मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी मंडल के विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की गहन समीक्षा की
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी मंडल के विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की गहन समीक्षा की

मिशन मोड में पात्रता की श्रेणी में आने वाले शत- प्रतिशत लोगों को निःशुल्क बूस्टर डोज लगवाया जाए- योगी आदित्यनाथ

अधिकारी नियमित रूप से अपने-अपने कार्यालयों में उपस्थित रहकर जनसुनवाई करें और जनता की समस्याओं का निस्तारण करें

प्रधानमंत्री आवास (शहरी) में कतिपय शिकायतों पर मुख्यमंत्री गंभीर, अधिकारियों को दिए सख्त निर्देश

प्रधानमंत्री आवास (शहरी) में लाभार्थियों का चयन पूरी पारदर्शिता एवं ईमानदारी से सुनिश्चित किया जाए

जनपदों में बाढ़ एवं सूखा से निपटने के लिए पूरी तैयारी रखी जाए-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने हर घर तिरंगा अभियान का औपचारिक शुरुआत की

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिवसीय वाराणसी दौरे पर गुरुवार को वाराणसी पहुंचे तथा कमिश्नरी सभागार में विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की मंडलीय समीक्षा बैठक कर अधिकारियों को कड़े आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जिन परियोजनाओं पर कार्य शुरू है, उन्हें युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर प्राथमिकता पर पूरा कराएं। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंडल के जनपदों के जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कोविड-19 के दृष्टिगत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सबको प्रिकॉशनरी डोज लगवाए जाने हेतु आह्वान किया है।

इसलिए इसका व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार कर मिशन मोड में पात्रता की श्रेणी में आने वाले शत-प्रतिशत लोगों को निशुल्क बूस्टर डोज लगवाया जाए। जनपदों के जिलाधिकारी संभावित बाढ़ एवं सूखा के दृष्टिगत समुचित तैयारी रखें। 10 करोड़ की लागत से अधिक एवं उससे कम लागत की भी निर्माणाधीन परियोजनाओं का नियमित रूप से मानिटरिंग सुनिश्चित किया जाए। कार्यों में गुणवत्ता एवं समयबद्धता का विशेष ध्यान रखा जाए। किसी भी स्तर पर सफलता एवं लापरवाही पाए जाने पर कार्यदायी संस्थाओं के विरुद्ध शीघ्र कार्रवाई सुनिश्चित किया जाए।

मनरेगा के अंतर्गत 100 फ़ीसदी बायोमेट्रिक कार्रवाई सुनिश्चित किया जाए। किसी भी स्तर पर कोई लापरवाही न हो और किसी को भी असुविधा नहीं होनी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि हर घर तिरंगा अभियान के अंतर्गत आमजन से लोगों को जुड़ना होगा। जल जीवन मिशन के अंतर्गत गुणवत्ता युक्त कार्य संपन्न किया जाए। इसके अंतर्गत पेयजल आपूर्ति शुद्धता के साथ सुनिश्चित होनी चाहिए। इसके लिए नोडल अधिकारियों की भी तैनाती सुनिश्चित किया जाए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि इसमें कतिपय शिकायतें मिल रही है। जिलो के जिलाधिकारी इसे गंभीरता से लें। लाभार्थियों का चयन पूरी पारदर्शिता एवं ईमानदारी के साथ सुनिश्चित हो। इसमें किसी भी स्तर पर गड़बड़ी मिले तो संबंधितो के विरुद्ध कठोर कार्रवाई प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किया जाए। गो आश्रय स्थलों को प्राकृतिक खेती से जोड़े जाने पर विशेष जोर दिया। स्कूल चलो अभियान के अंतर्गत निर्धारित आयु सीमा का कोई भी बच्चा विद्यालय जाने से वंचित न रहने पाए। उन्होंने गांव, नगर एवं जनपद को आत्मनिर्भर बनाए जाने हेतु विशेष जोर देते हुए शिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों को विशेष रूचि लेने तथा कार्रवाई किए जाने पर विशेष जोर दिया।

