वाराणसी में आठ स्थानों पर लगेंगे “मेगा ब्लड डोनेशन कैंप”
“Mega Blood Donation Camp” will be organized at eight places in Varanasi

 वाराणसी। रक्तदान सामाजिक एकजुटता का प्रतीक है, प्रयास में सम्मिलित होकर जीवन बचाएं इसी स्लोगन के साथ जिले में 17 सितंबर को 8 स्थानों पर ‘मेगा ब्लड डोनेशन शिविर लगेंगे। साथ ही अन्य स्थानों पर भी रक्तदान कार्यक्रमों का आयोजन होगा। रक्तदान कार्यक्रमों का यह सिलसिला एक अक्टूबर तक चलेगा।


मेगा ब्लड डोनेशन कैम्प की तैयारियों के सिलसिले में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संदीप चौधरी ने मंगलवार को ब्लड बैंक संचालकों, चिकित्सा प्रभारियों व अन्य अधिकारियों के साथ अपने कार्यालय में बैठक की। बैठक में मेगा ब्लड डोनेशन कैम्प को सफल बनाने के लिए संबंधित स्थानों के लिए ब्लड बैंक संचालकों की जिम्मेदारी तय की गई।

बैठक में तय हुआ कि 17 सितम्बर को ईएसआईसी हास्पिटल पाण्डेयपुर, आईएमए, बीएचयू, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बड़गांव (बसनी), प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चिरईगांव, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र काशी विद्यापीठ, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोलापुर व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हाथी बाजार में मेगा ब्लड डोनेशन कैम्प का आयोजन किया जायेगा।

ईएसआईसी हास्पिटल पाण्डेयपुर में लगने वाले कैम्प की जिम्मेदारी पंडित दीन दयाल उपाध्याय चिकित्सालय के ब्लड बैंक की टीम की होगी। 


आईएमए में लगने वाले शिविर की जिम्मेदारी आईएमए, बीएचयू में लगने वाले कैम्प की जिम्मेदारी बीएचयू ब्लड बैंक, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बड़गांव के कैम्प की जिम्मेदारी पापुलर हास्पिटल, प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र चिरईगांव के कैम्प की एपेक्स हास्पिटल, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र काशी विद्यापीठ के कैम्प की एसएसपीजी के ब्लड बैंक की, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चोलापुर कैम्प की इंद्रा हास्पिटल ब्लड बैंक की व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हाथी बाजार में लगने वाले ब्लड डोनेशन कैम्प की जिम्मेदारी हेरिटेज मेडिकल कालेज के ब्लड बैंक की टीम संभालेगी।

बैठक में सीएमओ ने आईएमए सहित निजी चिकित्सालयों के ब्लड बैंक प्रभारियों से अनुरोध किया कि रक्तदान करने वाली स्वयं सेवी संस्थाओं के माध्यम से समस्त संसाधनों सहित तैयारियों को पूर्ण कर मेगा रक्तदान शिविर को सफल बनायें।    

सीएमओ ने कहा कि आपके एक यूनिट रक्तदान से तीन लोगों की जिंदगी बच सकती है। इसलिए इसके प्रति समाज में सभी लोगों को जागरूक होना चाहिए और रक्तदान में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि रक्तदान को लेकर अभी भी लोगों को भ्रम रहता है कि रक्तदान करने से उनका शरीर कमजोर हो जायेगा। रक्तदान के प्रति ऐसी धारणा पूरी तरह गलत है। उन्होने अपील की है कि रक्तदान सभी को करना चाहिए।

रक्तदान करके आप दूसरों की तो जिंदगी बचा सकते हैं। खुद को भी कई गंभीर बीमारियों से बचा सकते हैं। रक्तदान करने से मोटापा, ब्लड प्रेशर यहां तक कि दिल की बीमारी जैसे अन्य कई रोगों के होने का खतरा कम हो जाता है। लिहाजा रक्तदान करने के लिए सभी को बढ़चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए। बैठक में नोडल अधिकारी डा. एके मौर्य, डा. एसएस कनौजिया, डा. अतुल सिंह, ड्रग इंस्पेक्टर अमित बंसल समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Share this story