करोड़ों के परियोजनाओं की सौगात देने लखनऊ पहुंचे पीएम मोदी ने यूपी वासियों को दीया होमवर्क
आज उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में देश की आजादी के 75वें वर्ष का 'अमृत महोत्सव' मनाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में शामिल होने आए प्रधानमंत्री मोदी ने एक होमवर्क दिया। कहा, अयोध्या में इस बार दिवाली पर साढ़े सात लाख दिये जलाए जाएंगे। जिन 9 लाख परिवारों को अपने घर मिले हैं, वे अपने-अपने घर के बाहर सिर्फ दो दिये जलाकर रोशन कुछ महानुभाव हमारे विरोध में ही उर्जा खपाते हैं। वे सुन लें कि हमनें तीन करोड़ परिवारों को लखपति बना दिया है। यह वे परिवार हैं, जिनके घर बन चुके हैं। मोदी ने आवास योजना के लाभार्थियों को एक होमवर्क भी दिया। कहा, अयोध्या में इस बार दिवाली पर साढ़े सात लाख दिये जलाए जाएंगे।   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज लखनऊ में हैं। यहां पीएम मोदी ने 4737 करोड़ की 75 परियोजनाओं का उद्घाटन और आधारशिला रखी। इससे पहले पीएम मोदी ने आवास योजना (शहरी) के तहत 75 हजार लाभार्थियों को उनके घरों की चाभी सौंपी। इससे पहले लखनऊ पहुंचकर पीएम मोदी सबसे पहले अर्बन कॉन्क्लेव में हिस्सा लेने पहुंचे।वहां उन्होंने तीन दिवसीय कॉन्क्लेव की शुरुआत की। पीएम मोदी के साथ वहां राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे।  इसके अलावा पीएम मोदी लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज, गोरखपुर, झांसी और गाजियाबाद सहित सात शहरों के लिए FAME-II के तहत 75 बसों को भी हरी झंडी दिखाएंगे। प्रधानमंत्री आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के विभिन्न प्रमुख मिशनों के तहत कार्यान्वित 75 परियोजनाओं को शामिल करते हुए एक कॉफी टेबल बुक का भी विमोचन करेंगे। वह एक्सपो में लगाई जा रही तीन प्रदर्शनियों का भी अवलोकन करेंगे। प्रधानमंत्री बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी (बीबीएयू), लखनऊ में अटल बिहारी वाजपेयी पीठ की स्थापना की भी घोषणा करेंगे।  मिली जानकारी के अनुसार इस अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहेंगे।रिलीज में कहा गया है कि सम्मेलन-सह-एक्सपो का आयोजन आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय  द्वारा 5 से 7 अक्टूबर तक ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में किया जा रहा है।  प्रदर्शनी के थीम स्वच्छ शहरी भारत, जल सुरक्षित शहर, सभी के लिए आवास, नई निर्माण तकनीक, स्मार्ट सिटी विकास, सतत गतिशीलता और आजीविका के अवसरों को बढ़ावा देने वाले शहर हैं। वहीं सम्मेलन-सह-एक्सपो 6 और 7 अक्टूबर यानी दो दिनों के लिए जनता के लिए खुला रहेगा।  क्या क्या कहा पीएम मोदी ने   मोदी बोले यूपी भगवान कृष्ण, भगवान राम की भूमि है।इसे समृद्ध बनाना हमारा संकल्प है। पिछली सरकारों पर हमला बोलते हुए पीएम ने कहा कि पहले यहां बिजली सियासत का टूल थी, पहले यहां सड़क सिफारिश पर बनती थी.- गुजरात में रहने के दौरान सुनने को मिलता था कि लखनऊ में कहते हैं 'पहले आप', अब तकनीक को भी हमें 'पहले आप' कहना होगा. तकनीक से घर तेजी से बनते हैं। तकनीक को अपनाना ही होगा। पहले डिजिटल लेनदेन का मजाक उड़ाया जाता था। लेकिन अब इसका खूब इस्तेमाल हो रहा है।- यूपी आया हूं तो कुछ होमवर्क देने का मन करता है। इस बार दिवाली पर अयोध्या में कहते हैं कि 7.5 लाख दीये का कार्यक्रम है। मैं यूपी को कहता हूं कि रोशनी के लिए स्पार्धा में मैदान में आएं। देखें कि अयोध्या में ज्यादा दीये जलते हैं या फिर 9 लाख लाभार्थी मिलकर 18 लाख दीये जला सकते हैं। इससे भगवान राम को खुशी होगी।  - मोदी बोले कि इस देश में लगभग 25-30 करोड़ परिवार हैं।पीएम आवास योजना के तहत 3 करोड़ परिवार लखपति बन गए हैं। इसका अंदाज पक्के घरों की कीमत लगाकर किया जा सकता है।  मोदी बोले कि पिछली सरकारों में यूपी में आवास योजना - शहरी का काम ठीक से नहीं होता था। तब 18 हजार घरों की मंजूरी के बावजूद 18 घर भी नहीं बने थे। वहीं सीएम योगी की सरकार में आवास योजना - शहरी में 9 लाख घर बनाकर दिए गए हैं। वहीं 14 लाख घर निर्माण के अलग-अलग चरणों में हैं।- 'पहले के सरकारी आवास मिलने में लंबा वक्त लगता था। जो मिलते थे वे साइज में छोटे होतेथे, मैटेरियल खराब की शिकायत मिलती थी। 2014 के बाद स्थिति बदलनी शुरू हुई।' मोदी बोले कि पुरानी सरकार ने 13 लाख आवास मंजूर किए, 8 लाख ही बनाए गए थे। 2014 के बाद बीजेपी सरकार ने पीएम आवास के तहत 1 करोड़ 13 लाख मकान बनाने की मंजूरी दी। इनमें से 50 लाख घर लोगों को सौंपे भी जा चुके हैं। ईंट-पत्थर से इमारत बन सकती है, उसे घर नहीं कह सकते।   पिछली सरकारों में इस बात पर नियम नहीं था कि मकानों का साइज क्या होगा. हमारी सरकार ने इसपर स्पष्ट नीति बनाई। अब 22 स्कॉयर फीट से छोटा कोई घर नहीं बनता मकान का पैसा सीधा लाभार्थी के खाते में जाता है। पीएम आवास योजना- शहरी के तहत केंद्र सरकार ने करीब 1 लाख करोड़ रुपये बैंक खाते में भेजे हैं।