Varanasi Viral Bhoot Video: बाबा की नगरी में लोगों को डरा रहा भूत, छत की दीवार से नीचे उतरती सफेद परछाईं, क्या हैं सच्चाई!
Varanasi Viral Bhoot Video: Ghost is scaring people in Baba's city, white shadow descending from the wall of the roof

वाराणसी में दो दिन से लोगों द्वारा भूत देखने का दावा किया जा रहा है। भूत का वीडियो भी बनाया गया है। समें कोई सफेद कपड़ा पहनकर एक घट के छतों पर चल रहा है।

 

 

वहीं, जो लड़के दूसरे छत से वीडियो बना रहे, वे उसे गालियां भी दे रहे।

 

 

एक वीडियो में दिख रहा कि सफेद परछाई जैसी कोई आकृति छत की दीवार के सहारे नीचे भी उतर रही है। वीडियो देखने के बाद काशीवासी दहशत में हैं।

 

 

कह रहे हैं कि हमारी कॉलोनी के पूरे बच्चे डरे हुए हैं। ये बच्चे न पार्क में खेलने जा रहे और न ही घर के बाहर आ रहे।

 

 

 

यह स्क्रीनशॉट उस वायरल वीडियो के हैं। लोगों ने कहा कि इसमें पीले घेरे के बीच में भूत मकान की छत से दीवार के सहारे नीचे उतरते दिखाई दे रहा है।

 

 

यह मामला है वाराणसी के भेलूपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत बड़ी गैबी स्थित वीडीए कॉलोनी का। यहां के लोगों का कहना है पुलिस पड़ताल करके सच्चाई का पता लगाए,

 

 

क्योंकि हमारे बच्चों को बुखार हो रहा है। तबियत बिगड़ रही है। वीडियोज के वायरल होने के बाद पूरी कॉलोनी के लोगों में डर बैठ गया है। रात 8 बजे के बाद कोई यहां पर आता जाता नहीं दिख रहा है।

 

 

कॉलोनीवासी गणेश शर्मा ने प्लानिंग के साथ डाले गए हैं वीडियो।

 

 

 

वायरल है वीडियो

कॉलोनी के निवासी गणेश शर्मा ने कहा कि दो दिन पहले प्लान करके कॉलोनी के एक वाट्सग्रुप पर वीडियो डाले गए। पहले एक वीडियो डाला, जिसमें दिख रहा है कि कोई आकृति टहल रही है।

कुछ बच्चों ने कहा कि वीडियो उन्होंने बनाया। फिर कहा गया कि दूसरे लोगों ने ये वीडियो बनाए हैं। अब हम पुलिस से जांच और कार्रवाई की मांग करेंगे।

स्थानीय लोगों ने कहा कि डर के मारे उनके बच्चे बीमार हो रहे हैं।

छत पर चलते-चलते गायब भी हो रहा था

एक स्थानीय ने कहा कि एक-एक कर दो दिन में तीन वीडियो डाले गए। उन वीडियो डालने वालों से जब पूछताछ हुई, तो पता चला कि वे इसी कॉलोनी के थें।

उन्होंने बताया कि उन्हें रात के टाइम भूत दिखा था। छत पर चलते हुए देखा है। बीच-बीच में गायब भी हो जा रहा था। वह छत से दीवार के रास्ते नीचे उतर रहा था।

उसने कहा कि डर की वजह से मेरी बच्ची को बुखार हो गया था।

वीडीए कॉलोनी में रहने वाली अनीता शाही ने कहा कि डर के मारे उनके बच्चे पार्क में खेलने भी नहीं जा रहे।


 

शरारती है या सच में भूत पुलिस करे जांच

कॉलोनी की एक महिला ने कहा कि रात में वीडियो बनाया गया और सुबह वीडियो डाले गए। इस मामले की पुलिस की शिकायत करेंगे।

पूरी कॉलोनी के लोगों ने एक शिकायत पत्र पर हस्ताक्षर करके FIR दर्ज कराएंगे। इस साजिश या अफवाह के पीछे जो लोग भी हैं उन सभी पर कार्रवाई करने की गुजारिश की जाएगी। अगर, यह किसी की शरारत है तो दोषियों को सजा हो। 

यहाँ देखें वायरल विडियो...


 

आखिर क्या है सच्चाई


वैसे तो काशी बाबा विश्वनाथ की नगरी है तो यहां सभी का निवास रहता ही है। लेकिन वीडियो में जो भूत दिख रहा है उसके बारे में अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।

जहां तक देखा जा रहा है तो प्रथम दृष्टया यही प्रतीत हो रहा है कि यह किसी शरारती तत्वों की शरारत है। वही वाराणसी पुलिस कमिश्नरेट के डीसीपी काशी आरएस गौतम ने वायरल वीडियो को लेकर बताया कि यह घटना पूरी तरह से शरारत है।

क्योंकि जिस जगह पर भूत देखने का दावा किया जा रहा है। उस जगह पर पहले कभी भूत नहीं देखा गया था। और न ही वहाँ के लोगो को उस जगह से भय लगता था।

वीडियो की जांच में पता चला है कि नजदीक के बजरडीहा मोहल्ले के एक व्यक्ति ने चादर ओढ़कर वीडियो बना लिया और उसे वायरल कर लिया।  क्योकि आज कल सोशल मीडिया व इंटरनेट की दुनिया है कुछ भी बहुत आसानी से वायरल हो जाता है।

इस संबंध में कुछ लड़कों को पहचान की गई है। जल्दी इस मामले में कार्रवाई की जाएगी।  डीसीपी ने लोगों से अपील की है कि वाराणसी में ऐसी कोई घटना नहीं हुई है।  

