सरकार को लग रहा चुना, खनन माफिया है पूरी रात चुस्त, जिम्मेदार है फुस्स
 गोरखपुर:- गोरखपुर जिले में खनन माफिया पूरी तरह से सक्रिय है और अपनी दबंगई के दम पर बिना किसी के डर के खुलेआम खनन करा रहे है।        आपको बता दे कि तहसील क्षेत्र सहजनवा में पिपरौली ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले ग्राम सभा बासपर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के पीछे पूरी रात खनन माफिया खनन करा रहे है और जो भी जिम्मेदार है वो रात को अपने कमरे में चैन की नींद सो रहा है और खनन स्थल के आसपास के लोग पूरी रात ट्रैक्टर की तेज आवाज सुनकर सिर्फ करवट बदल रहे है। एक मामला संज्ञान में आया है कि सामुदायिक स्वास्थ्य पिपरौली के पास गीडा के द्वारा अधिग्रहित की गयी जमीन पर खनन माफिया के द्वारा खनन किया गया और इतना किया गया कि जमीन के अन्दर से पानी तक निकल गया। रात में ट्रैक्टर के द्वारा खनन के समय ग्राम सभा के द्वारा निर्मित नाली,सड़क और वाटर सप्लाई को तोड़ दिया गया जब गांव के लोग ट्रैक्टर को पकड़ तो वो लोकल का हवाला देकर निकल गया। जब इसकी जानकारी थाने पर दी गयी तो वहां से बोला गया कि नायब तहसीलदार और एसडीएम ने हम लोगो को इतना कमजोर बना दिया कि बिना उनकी इजाजत के हम कुछ भी नही कर सकते है । अब इसका क्या मतलब है आप लोग खुद समझ सकते है । । अब बात होती कि खनन अगर रॉयल्टी बनाकर हो रही है तो उस जमीन की रॉयल्टी कैसे हो सकती है जो गीडा ने खुद अधिग्रहित कर लिया हो और जमीन मालिक को उस्का मुआवजा मिल चुका हो। जब इस बारे में गीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी पवन जी से बात हुई तो उनका कहना था कि अगर ऐसी बात है तो बिल्कुक ग़लत है वो हम लोगो की जमीन है और बिना मेरी अनुमति का उस पर कोई भी कार्य नही कर सकता है हम अपनी टीम भेजकर उस जगह का जाच करा रहे है अगर ऐसा है खनन माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। वही जब इस बारे में तहसीलदार सहजनवा केशव प्रसाद से बात हुई तो उनका कहना था कि शिकायत मिली है गीडा थाना प्रभारी को निर्देशित किया गया है जाँच करके कार्यवाही किया जाए।

गोरखपुर।  गोरखपुर जिले में खनन माफिया पूरी तरह से सक्रिय है और अपनी दबंगई के दम पर बिना किसी के डर के खुलेआम खनन करा रहे है। आपको बता दे कि तहसील क्षेत्र सहजनवा में पिपरौली ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले ग्राम सभा बासपर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के पीछे पूरी रात खनन माफिया खनन करा रहे है और जो भी जिम्मेदार है वो रात को अपने कमरे में चैन की नींद सो रहा है और खनन स्थल के आसपास के लोग पूरी रात ट्रैक्टर की तेज आवाज सुनकर सिर्फ करवट बदल रहे है।

एक मामला संज्ञान में आया है कि सामुदायिक स्वास्थ्य पिपरौली के पास गीडा के द्वारा अधिग्रहित की गयी जमीन पर खनन माफिया के द्वारा खनन किया गया और इतना किया गया कि जमीन के अन्दर से पानी तक निकल गया। रात में ट्रैक्टर के द्वारा खनन के समय ग्राम सभा के द्वारा निर्मित नाली,सड़क और वाटर सप्लाई को तोड़ दिया गया जब गांव के लोग ट्रैक्टर को पकड़ तो वो लोकल का हवाला देकर निकल गया। जब इसकी जानकारी थाने पर दी गयी तो वहां से बोला गया कि नायब तहसीलदार और एसडीएम ने हम लोगो को इतना कमजोर बना दिया कि बिना उनकी इजाजत के हम कुछ भी नही कर सकते है । अब इसका क्या मतलब है आप लोग खुद समझ सकते है ।

अब बात होती कि खनन अगर रॉयल्टी बनाकर हो रही है तो उस जमीन की रॉयल्टी कैसे हो सकती है जो गीडा ने खुद अधिग्रहित कर लिया हो और जमीन मालिक को उस्का मुआवजा मिल चुका हो। जब इस बारे में गीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी पवन जी से बात हुई तो उनका कहना था कि अगर ऐसी बात है तो बिल्कुक ग़लत है वो हम लोगो की जमीन है और बिना मेरी अनुमति का उस पर कोई भी कार्य नही कर सकता है हम अपनी टीम भेजकर उस जगह का जाच करा रहे है अगर ऐसा है खनन माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। वही जब इस बारे में तहसीलदार सहजनवा केशव प्रसाद से बात हुई तो उनका कहना था कि शिकायत मिली है गीडा थाना प्रभारी को निर्देशित किया गया है जाँच करके कार्यवाही किया जाए।

Share this story