- अपने संबोधन में पीएम मोदी ने लखनऊ की तारीफ की। मोदी बोले कि 75 हजार परिवार जिनको उनके घरों की चाभी मिली है, वे अब अपने नए घर में सभी त्योहार मना पाएंगे। महिलाओं को छूट देने वाले निर्णय पर पीएम मोदी बोले कि किसी भी परिवार को देखेंगे कि ज्यादातर जगह मकान, दुकान, खेत, गाड़ी, स्कूटर पति के नाम पर होता है। पति नहीं रहते तो बेटे के नाम पर. महिला के नाम कुछ नहीं होता है। इसलिए स्वस्थ्य समाज को बनाने के लिए संतुलन बनाना जरूरी है। इसलिए सरकार जो आवास देगी उसका मालिकाना हक महिला को दिया जाएगा ये फैसला लिया गया।  - इसके बाद पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश की 10 स्मार्ट सिटी की 75 सफल कहानियों की कॉफी टेबल बुक का डिजिटली विमोचन किया। आगे पीएम ने स्मार्ट सिटी मिशन और अमृत मिशन में 4,737 करोड़ रुपये की लागत की कुल 75 परियोजनाओं का डिजिटली लोकार्पण व शिलान्यास किया।- पीएम मोदी ने जनपद लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, झांसी, प्रयागराज, गाजियाबाद और वाराणसी के लिए 75 स्मार्ट इलेक्ट्रिक बसों का फ्लैग आफ किया।- पीएम मोदी ने लाभार्थी से बात करते हुए पूछा कि अब जब नया घर मिल गया है तो रिश्तेदारों का भी ज्यादा आना जाना होता होगा, खर्चा भी ज्यादा हो जाता होगा। इसपर लाभार्थी ने मुस्कुराकर जवाब दिया कि हां रिश्तेदार पहले के मुकाबले ज्यादा आते हैं। पीएम मोदी ने मजाकिया अंदाज में कहा कि खर्चा ज्यादा होने पर पीएम पर आरोप लग सकते हैं कि उन्होंने घर दे दिया इसलिए गरीब का खर्चा बढ़ गया।  दूसरी लाभार्थी से पीएम मोदी ने पूछा कि सरकारी योजना उज्जवला के तहत उनको गैस मिली है, तो वह अब गैस चूल्हे पर क्या पकाती हैं। इसपर लाभार्थी ने कहा कि वह आलू बनाती हैं। पीएम ने फिर पूछा कि उनके बच्चे तो बड़े हैं। क्या सिर्फ रोज आलू ही बनता है? पीएम ने आगे मजाक में कहा, 'बता दीजिए मैं नहीं खाने नहीं आऊंगा।' इसपर लाभार्थी ने मुस्कुराकर कहा कि पीएम आप घर जरूर आइयेगा अच्छा लगेगा।- कार्यक्रम में पीएम मोदी ने 75 हजार बेघरों को घरों की चाभी सौंपी। ये सभी लोग यूपी के जिलों के हैं। ये सभी प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थी हैं। पीएम मोदी ने वहां घर पाने वाले कुछ लाभार्थियों से बात भी की। एक लाभार्थी से बात करते हुए पीएम मोदी ने इस बात की खुशी जाहिर की कि उनकी यह दिवाली नए और अपने घर में मनेगी।  अर्बन कॉन्क्लेव में सीएम योगी ने कहा कि यूपी ने पिछले कुछ सालों में कई उपलब्धियां हासिल की हैं।सीएम योगी ने यह भी बताया कि यूपी में कोरोना वैक्सीन की 11 करोड़ खुराक लगाई जा चुकी हैं। सीएम योगी ने बताया कि 2017 के पहले उत्तर प्रदेश में कुल 654 नगर निकाय थे, आज इनकी संख्या बढ़कर 734 हुई है। हम इन 734 नगर निकायों के माध्यम से प्रदेश की एक बड़ी आबादी को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का कार्य कर रहे हैं।  - हरदीप सिंह पुरी के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित किया। वह बोले कि केंद्र में प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सरकार आने के साथ ही देश के शहरी विकास की गति लगातार आगे बढ़ती जा रही है।आज से शुरू हो रहे कॉन्क्लेव में हमारे सामने शहरी विकास के नए-नए आयाम आएंगे और पूरे देश में ट्रांसफॉर्मेशन में अपना योगदान देंगे। - अर्बन कॉन्क्लेव कार्यक्रम में केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि 1947 में आजादी के वक्त हमारे शहरों की आबादी लगभग 6 करोड़ थी, 2030 में ये आबादी 60 करोड़ होने जा रही है।मुझे विश्वास है कि 2030 तक 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लिए हमारी केंद्रीय योजनाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी।  क्या है पीएम मोदी का कार्यक्रम  मोदी जनपद लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, झांसी, प्रयागराज, गाजियाबाद और वाराणसी के लिए 75 स्मार्ट इलेक्ट्रिक बसों का फ्लैग आफ भी करेंगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री सभी जिलों में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत चयनित 75 हजार लाभार्थियों को चाभी वितरण कर उनसे संवाद भी करेंगे।  प्रधानमंत्री स्मार्ट सिटी मिशन के अन्तर्गत आगरा, अलीगढ़, बरेली, झांसी, कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज, सहारनपुर, मुरादाबाद एवं अयोध्या में इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर, इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेन्ट सिस्टम एवं नगरीय इन्फ्रास्ट्रक्चर और अमृत मिशन के अंतर्गत प्रदेश के विभिन्न शहरों में उत्तर प्रदेश जल निगम द्वारा निर्मित पेयजल एवं सीवरेज की कुल 4,737 करोड़ रुपये की 75 विकास परियोजनाओं का लोकर्पण/शिलान्यास भी करेंगे।