इस वायरल वीडियो को न तो लाइक करें और न ही कई फॉर्वर्ड करें। वीडियो वायरल करने के लिए बनाया गया था। 

National Cinema Day: आज वाराणसी के किसी भी सिनेमा हॉल में देखें फ़िल्म, नहीं खर्च करना होगा ज्यादा पैसा

National Cinema Day: आज वाराणसी के किसी भी सिनेमा हॉल में देखें फ़िल्म, नहीं खर्च करना होगा ज्यादा पैसा

वाराणसी। आज नेशनल सिनेमा डे है। इस खास मौके पर आज मल्टीप्लेक्स एसोसिशन ने देश भर के सिनेमा घरों में मात्र 75 रुपए में फिल्म दिखाने का निर्णय लिया है।

इस खास अवसर पर वाराणसी सिनेमा एक्सहिबीटर्स एसोसिएशन ने भी काशीवासियों को 75 रुपए में फिल्म दिखाने का निर्णय लिया है।

दरअसल, कोरोना महामारी और फिर ओटीटी के कारण सिनेमा हाल से दूर हुए दर्शकों को एक बार फिर वापस खींचने के लिए यह निर्णय लिया गया है। 

कौन-कौन सी फिल्म दिखाई जाएगी

ब्रह्मास्त्र, जहां चार यार, मिडल क्लास लव, सरोज का रिश्ता, धोखा: राउंड द कॉर्नर, प्रेम गीत 3, चुप: रिवेंज ऑफ द आर्टिस्ट, KGF: Chapter 2, RRR, विक्रम, भूल भुलैया 2 और हॉलीवुड की डॉक्टर स्ट्रेंज 2, टॉप गन: मेवरिक।

कैसे मिलेगा 75 रुपए में टिकट

वाराणसी सिनेमा एक्सहिबीटर्स एसोसिएशन के सचिव मनीष तलवार ने बताया कि सिनेमा हॉल के बाहर से टिकट खरीदना होगा। इसके अलावा ऑनलाइन माध्यम से भी टिकट खरीदा जा सकता है,

लेकिन उसके लिए जीएसटी और इंटरनेट फीस का चार्ज भी अलग से देना होगा। 

ख़बरदार...होशियार! होश में आयें हिन्दू धर्म के लोग, विधर्मियों से न खरीदें व्रत व पूजा पाठ की सामग्री

अखिल भारतीय संत समिति के महासचिव स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने वाराणसी में गुरुवार को कहा कि सनातन हिंदू धर्म के लोग व्रत और पूजा की सामग्री विधर्मियों से न खरीदें। उन्होंने कहा कि पितृ पक्ष के संपन्न होते ही हमारे तीज-त्योहारों का सिलसिला शुरू हो जाएगा।

अकसर वीडियो सामने आते रहते हैं कि फल और अन्य सामग्रियां बेचने वाले विधर्मी उन पर थूकते हुए या गंदा पानी फेकते नजर आ जाते हैं।

इसलिए सनातन हिंदू धर्म के अनुयायी खुद की पवित्रता को बचाए रखने के लिए व्रत और पूजा की सामग्री विधर्मियों से न खरीदें। अखिल भारतीय संत समिति यह अपील करती है कि दूध, फल, वस्त्र या पूजा से जुड़ी अन्य सामग्रियां सिर्फ सनातन हिंदू धर्म के अनुयायियों से ही खरीदी जाए।

मदरसों और वक्फ संपत्ति के सर्वे का स्वागत

स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि मदरसों और वक्फ संपत्ति के सर्वे के निर्णय का स्वागत करते हुए अखिल भारतीय संत समिति उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देती है। प्रश्न यह उठता है कि जब देश का विभाजन धर्म के आधार पर हुआ था।

मुसलमानों ने यह कहा था कि हम हिंदुओं के साथ नहीं रह सकते हैं। इसी आधार पर भारत माता के दो टुकड़े किए गए। फिर, हिंदुस्तान में वक्फ के नाम पर किस प्रकार की संपत्ति बच गई। हम भारत सरकार से यह मांग करते हैं कि वक्फ एक्ट 1995 को तत्काल रद्द किया जाए।

साथ ही ऐसी संपत्तियां जो वक्फ के नाम से दर्ज हैं उनकी जांच हो कि उन्हें आखिरकार किसने और कब दान दिया था। हिंदुस्तान में 16 लाख एकड़ से ज्यादा जमीन वक्फ के नाम पर दर्ज है। यह भी गजवा-ए-हिंद का एक पार्ट है। इसलिए वक्फ एक्ट को तत्काल रद्द किया जाना चाहिए।

डांडिया और गरबा नृत्य के दौरान सतर्क रहें

स्वामी  जितेंद्रांनद सरस्वती ने कहा कि आगामी नवरात्रि के दिनों में गरबा नृत्य और डांडिया का आयोजन होता है। बीते सालों में देखने में आया है कि विधर्मी अपनी पहचान छुपा कर हाथ में कलाबा बांध कर डांडिया और गरबा समूहों में घुस कर लव जिहाद का प्रयास करते हैं।

ऐसी परिस्थितियों में हम सबकी जिम्मेदारी है कि हम सनातन हिंदू धर्म के लोग स्त्री स्वाभिमान की रक्षा करें। अखिल भारतीय संत समिति गरबा और डांडिया आयोजित करने वालों से अपील करती हैं कि वह सतर्क होकर आयोजन कराएं।

चेक कराएं कि कोई विधर्मी गरबा या डांडिया में तो शामिल नहीं हुआ है। साथ ही हम विधर्मियों को चेतावनी भी देते हैं कि वो ऐसा कोई काम न करें कि उनके साथ कोई दुर्घटना हो।

Share this story