वाराणसी पुलिस के हाथ लगी बड़ी कामयाबी, 200 पेटी शराब के साथ तस्कर गिरफ्तार
https://www.youtube.com/watch?v=MHblK1mp0RA

Varanasi police caught the jackpot in a single day in catching the liquor smuggler and the animal smuggler


वाराणसी कमिश्नरेट की पुलिस ने मंगलवार को शराब और पशु तस्करों के खिलाफ नई दिल्ली-कोलकाता नेशनल हाईवे पर अभियान चलाकर कार्रवाई की। पुलिस की कार्रवाई के क्रम में पंजाब से बिहार ले जाई जा रही 14 लाख रुपए की अंग्रेजी शराब के साथ एक तस्कर पकड़ा गया।

 

 

वहीं, बिहार से कानपुर ले जाई जा रही 16 भैंस के साथ दो तस्कर दबोचे गए। तीनों आरोपियों को अदालत में पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।

 

 

200 पेटी शराब के साथ तस्कर गिरफ्तार

डीसीपी काशी जोन आरएस गौतम ने बताया कि इंस्पेक्टर रामनगर अश्विनी पांडेय को सूचना मिली थी कि नेशनल हाईवे पर प्रयागराज की ओर से डाक पॉर्सल का उत्तराखंड के रजिस्ट्रेशन नंबर का एक डीसीएम ट्रक आ रहा है।

उस ट्रक में अवैध शराब लदी हुई है। इस सूचना के आधार पर इंस्पेक्टर रामनगर ने क्राइम ब्रांच के दरोगा बृजेश कुमार मिश्रा व जितेंद्र कुमार सिंह और आबकारी विभाग के इंस्पेक्टर पवन कुमार मिश्र के साथ भीटी में विश्व सुंदरी पुल के समीप घेरेबंदी की।

डाक पॉर्सल वाहन की तलाशी में अंग्रेजी शराब की 200 पेटी बरामद हुई। बरामद शराब की कीमत 14 लाख रुपए है। वाहन से राजस्थान के बाड़मेर जिले के चोहटन क्षेत्र के जाटों की बस्ती निवासी जुंजा राम गिरफ्तार किया गया है।

जुंजा राम ने बताया कि वह शराब की खेप मोहाली से लेकर बक्सर जा रहा था। पूछताछ में जुंजा राम से मिली जानकारी के आधार पर शराब बनाने वाली मोहाली स्थित मैक डॉवेल कंपनी और इंपीरियल ब्लू कंपनी के अलावा वाहन स्वामी अंचल ट्रांसपोर्ट कंसट्रक्शन और सिरसा के राजेंद्र सिंह व उसके मुनीम के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है।

16 भैंस के साथ दो दबोचे गए

लंका थाने की रमना चौकी के प्रभारी अमित कुमार राय को सूचना मिली थी कि बिहार के रजिस्ट्रेशन नंबर का एक ट्रक प्रयागराज की ओर जा रहा है। उस ट्रक में भैंस लदी हुई हैं और उन्हें कानपुर पहुंचाया जाना है।

सूचना के आधार पर दरोगा अमित कुमार राय ने नुआंव पुल के समीप अपने सिपाहियों के साथ घेराबंदी की। ट्रक आने पर उसे पुलिस टीम ने रुकवाया तो तलाशी में 16 भैंस बरामद हुई और ड्राइवर व उसका सहयोगी पकड़े गए।

आरोपियों की शिनाख्त कौशांबी जिले के कसिया मूरतगंज, कोखराज निवासी मोहम्मद शरीफ और बिहार के औरंगाबाद जिले के बारुन के आफताब के तौर पर हुई है। दोनों ने बताया कि वह भैंसों को औरंगाबाद से लेकर कानपुर जा रहे थे। दोनों ट्रक से संबंधित कोई कागजात भी नहीं पेश कर सके।

Share this story