लखनऊ। आज उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में देश की आजादी के 75वें वर्ष का 'अमृत महोत्सव' मनाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में शामिल होने आए प्रधानमंत्री मोदी ने एक होमवर्क दिया। कहा, अयोध्या में इस बार दिवाली पर साढ़े सात लाख दिये जलाए जाएंगे। जिन 9 लाख परिवारों को अपने घर मिले हैं, वे अपने-अपने घर के बाहर सिर्फ दो दिये जलाकर रोशन कुछ महानुभाव हमारे विरोध में ही उर्जा खपाते हैं। वे सुन लें कि हमनें तीन करोड़ परिवारों को लखपति बना दिया है। यह वे परिवार हैं, जिनके घर बन चुके हैं। मोदी ने आवास योजना के लाभार्थियों को एक होमवर्क भी दिया। कहा, अयोध्या में इस बार दिवाली पर साढ़े सात लाख दिये जलाए जाएंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज लखनऊ में हैं। यहां पीएम मोदी ने 4737 करोड़ की 75 परियोजनाओं का उद्घाटन और आधारशिला रखी। इससे पहले पीएम मोदी ने आवास योजना (शहरी) के तहत 75 हजार लाभार्थियों को उनके घरों की चाभी सौंपी। इससे पहले लखनऊ पहुंचकर पीएम मोदी सबसे पहले अर्बन कॉन्क्लेव में हिस्सा लेने पहुंचे।वहां उन्होंने तीन दिवसीय कॉन्क्लेव की शुरुआत की। पीएम मोदी के साथ वहां राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे।