प्रत्येक जनपद में रोजगार मेले का प्रभावी आयोजन किया जाए। रोजगार मेले में अधिक से अधिक बेरोजगार युवाओं को आमंत्रित किया जाए और उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जाए। इसमें किसी भी दशा में खानापूर्ति नहीं होनी चाहिए। प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना अंतर्गत घरोनी कार्य को गंभीरता से लिए जाने पर विशेष जोर देते हुए उन्होंने कहा कि यह गरीब एवं आमजन से जुड़ा अभियान है। यह जहां लोगों को अपने घरों का स्वामित्व प्रदान करता है, वही अपराध नियंत्रण में भी इसकी महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि धर्म स्थलों से ध्वनि विस्तारक यंत्रों को उतरवाने अथवा उनकी आवाज को नियंत्रित किए जाने के संबंध में सरकार द्वारा चलाए गए अभियान को इतिश्री न समझा जाए। यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है।

पुलिस अधिकारी इस पर पैनी नजर रखें और निरंतर कार्यवाही सुनिश्चित करते रहे। अवैध बस एवं ऑटो स्टैंड किसी भी दशा में संचालित नहीं होने चाहिए। कहीं भी अवैध तरीके से संचालित है, तो इसे कड़ाई से बंद कराया जाए। मुख्यमंत्री ने अवैध वसूली पर कड़ा रुख अख्तियार करते हुए पुलिस अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि अवैध वसूली किसी भी दशा में नहीं होनी चाहिए। पुलिस थाना, सीओ एवं एसडीएम स्तर से इस पर पूरी तरह निगरानी रखी जाए और ऐसे लोगों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने जन शिकायती प्रार्थना पत्रों एवं आईजीआरएस पर प्राप्त होने वाले शिकायती प्रार्थना पत्रों का निस्तारण गुणवत्ता के साथ समयबद्ध निस्तारण किए जाने पर विशेष जोर देते हुए अधिकारियों को इसकी नियमित मॉनिटरिंग किए जाने का निर्देश दिया। शिकायती प्रार्थना पत्रों के निस्तारण में खानापूर्ति किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सभी अधिकारी अपने-अपने कार्यालयों में समय से बैठे और जनता की समस्याओं को सुने और उसका प्राथमिकता पर निस्तारण सुनिश्चित करें। जनप्रतिनिधि क्षेत्र भ्रमण के दौरान जनता की समस्याओं को अवश्य सुने और उसका निस्तारण सुनिश्चित करवाएं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जनप्रतिनिधियों के साथ उनका नियमित संवाद होना चाहिए। जनप्रतिनिधियों के टेलीफोन अवश्य रिसीव किए जाए।

मुख्यमंत्री ने उद्यमियों की समस्याओं के निस्तारण एवं शासन स्तर से संचालित योजनाओं का लाभ उन्हें समय से और प्राथमिकता पर उपलब्ध कराए जाने पर विशेष जोर देते हुए जिला उद्योग बंधु की बैठक करने तथा उसमें उद्यमियों द्वारा उठाए गए समस्याओं का शीघ्र निस्तारण सुनिश्चित कराए जाने पर विशेष जोर दिया। काशी में पर्यटन विकास की असीम संभावना होने की चर्चा करते हुए उन्होंने अधिकारियों को इस दिशा में विशेष ध्यान दिए जाने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सही विद्युत बिलों का प्रेषण सही ढंग से नहीं हो रहा है। प्रायः अधिक धनराशि के बिल की शिकायतें मिल रही है। यह गंभीर विषय है। पावर कारपोरेशन स्तर पर इसका गंभीरता से नियमित रूप से समीक्षा किया जाए और यह सुनिश्चित कराई जाय कि सही मूल्य के ही विद्युत बीजक जन सामान्य को उपलब्ध कराए जाएं।

मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान बड़े एवं शातिर अपराधियों के विरुद्ध कोई कोर कसर न छोड़े जाने की पुलिस अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि ऐसे लोगों के विरुद्ध अभियान चलाकर कार्रवाई सुनिश्चित किया जाए। विगत 5 वर्षों में निश्चित रूप से पुलिस की छवि सुधरी है, फिर भी अभी इसमें और सुधार की गुंजाइश है। पुलिस की छवि आम जनमानस में अच्छी रहे, इसके लिए छोटी से छोटी सूचनाओं को पूरी गंभीरता से लिया जाए तथा त्वरित कार्रवाई सुनिश्चित किया जाए। हर घर तिरंगा कार्यक्रम के अंतर्गत जनपदों के शहीद स्मारकों पर पुलिस एवं पीएसी के बैंड बजाए जाए। 

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा जनप्रतिनिधियों से उनकी समस्याएं पूछे जाने पर मंत्री दयाशंकर मिश्र "दयालु" ने सामूहिक विवाह में दिए जाने वाले धनराशि का मुद्दा उठाया। वाराणसी पिंडरा विधानसभा के विधायक डॉ अवधेश सिंह ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत कतिपय अधिकारियों की लापरवाही का जिक्र करते हुए कहा बार-बार कहे जाने के बावजूद अधिकारी गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। विधायक कैंट विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने रामनगर नगर पालिका क्षेत्र के वे क्षेत्र जो नगर निगम क्षेत्र में आ चुके हैं, उन क्षेत्रों में साफ-सफाई के साथ बुनियादी आवश्यकताओं की समुचित व्यवस्था न होने की बात उठाते हुए इसे तत्काल कराए जाने की मांग की। माटी के लाल पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जन्म एवं पैतृक स्थल रामनगर के विकास का मुद्दा उठाते हुए उन्होंने इसे प्राथमिकता पर कराए जाने की मांग की।

उन्होंने क्षेत्र में नियमित रूप से साफ-सफाई न होने का भी जिक्र किया। जिस पर मुख्यमंत्री ने नगर आयुक्त से साफ सफाई के बाबत पूछते हुए कहा कि इस संबंध में पूर्व की बैठक में भी शिकायतें हुई थी। उन्होंने इसे गंभीरता से लेते हुए समुचित साफ-सफाई सुनिश्चित कराए जाने का निर्देश दिया। रोहनिया विधायक सुनील पटेल ने मोहनसराय में फ्लाईओवर निर्माण कराए जाने की मांग की। एमएलसी लक्ष्मण आचार्य ने रामनगर क्षेत्र में चिकित्सा व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण की मांग की। जनपद जौनपुर, गाजीपुर एवं चंदौली के जनप्रतिनिधियों ने भी अपने-अपने क्षेत्र की कतिपय समस्याओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। जिस पर मुख्यमंत्री ने संबंधित विभागीय अधिकारियों को श्याम के शीघ्र निस्तारण सुनिश्चित कराए जाने हेतु निर्देशित किया।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हर घर तिरंगा अभियान का औपचारिक शुरुआत की। इस अवसर पर उन्होंने काशी विद्यापीठ विकासखंड के पंचायती राज विभाग के सचिव सतीश मौर्य, ग्राम प्रधान श्वेता राय, नगर निगम के सफाई व खंड निरीक्षक नृपेंद्र सिंह, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सचिव राजेश्वर नारायण व इंडियन डेंटल एसोसिएशन के सचिव मनोज श्रीवास्तव एवं डॉ अमर अनुपम सहित पांच लोगों को राष्ट्रीय ध्वज देकर कार्यक्रम की औपचारिक शुरुआत की।

बैठक में मंत्री अनिल राजभर, मंत्री रविंद्र जायसवाल, मंत्री दयाशंकर मिश्र 'दयालु', जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या, महापौर मृदुला जायसवाल, एमएलसी लक्ष्मण आचार्य, विधायक सौरभ श्रीवास्तव, विधायक डॉ अवधेश सिंह, विधायक सुनील पटेल, प्रमुख सचिव सूचना संजय प्रसाद, कमिश्नर दीपक अग्रवाल सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं विभागीय अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहें।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिवसीय वाराणसी दौरे पर राजकीय हेलीकॉप्टर से पुलिस लाइन हेलीपैड पहुंचे और वहां से सर्किट हाउस आकर जनप्रतिनिधियों से भेंट वार्ता की।

Share this story