुजरेगा।

 

इसके बाद असम के बह्मपुत्र नदी से डिब्रूगढ़ तक जाएगा। यह क्रूज यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, बांग्लादेश और असम के कुल 27 रिवर सिस्टम से गुजरेगा। इसमें रास्ते में मुख्य तीन नदियां गंगा, मेघना और ब्रह्मपुत्र नदिया पड़ेंगी।

क्रूज बंगाल में गंगा की सहायक और दूसरे नामों से प्रचलित भागीरथी, हुगली, बिद्यावती, मालटा, सुंदरवन रिवर सिस्टम, वहीं बांग्लादेश में मेघना, पद्मा, जमुना और फिर भारत में ब्रह्मपुत्र से आसाम में प्रवेश करेगा। भारत-बांग्लादेश प्रोटोकॉल की वजह से यह यात्रा बांग्लादेश को क्रॉस करेगी। क्रूज यात्री 15 दिनों तक बांग्लादेश में पर्यटन करेंगे। 

ये दुनिया की सबसे लंबी और महंगी यात्रा

कोलकाता से वाराणसी आ रहे क्रूज को गाजीपुर में रोककर यात्रियों को उतारा गया था।

कोलकाता से वाराणसी आ रहे क्रूज को गाजीपुर में रोककर यात्रियों को उतारा गया था।

दुनिया के सबसे लंबे और महंगे नदी जल यात्रा की शुरुआत 13 जनवरी को वाराणसी से हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लग्जरी क्रूज गंगा विलास को वाराणसी से डिब्रूगढ़ के लिए रवाना करेंगे। 51 दिनों तक एडवेंचरस सफर पर निकलने वाला यह क्रूज बांग्लादेश से होते हुए असम के बह्मपुत्र नदी से डिब्रूगढ़ तक जाएगा।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">

गंगा विलास क्रूज के सेकंड फ्लोर पर एक 40 सीटर रेस्टोरेंट भी बनाया गया है। यहां पर वाइन, सैंपेन से लेकर 5 स्टार होटल के स्तर का खाना परोसा जाएगा।

गंगा विलास क्रूज के सेकंड फ्लोर पर एक 40 सीटर रेस्टोरेंट भी बनाया गया है। यहां पर वाइन, सैंपेन से लेकर 5 स्टार होटल के स्तर का खाना परोसा जाएगा।

क्रूज पर 18 सुइट्स, स्पा रूम और 3 सनडेक


गंगा विलास क्रूज की लंबाई साढ़े 62 मीटर और चौड़ाई 12.8 मीटर है। इसमें पर्यटकों के रहने के लिए कुल 18 सुइट्स हैं। साथ में एक 40 सीटर रेस्टोरेंट, स्पा रूम और 3 सनडेक हैं। साथ में म्यूजिक का भी अरेंजमेंट है।

क्रूज के सबसे अपर फ्लोर पर तीन सनडेक भी है। यहां पर चाय के साथ धूप का आनंद ले सकते हैं।

क्रूज के सबसे अपर फ्लोर पर तीन सनडेक भी है। यहां पर चाय के साथ धूप का आनंद ले सकते हैं।

27 रिवर सिस्टम से गुजरेगा क्रूज


यह क्रूज यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, बांग्लादेश और असम के कुल 27 रिवर सिस्टम से गुजरेगा। मुख्य तीन नदियां गंगा, मेघना और ब्रह्मपुत्र नदियां पड़ेंगी। क्रूज बंगाल में गंगा की सहायक और दूसरे नामों से प्रचलित भागीरथी, हुगली, बिद्यावती, मालटा, सुंदरवन रिवर सिस्टम, बांग्लादेश में मेघना, पद्मा, जमुना और फिर भारत में ब्रह्मपुत्र से आसाम में प्रवेश करेगा। भारत-बांग्लादेश प्रोटोकॉल की वजह से यह यात्रा बांग्लादेश को क्रॉस करेगी। क्रूज यात्री 15 दिनों तक बांग्लादेश में पर्यटन करेंगे।

क्रूज के सुइट में बना बेडरूम, जहां से आप गंगा और किनारे का आनंद ले सकते हैं। पर्यटक बेडरूम में बैठे-बैठे गंगा के सभी 84 तीर्थ घाटों का दर्शन कर सकते हैं।

क्रूज के सुइट में बना बेडरूम, जहां से आप गंगा और किनारे का आनंद ले सकते हैं। पर्यटक बेडरूम में बैठे-बैठे गंगा के सभी 84 तीर्थ घाटों का दर्शन कर सकते हैं।

यहां जाने 18 सुइट्स का किराया
गंगा विलास क्रूज का संचालन अंतरा लग्जरी रिवर क्रूज सर्विस के द्वारा किया जाएगा। गंगा विलास को अगले दो साल के लिए स्विस पर्यटकों के लिए बुक किया गया है। एक सुइट 38-38 लाख रुपए में बुक किए गए हैं।

यह किराया किसी एक पर्यटक ने नहीं, बल्कि कई पर्यटकों ने अलग-अलग डेस्टिनेशन के लिए रिजर्व किया है। 13 जनवरी को शुरू हो रहे दुनिया के सबसे लंबे नदी जलयात्रा में बनारस से डिब्रूगढ़ तक एक यात्री को 13 लाख रुपए चुकाने होंगे। 8 पेज के टिकट बुक पर लिखा है कि यह किराया US डॉलर या यूरो में ही मान्य होगा। वहीं, अलग-अलग ट्रेवेल स्लॉट के लिए किराया अलग-अलग है।

फिलहाल देश में वाराणसी और कोलकाता के बीच 8 रिवर क्रूज संचालित हो रहे हैं। इसके अलावा दूसरे राष्ट्रीय जलमार्ग (ब्रह्मपुत्र नदी) पर भी क्रूज का आवागमन जारी है।

Share this story