12 नदियों व तीन सागरों के जल से बाबा का हुआ जलाभिषेक
12 नदियों व तीन सागरों के जल से बाबा का हुआ जलाभिषेक

विश्वनाथ गली के व्यापारियों ने परम्परानुसार तीसरे सोमवार को किया बाबा का जलाभिषेक, माँ अन्नपूर्णेश्वरी में नवाया शीश

वाराणसी। सावन के तीसरे सोमवार को परंपरागत रूप विश्वनाथ गली के व्यापारियों ने बाबा विश्वनाथ का जलाभिषेक किया। विश्वनाथ गली व्यवसायी संघ के बैनर तले आयोजित जलाभिषेक में इस बार विश्व कल्याणार्थ की कामना से मा गंगा सहित देश के विभिन्न भागों से 12 नदियों और 3 सागरों के जल से जलाभिषेक किया गया। 


जलाभिषेक में शामिल होने के लिए करीब 800 की संक्या में व्यापारी और उनके घर की महिलाएं व बच्चे सुबह चित्तरंजन पार्क पर जमा हुआ। परम्परानुसार हाथों में त्रिशूल और गंगा जल भरे गागर लेकर सभी " "हर-हर महादेव" व "जय शम्भू" के नारे  लगा रहे थे।

तयशुदा समयानुसार पूर्वाह्न नौ बजे डमरू निनाद व शंख की अनुगूँज के बीच शोभायात्रा शुरू हुई। जो दशाश्वमेध सिंह द्वार से विश्वनाथ गली होते हुए गेट नंबर एक ढुंढिराज गणेश प्वाइंट से मंदिर में प्रवेश हुई। जहाँ श्री काशी विश्वनाथ मंदिर सुरक्षा की ओर से मिले प्रोटोकॉल के अनुसार पश्चिमी छोर से लाइन में लगकर व्यापारी बंधुओं ने बाबा का गर्भ गृह के बाहर से जलाभिषेक किया।

इस दौरान विभिन्न नदियों और सागरों के कलश लिए करीब 20 व्यापारी नेताओं ने गर्भ गृह में जाकर बाबा का जलाभिषेक किया। इसके बाद सभी व्यापारियों ने माँ अन्नपूर्णेश्वरी के दरबार में शीश नवाकर सबकी मंगल कामना की। इसके बाद व्यापारियों ने विश्वनाथ गली स्थित श्री साक्षी विनायक के दरबार में मत्था टेककर शोभायात्रा का समापन किया। 


जलाभिषेक में संघ के अध्यक्ष पं रमेश तिवारी, महामंत्री पं सजीव रतन मिश्र, उपाध्यक्ष पं कमल तिवारी, पं पवन शुक्ला, पं संदीप त्रिपाठी, पं आकाश त्रिपाठी, पं प्रदीप चौबे, मनोज चौरसिया, राजु बाजोरिया, ऋषि झिगंरन, सुनिल शर्मा मुंशी, सिद्धार्थ भारद्वाज, विष्णु कसेरा, संजय जायसवाल, मनोज प्रजापति, राजेश देववंशी, गोपाल केशरी, सुरेश तुलस्यान,अजय शर्मा सहीत काशी विश्वनाथ डमरू दल के मोनु बाबा एंव विश्वनाथ गली के व्यापारी व उनके परिवार की महिलाऐ एंव बच्चे शामिल थे।

Share this story