BHU के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान के चौथे स्थापना दिवस के अवसर पर एक व्याख्यान का किया गया आयोजन
BHU के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान के चौथे स्थापना दिवस के अवसर पर एक व्याख्यान का किया गया आयोजन

वाराणसी। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान के चौथे स्थापना दिवस वृहद के अवसर पर एक व्याख्यान का आयोजन किया गया। इस उपलक्ष्य पर ए.एस.जी अस्पताल पर ए.एस.जी के संस्थापक डा. अरुण सिंघवी ने सभी को कुशल नेत्र चिकित्सक होने के साथ एक बहु उद्यमी होने की आवश्यकता पर विचार प्रकट किये, ऐसा न करने से ज्ञान प्राप्त हो जाने के बाद भी चिकित्सक को पूर्ण सफलता नहीं पी पाता है।

अखिल भारतीय नेत्र सोसाइटी  के वैज्ञानिक अध्यक्ष डा० पार्थ विस्वास ने चश्मा हटाने की नवीनतम तकनीकों का वस्तृत उल्लेख किया। वाराणसी में भी चश्मा हटाने की तकनीक उपलब्ध है परन्तु सरकारी संस्थानों से इसकी सुविधा उपलब्ध नहीं है।

BHU के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान के चौथे स्थापना दिवस के अवसर पर एक व्याख्यान का किया गया आयोजन

क्षेत्रीय नेत्र संस्थान जल्द ही यह सुविधा अर्जित करने वाला है। कार्यक्रम का उद्घाटन बी.एच.यू के कुलगुरु प्रो वि के शुक्ला ने किया। उन्होंने नेत्र संस्थान को दूर दराज गावो को नेत्र सुविधाओं के लिये गोद लेने को सलाह दी। नेत्रदान के प्रति समाज में उदासीनता को दूर करने के लिये नेत्र संस्थान को विशेष मेहनत करने की सलाह भी दी व्याख्यान के अन्य अतिथि Dr. ललित वर्मा जो कि अखिल भारतीय नेत्र विशेषज्ञ सोसाइटी के अध्यक्ष भी हैं, चिकित्सकों को रोगी के अभीगावको से परस्पर संवाद की सलाह दी।

उन्होंने कहा कि ऐसा तब आवश्यक हो जाता जब रोगी को किसी कारण से आँख में इन्फेक्शन हो जाता है। घबराहट में रोगी, जानकारी के अभाव में उत्तेजित हो जाता है, और सभी जगह चिकित्सक व चिकित्सालय की बदनामी भी होती है। ऐसे में चिन्हों की त्वरित पहचान कर जरूरी इन्जेक्शन व vetrectomy पद्धति का प्रयोग होना चाहिये, हर अवस्था की जानकारी रोगी को मिलनी चाहिये व प्रलेखन पर भी जोर दियो ।

BHU के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान के चौथे स्थापना दिवस के अवसर पर एक व्याख्यान का किया गया आयोजन

B.H.U नेत्र संस्थान में हाल में आई बैंक खौला है, व नेत्र प्रत्यारोपण चालू है। इसे गति देने के विचार से एक अन्य वक्ता अम्बाला के कार्निया विशेषज्ञ डा0 विकास मित्तल के नेत्र प्रत्यारोपण की सभी कनीकों की जानकारी दी व आने वाली समस्याओं के समाधान साझा किये।

भूतपूर्व अध्यक्ष प्रो. एम. के सिंह में पुरस्कार व् प्रशस्ति पत्र वितरित किये। विभागाध्यक्ष Dr. प्रशांत भूषण ने स्वागत भाषण व Dr. दीपक मिश्रा ने धन्यवाद् ज्ञापित किया। इस अवसर पर प्रो. वि.पि सिंह , डॉ. आलोक कुमार व् अन्य चिकित्सक गण मौजूद रहे।

Share this story