​​वीवी

इसके अलावा पीएम मोदी लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज, गोरखपुर, झांसी और गाजियाबाद सहित सात शहरों के लिए FAME-II के तहत 75 बसों को भी हरी झंडी दिखाएंगे। प्रधानमंत्री आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के विभिन्न प्रमुख मिशनों के तहत कार्यान्वित 75 परियोजनाओं को शामिल करते हुए एक कॉफी टेबल बुक का भी विमोचन करेंगे। वह एक्सपो में लगाई जा रही तीन प्रदर्शनियों का भी अवलोकन करेंगे। प्रधानमंत्री बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी (बीबीएयू), लखनऊ में अटल बिहारी वाजपेयी पीठ की स्थापना की भी घोषणा करेंगे।

मिली जानकारी के अनुसार इस अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहेंगे।रिलीज में कहा गया है कि सम्मेलन-सह-एक्सपो का आयोजन आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय  द्वारा 5 से 7 अक्टूबर तक ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में किया जा रहा है।

प्रदर्शनी के थीम स्वच्छ शहरी भारत, जल सुरक्षित शहर, सभी के लिए आवास, नई निर्माण तकनीक, स्मार्ट सिटी विकास, सतत गतिशीलता और आजीविका के अवसरों को बढ़ावा देने वाले शहर हैं। वहीं सम्मेलन-सह-एक्सपो 6 और 7 अक्टूबर यानी दो दिनों के लिए जनता के लिए खुला रहेगा।

क्या क्या कहा पीएम मोदी ने

मोदी बोले यूपी भगवान कृष्ण, भगवान राम की भूमि है।इसे समृद्ध बनाना हमारा संकल्प है। पिछली सरकारों पर हमला बोलते हुए पीएम ने कहा कि पहले यहां बिजली सियासत का टूल थी, पहले यहां सड़क सिफारिश पर बनती थी.- गुजरात में रहने के दौरान सुनने को मिलता था कि लखनऊ में कहते हैं 'पहले आप', अब तकनीक को भी हमें 'पहले आप' कहना होगा. तकनीक से घर तेजी से बनते हैं। तकनीक को अपनाना ही होगा। पहले डिजिटल लेनदेन का मजाक उड़ाया जाता था। लेकिन अब इसका खूब इस्तेमाल हो रहा है।- यूपी आया हूं तो कुछ होमवर्क देने का मन करता है। इस बार दिवाली पर अयोध्या में कहते हैं कि 7.5 लाख दीये का कार्यक्रम है। मैं यूपी को कहता हूं कि रोशनी के लिए स्पार्धा में मैदान में आएं। देखें कि अयोध्या में ज्यादा दीये जलते हैं या फिर 9 लाख लाभार्थी मिलकर 18 लाख दीये जला सकते हैं। इससे भगवान राम को खुशी होगी।

