वाराणसी में राष्ट्रीय समता पार्टी ने पोस्टर जारी कर ओम प्रकाश राजभर को बताया 'ठग', कहा- 27 सितंबर को बनारस नहीं आने देंगे...
वाराणसी में राष्ट्रीय समता पार्टी ने पोस्टर जारी कर ओम प्रकाश राजभर को बताया 'ठग', कहा- 27 सितंबर को बनारस नहीं आने देंगे...

सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर के बेहद करीबी रहे शशि प्रताप सिंह अब उनके खिलाफ सड़क पर उतर गए हैं। राष्ट्रीय समता पार्टी के संयोजक शशि प्रताप सिंह ने वाराणसी में मंगलवार को पोस्टर जारी कर ओम प्रकाश को 'ठग' घोषित किया।

 

उन्होंने कहा कि ओम प्रकाश राजभर ने राजभरों के साथ ही पिछड़ों, शोषितों और वंचितों को ठगने के अलावा कुछ नहीं किया है। पूर्वांचल में ठगी के बाद अब वह बिहार के लोगों को ठगने की जुगत में लगे हुए हैं।

 

 

शशि प्रताप सिंह ने कहा कि आगामी 27 सितंबर को कार्यक्रम के लिए आ रहे ओम प्रकाश राजभर को बनारस में घुसने नहीं देंगे। जिस सड़क से ओम प्रकाश राजभर आएंगे उस पर हमारे कार्यकर्ता काला झंडा और ठग राजभर का पोस्टर लेकर उन्हें घेरेंगे। यदि वह मंच पर पुलिस की मदद से पहुंच भी गए तो उन्हें भाषण नहीं देने देंगे।

 

 

बनारस को ठग कर वह बलिया चले गए। ऐसे ठग नेता की बनारस और पूर्वांचल के लोगों को जरूरत नहीं है। अब राजभर समाज के लोग ही ओम प्रकाश राजभर की असलियत को जन-जन के बीच उजागर करेंगे। परिवारवादी और भ्रष्टाचारी ओम प्रकाश राजभर व उनके बेटे पूर्वांचल के साथ ही बिहार में भी बुरी तरह असफल साबित होंगे।

काशी में लम्पीवाइरस के प्रकोप को खत्म करने के लिए हुआ यज्ञ

देश में तेजी से लम्पीवाइरस का खतरा बढ़ता जा रहा है जिसे तमाम राज्यों से गायों के बीमार होने की खबरें सामने आ रही हैं। धर्म अध्यात्म की नगरी काशी में आज इस वायरस को पूर्ण रूप से समाप्त हो,

इस संकल्प के साथ महामृत्युंजय मंत्र एवं गायत्री मंत्र का जप निरंजनी अखाड़ा कार्तिकेयजी काशी में बीएचयू के डॉक्टर सुनील कुमार द्वारा किया गया डॉक्टर सुनील ने बताया कि देश में तेजी से लम्पी वायरस का प्रकोप बढ़ रहा है। 

और हमारी गौ माताओं को यह अपने चपेट में ले रहा है उन्होंने संकल्प के साथ महामृत्युंजय मंत्र , गायत्री मंत्र का जप किया और हवन किया और भगवान से प्रार्थना की है कि जल्द से जल्द इस वायरस से मुक्ति मिले। 

डाक्टर सुनील ने कहा कि उन्होंने कहा कि देश में लम्पीवायरस बढ़ रहा है जिसके चलते तमाम गौ माताओं की मृत्यु हो रही है। उन्होंने कहा कि मैं मानता हूं कि रोग के निवारण के साथ साथ दैविक कृपा की भी आवश्यकता होती है। इसी सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए।

हमने आज महामृत्युंजय मंत्र और गायत्री मंत्र का जप का यह पूरा कार्यक्रम पांच ब्राह्मणों द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा  माध्यम से हमने यह कामना की है कि जल्द से जल्द हमारी गौ माताओं को इस वायरस से मुक्ति मिले। 

उन्होंने कहा कि इस कामना के साथ हमने तमाम साधु-संतों उसे इस बात पर चर्चा की है एवं मठ के मठाधीश समुंदरपुरी के सहयोग से यह कार्यक्रम सफल हुआ है। कार्यक्रम के उपरांत एक भव्य भंडारे का आयोजन किया गया जिसमें तमाम साधु-संतों ने प्रसाद ग्रहण किया।

Share this story