बच्चे हमारी जागरूकता के प्रोत्साहन का मार्ग बन सकतें हैं- जिलाधिकारी
बच्चे हमारी जागरूकता के प्रोत्साहन का मार्ग बन सकतें हैं- जिलाधिकारी

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा की अध्यक्षता में बुधवार को कैम्प कार्यालय में स्टूडेंट्स पुलिस काॅडेट (एसपीसी) कार्यक्रम से सम्बंधित बैठक हुआ। एसीपी (महिला अपराध एवं मुख्यालय) ने बताया कि वाराणसी में कुल 35 विद्यालय में यह कार्यक्रम चल रहा है। जिसमें से 28 ग्रामीण एवं 7 शहरी क्षेत्रों में है। कार्यक्रम के अन्तर्गत कक्षा 8 व 9 के बच्चों को लिया जाता है और उन्ही के द्वारा जन जागरूकता के द्वारा समाज को प्रेरित किया जाता है।

कार्यक्रम के अंतर्गत बच्चों को ट्रेफिक के नियम एवं चिन्ह रटवाने, धूम्रपान निषेध, आपदा प्रबंधन आदि के नियमों से जागरूक करके उनके द्वारा समाज में जनजागरूकता फैलाने का निर्देश दिया गया। कार्यक्रम में स्काउट गाइड स्कूलों को भी शामिल करने का निर्देश दिया। हर थाने में 2-3 स्कूलों को लिया जाने का निर्देश दिया और उनके द्वारा बच्चों को बृद्धा आश्रम नारी निकेतन, कोर्ट केस, ट्रेफिक चौराहों का भ्रमण कराकर उनके द्वारा समाज को जागरूक करने का निर्देश दिया।

आपदा प्रबंधन के अन्तर्गत बाढ़, भूकंप, आग द्वारा कैसे बचा जाए, इसके लिए एनडीआरएफ द्वारा बच्चों को जागरूक एवं प्रशिक्षण देकर समाज को जागरूक किये जाने का निर्देश दिया। जनजगरूता के लिए पम्पलेट बांटने का निर्देश दिया। सितंबर महीने में ही इस कार्यक्रम के तहत एक एक्टीविटी कराने का निर्देश दिया और साथ ही बताया कि अक्टूबर माह में आपदा प्रबंधन माह होने पर आपदा प्रबंधन से संबंधित एक्टीविटी कराने का निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि जिस स्कूल के नजदीक बृद्धा आश्रम, अनाथालय, नगर निगम, आंगनवाड़ी, आईटीआई आदि हों, उनका भ्रमण कराया जाय। साथ ही कहा कि बच्चे हमारी जागरूकता के प्रोत्साहन का मार्ग बन सकतें हैं। एसीपी ने बताया कि इस कार्यक्रम से जुड़े हुए बच्चों को पुलिस विभाग के द्वारा साल के अन्त में प्रमाणपत्र पुलिस लोगो के साथ दिया जाएगा।

जिलाधिकारी नई निर्देशित किया कि सर्किल आफिसरों को नोडल अधिकारी बनाया जाए और सिविल डिफेंस,चेयरमैन को जोड़ने का निर्देश दिया।

Share this story