- मोदी बोले कि इस देश में लगभग 25-30 करोड़ परिवार हैं।पीएम आवास योजना के तहत 3 करोड़ परिवार लखपति बन गए हैं। इसका अंदाज पक्के घरों की कीमत लगाकर किया जा सकता है।

मोदी बोले कि पिछली सरकारों में यूपी में आवास योजना - शहरी का काम ठीक से नहीं होता था। तब 18 हजार घरों की मंजूरी के बावजूद 18 घर भी नहीं बने थे। वहीं सीएम योगी की सरकार में आवास योजना - शहरी में 9 लाख घर बनाकर दिए गए हैं। वहीं 14 लाख घर निर्माण के अलग-अलग चरणों में हैं।- 'पहले के सरकारी आवास मिलने में लंबा वक्त लगता था। जो मिलते थे वे साइज में छोटे होतेथे, मैटेरियल खराब की शिकायत मिलती थी। 2014 के बाद स्थिति बदलनी शुरू हुई।' मोदी बोले कि पुरानी सरकार ने 13 लाख आवास मंजूर किए, 8 लाख ही बनाए गए थे। 2014 के बाद बीजेपी सरकार ने पीएम आवास के तहत 1 करोड़ 13 लाख मकान बनाने की मंजूरी दी। इनमें से 50 लाख घर लोगों को सौंपे भी जा चुके हैं। ईंट-पत्थर से इमारत बन सकती है, उसे घर नहीं कह सकते।

करोड़ों के परियोजनाओं की सौगात देने लखनऊ पहुंचे पीएम मोदी ने यूपी वासियों को दीया होमवर्क
पिछली सरकारों में इस बात पर नियम नहीं था कि मकानों का साइज क्या होगा. हमारी सरकार ने इसपर स्पष्ट नीति बनाई। अब 22 स्कॉयर फीट से छोटा कोई घर नहीं बनता मकान का पैसा सीधा लाभार्थी के खाते में जाता है। पीएम आवास योजना- शहरी के तहत केंद्र सरकार ने करीब 1 लाख करोड़ रुपये बैंक खाते में भेजे हैं।- अपने संबोधन में पीएम मोदी ने लखनऊ की तारीफ की। मोदी बोले कि 75 हजार परिवार जिनको उनके घरों की चाभी मिली है, वे अब अपने नए घर में सभी त्योहार मना पाएंगे। महिलाओं को छूट देने वाले निर्णय पर पीएम मोदी बोले कि किसी भी परिवार को देखेंगे कि ज्यादातर जगह मकान, दुकान, खेत, गाड़ी, स्कूटर पति के नाम पर होता है। पति नहीं रहते तो बेटे के नाम पर. महिला के नाम कुछ नहीं होता है। इसलिए स्वस्थ्य समाज को बनाने के लिए संतुलन बनाना जरूरी है। इसलिए सरकार जो आवास देगी उसका मालिकाना हक महिला को दिया जाएगा ये फैसला लिया गया।

- इसके बाद पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश की 10 स्मार्ट सिटी की 75 सफल कहानियों की कॉफी टेबल बुक का डिजिटली विमोचन किया। आगे पीएम ने स्मार्ट सिटी मिशन और अमृत मिशन में 4,737 करोड़ रुपये की लागत की कुल 75 परियोजनाओं का डिजिटली लोकार्पण व शिलान्यास किया।- पीएम मोदी ने जनपद लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, झांसी, प्रयागराज, गाजियाबाद और वाराणसी के लिए 75 स्मार्ट इलेक्ट्रिक बसों का फ्लैग आफ किया।- पीएम मोदी ने लाभार्थी से बात करते हुए पूछा कि अब जब नया घर मिल गया है तो रिश्तेदारों का भी ज्यादा आना जाना होता होगा, खर्चा भी ज्यादा हो जाता होगा। इसपर लाभार्थी ने मुस्कुराकर जवाब दिया कि हां रिश्तेदार पहले के मुकाबले ज्यादा आते हैं। पीएम मोदी ने मजाकिया अंदाज में कहा कि खर्चा ज्यादा होने पर पीएम पर आरोप लग सकते हैं कि उन्होंने घर दे दिया इसलिए गरीब का खर्चा बढ़ गया।

