आधारभूत उद्योगों, माल परिवहन तथा परामर्शदाता समूह के साथ उद्योग सहयोगी शिक्षा विषय पर कार्यशाला का किया गया आयोजन
आधारभूत उद्योगों, माल परिवहन तथा परामर्शदाता समूह के साथ उद्योग सहयोगी शिक्षा विषय पर कार्यशाला का किया गया आयोजन


वाराणसी। महाप्रबंधक बरेका एवं कुलपति, राष्ट्रीय रेल एवं परिवहन संस्थान (एनआरटीआई) वडोदरा अंजली गोयल ने अभिषेक चौधरी, उपाध्यक्ष, कारपोरेट अफेयर्स, राष्ट्रीय औद्योगिक कॉरिडोर विकास निगम तथा विभिन्न उद्योगों के विशेषज्ञों एवं गति शक्ति मिशन में शामिल आधारभूत उद्योगों, माल परिवहन तथा परामर्शदाता समूह के साथ उद्योग सहयोगी शिक्षा विषय पर विचार विमर्श एवं कार्यशाला का आयोजन किया गया।


भारत सरकार की गति शक्ति योजना को बढ़ावा देने हेतु आयोजित होने वाली कार्यशालाओं के क्रम में उद्योग सहयोगी शिक्षा विषय पर आयोजित यह अपनी तरह का पहला एवं अनूठा प्रयास था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कल्पना की उपज एनआरटीआई यातायात संबंधी शिक्षा पर केंद्रित पहला भारतीय विश्वविद्यालय है। यह रेलवे एवं अन्य यातायात के लिए अपने क्षेत्र के सर्वश्रेष्ठ प्रोफेशनल उपलब्ध कराने वाला संस्थान बनेगा।

एनआईसीडीसी ने प्रधानमंत्री गति शक्ति राष्ट्रीय योजना,राष्ट्रीय औद्योगिक कॉरिडोर योजना, यातायात डाटा बैंक एवं एकीकृत यातायात इंटरफ़ेस प्लेटफार्म के विषय में बताया। इस विचार विमर्श में मिशन गति शक्ति से उत्पन्न होने वाले विशाल रोजगार अवसरों के बारे में भी चर्चा हुई।

इस चर्चा में उद्योग क्षेत्र के दिग्गजों ने यातायात तथा परिवहन के क्षेत्र में इंजनियरिंग, योजना, प्रबंधन एवं यातायात प्रणाली से संबंधित वांछित दक्षता वाले प्रोफेशनल्स की कमी के बारे में बताया।

सघन चर्चा परिचर्चा एवं विचार विमर्श से आधारभूत इंजीनियरिंग, योजना, जी आई एस प्लानर, सिस्टम इंटीग्रेटर, परिवहन समन्वयक, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एवं मशीन लर्निंग दक्षता, अर्बन प्लानर माल परिवहन प्रबंधक, आधारभूत परियोजना अप्रेजल, वित्त, यातायात संरचना प्लानर, ई- निविदा तथा ई,-जेम इत्यादि क्षेत्रों में यातायात एवं परिवहन प्रोफेशनल्स की बढ़ती आवश्यकताओं को समझने में मदद मिली।


अंजली गोयल ने बताया कि एनआरटीआई यातायात, परिवहन, आधारभूत क्षेत्र की  आवश्यकताओं के अनुरूप रोजगार उन्मुख शिक्षण प्रदान कर कुशल प्रोफेशनल्स की कमी को पूरा करेगी। ये प्रोफेशनल्स यातायात एवं परिवहन के क्षेत्र में उत्पन्न होती चुनौतियों का सामना करने के लिए सदैव तत्पर रहेंगे। इसके साथ ही एनआरटीआई उद्योगों की परियोजनाओं को लागू करने एवं अध्ययन करने का अवसर भी प्रदान करेगी। एनआरटीआई का लक्ष्य एनआईसीडीसी का नॉलेज पार्टनर बनना  है।


इस विचार विमर्श के संबंध में विभिन्न उद्योगों के प्रतिनिधियों ने एनआरटीआई द्वारा कुशल प्रोफेशनल्स मुहैया कराने की इस मुहिम की सराहना की। उन्होंने भविष्य में एनआरटीआई से संबद्ध रहने तथा छात्रों को नियुक्ति प्रदान करने एवं इंटर्नशिप कराने में सहयोग करने की सहमति भी प्रदान की।


उद्योगों की वांछित तकनीकी आवश्यकताओं के दृष्टिगत प्राप्त बहुमूल्य सुझावों को नोट किया गया तथा आगामी सत्र में इसे कोर्स में शामिल किया जाएगा।
 

Share this story