×
वाराणसी में आबकारी विभाग का छापा, 55 लीटर कच्ची शराब संग दो गिरफ्तार
वाराणसी में आबकारी विभाग का छापा, 55 लीटर कच्ची शराब संग दो गिरफ्तार

चौबेपुर वाराणसी। क्षेत्र के कादीपुर रेलवे स्टेशन के सामने कंजड़ बस्ती में आबकारी टीम ने छापा मारकर 350 कुंतल लहन 55 लीटर देशी कच्ची शराब के साथ दो महिलाओं को गिरफ्तार किया है।आबकारी निरीक्षक रमेश यादव ने बताया कि आबकारी आयुक्त के निर्देशन में जिला आबकारी अधिकारी के द्वारा बनाई गई आबकारी तथा प्रवर्तन इकाई की टीम ने रविवार को प्रातः 8 बजे कादीपुर स्टेशन के सामने परानापुर कंजड़ बस्ती छापा मारकर 55 लीटर कच्ची शराब के साथ दो महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया।इस दौरान बरामद 350 किलोग्राम लहन व उपकरण मौक़े पर ही नष्ट कर दिया।मुकदमा पंजीकृत कर दोनों महिलाओं को बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया।

मुस्तफाबाद के देवव्रत हुए साइबर क्राइम के शिकार,  ठगों ने उनके खाते से उड़ाए लाखों रुपये,पन्द्रह हजार रुपये वापस पाने के चक्कर में खाली हो गया खाता

 

वाराणसी।  प्रशासन के बार-बार जागरूक करनें के बाद भी लोग साइबर क्राइम के शिकार हो जा रहे हैं।ऐसा ही एक मामला चौबेपुर थाना क्षेत्र के मुस्तफाबाद ग्राम सभा का प्रकाश में आया है।स्थानीय निवासी देवव्रत सिंह के बैंक खातें से 386995 रुपये (तीन लाख छियासी हजार नौ सौ पन्चानवे रुपये) ठगों ने उड़ा दिया।देवव्रत नें बताया कि वह गूगल-पे से 15000 (पन्द्रह हजार रुपये)अपने एक मित्र को भेज रहे थे। 

जो मोबाइल में तकनीकी खराबी के कारण दूसरे ब्यक्ति को चला गया वह पैसा वापस लेने के लिए मैंने  यूनियन बैंक का एक नंबर आनलाइन निकाला जिसपर फोन किया तो रिंग होने के बाद फोन कट गया। कुछ समय बाद उक्त नंबर से फोन आया और उसने बोला कि मैं यूनियन बैंक का मैनेजर बोल रहाँ हूँ आपकी क्या समस्या है। तो मैंने  नें बताया कि मैं गूगल-पे से  अपनें एक साथी को 15000 रुपये भेज रहा था जो दूसरे ब्यक्ति को चला गया।

तो उसने कहा कि अपनें मोबाइल में एक एनीडेक्स ऐप लोड करके उसका ओटीपी हमें बताओ। उसके कहें अनुसार ऐप डाउनलोड कर ओटीपी उसे बता दिया।और उसने कहाँ कि आप का पैसा वापस कर दे रहे हैं। लगभग एक घण्टे तक फोन पर इधर-उधर की बातें करता रहाँ और बोला की आपका पैसा वापस हो गया है अपना खाता चेक कर लो।

देवव्रत नें जब अपना खाता चेक किया तो उनके होश फाख्ता हो गये। उनके खाता नंबर से सारे रुपये गायब हो गये।उन्होंने बताया की उनके खाते में केवल 35 रुपये बचा है।तीन लाख छियासी हजार नौ सौ पन्चानवे रुपये उनके खातें से गायब हो गये।

इसकी तत्काल सूचना उन्होंने यूनियन बैंक की शाखा में दी और वहाँ से डिटेल्स लेकर साइबर क्राइम आफिस पहुँचे वहाँ उन्होंने प्रार्थना पत्र दिया और चौबेपुर थाने जाकर एफआईआर दर्ज कराया है।घटना 31अक्टूबर की है और एफआईआर 4 नवम्बर को दर्ज कराया गया है।उन्होंने बताया की वह पड़ाव पर रहते हैं और उनका खाता यूनियन बैंक के चाँदपुर मुस्तफाबाद शाखा में है।

Share this story