स्वर्ण प्राशन हमारी वैदिक परम्परा जो स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक- महेन्द्र त्रिपाठी
स्वर्ण प्राशन हमारी वैदिक परम्परा जो स्वस्थ जीवन के लिए आवश्यक- महेन्द्र त्रिपाठी

अयोध्या। भागम भाग जिंदगी में बच्चों की जीवन शैली पर भी उसका प्रभाव दिखाई दे रहा है । ऐसी परिस्थितियों में बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अभिभावक की जिम्मेदारी बढ़ती जा रही है। स्वर्ण प्राशन वैदिक काल में हमारे संस्कार में शामिल रहा है और कालांतर में सभ्यता का परिवर्तन हुआ और हम अपनी मूल से हटते गए। कोरोना काल में हमें पुनः आयुर्वेद की ओर लौटने पर मजबूर कर दिया।यह विचार प्रेस क्लब के अध्यक्ष महेंद्र त्रिपाठी ने साकेत पुरी स्थित अनंत शिखर में आयोजित स्वर्ण प्राशन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि वैद्य आर पी पांडेय का यह प्रयास जनपद के लिए पुण्य का कार्य है। जो निरंतर चलता रहना चाहिए । 


इससे पहले मुख्य अतिथ महेंद्र त्रिपाठी  केवी शुक्ला आर पी सिंह द्वारा संयुक्त रुप से धन्वंतरी भगवान के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर के 11 बच्चों को स्वर्ण प्राशन की दवा खिलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया ।कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार केवी शुक्ला आरपी सिंह बंशीधर मौर्य ने भी स्वर्ण प्राशन का महत्व बताया। कार्यक्रम के आयोजक वैद्य आर पी पांडेय ने कहा कि स्वर्ण प्राशन संस्कार आदि काल से चला आ रहा है। पूर्व में केवल यह बड़े लोगों तक ही सीमित रह गया हमारा प्रयास है कि इसकी जानकारी सभी लोगों तक पहुंचे। इसीलिए इस बार पत्रकारों को भी स्वर्ण भस्म की दवा खिलाई गई है । कार्यक्रम में झंडू कंपनी की ओर से मोहित सचदेवा द्वारा कैल्शियम की भी जांच की गई ।

स्वर्ण प्राशन हमारी वैदिक परम्परा जो स्वस्थ जीवन के लिए


कार्यक्रम में 110 बच्चों के अतिरिक्त उपजा के जिलाध्यक्ष पत्रकार राजेन्द्र  तिवारी  सुशील पांडेय श्याम बाबू  पवन पांडेय महेंद्र उपाध्याय बीएस लाठी महेंद्र उपाध्याय भानु कश्यप रजत शर्मा शीलदास अयोध्या के क्षेत्राधिकारी सहित कई पत्रकारों को स्वर्ण प्राशन की दवा खिलाई गई। कार्यक्रम में अमित पांडे अजय पांडे हरिदास राजीव मिश्रा जागृत मिश्रा रमाकांत तिवारी कैप्टन केके तिवारी हरेंद्र पप्पू कुमार ने भी सहयोग प्रदान किया।

Share this story