दूसरी लाभार्थी से पीएम मोदी ने पूछा कि सरकारी योजना उज्जवला के तहत उनको गैस मिली है, तो वह अब गैस चूल्हे पर क्या पकाती हैं। इसपर लाभार्थी ने कहा कि वह आलू बनाती हैं। पीएम ने फिर पूछा कि उनके बच्चे तो बड़े हैं। क्या सिर्फ रोज आलू ही बनता है? पीएम ने आगे मजाक में कहा, 'बता दीजिए मैं नहीं खाने नहीं आऊंगा।' इसपर लाभार्थी ने मुस्कुराकर कहा कि पीएम आप घर जरूर आइयेगा अच्छा लगेगा।- कार्यक्रम में पीएम मोदी ने 75 हजार बेघरों को घरों की चाभी सौंपी। ये सभी लोग यूपी के जिलों के हैं। ये सभी प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थी हैं। पीएम मोदी ने वहां घर पाने वाले कुछ लाभार्थियों से बात भी की। एक लाभार्थी से बात करते हुए पीएम मोदी ने इस बात की खुशी जाहिर की कि उनकी यह दिवाली नए और अपने घर में मनेगी।

​​वीवी

अर्बन कॉन्क्लेव में सीएम योगी ने कहा कि यूपी ने पिछले कुछ सालों में कई उपलब्धियां हासिल की हैं।सीएम योगी ने यह भी बताया कि यूपी में कोरोना वैक्सीन की 11 करोड़ खुराक लगाई जा चुकी हैं। सीएम योगी ने बताया कि 2017 के पहले उत्तर प्रदेश में कुल 654 नगर निकाय थे, आज इनकी संख्या बढ़कर 734 हुई है। हम इन 734 नगर निकायों के माध्यम से प्रदेश की एक बड़ी आबादी को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का कार्य कर रहे हैं।

- हरदीप सिंह पुरी के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित किया। वह बोले कि केंद्र में प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सरकार आने के साथ ही देश के शहरी विकास की गति लगातार आगे बढ़ती जा रही है।आज से शुरू हो रहे कॉन्क्लेव में हमारे सामने शहरी विकास के नए-नए आयाम आएंगे और पूरे देश में ट्रांसफॉर्मेशन में अपना योगदान देंगे। - अर्बन कॉन्क्लेव कार्यक्रम में केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि 1947 में आजादी के वक्त हमारे शहरों की आबादी लगभग 6 करोड़ थी, 2030 में ये आबादी 60 करोड़ होने जा रही है।मुझे विश्वास है कि 2030 तक 10 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लिए हमारी केंद्रीय योजनाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी।

क्या है पीएम मोदी का कार्यक्रम

मोदी जनपद लखनऊ, कानपुर, गोरखपुर, झांसी, प्रयागराज, गाजियाबाद और वाराणसी के लिए 75 स्मार्ट इलेक्ट्रिक बसों का फ्लैग आफ भी करेंगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री सभी जिलों में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत चयनित 75 हजार लाभार्थियों को चाभी वितरण कर उनसे संवाद भी करेंगे।

प्रधानमंत्री स्मार्ट सिटी मिशन के अन्तर्गत आगरा, अलीगढ़, बरेली, झांसी, कानपुर, लखनऊ, प्रयागराज, सहारनपुर, मुरादाबाद एवं अयोध्या में इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर, इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेन्ट सिस्टम एवं नगरीय इन्फ्रास्ट्रक्चर और अमृत मिशन के अंतर्गत प्रदेश के विभिन्न शहरों में उत्तर प्रदेश जल निगम द्वारा निर्मित पेयजल एवं सीवरेज की कुल 4,737 करोड़ रुपये की 75 विकास परियोजनाओं का लोकर्पण/शिलान्यास भी करेंगे।

Share this story