मिर्ज़ापुर में अधूरे कर्त्तव्य से पथ विहीन सामुदायिक शौचालय बना शो-पीस, हमेशा रहता है ताला बंद
मिर्ज़ापुर में अधूरे कर्त्तव्य से पथ विहीन सामुदायिक शौचालय बना शो-पीस, हमेशा रहता है ताला बंद

मिर्ज़ापुर। ग्राम पंचायत-मनऊर,विकास खण्ड-जमालपुर,जिला-मीरजापुर में गरीब कल्याण रोजगार अभियान योजना अंतर्गत मनरेगा अंश के धनराशि से निर्मित सामुदायिक शौचालय पंचायत विभाग की लापरवाही से सिर्फ शो-पीस बन कर रह गया है।

इस शौचालय में हमेशा ताला ही बंद रहता है,पहुंचने के लिए कोई उचित पथ भी नहीं है,बिजली का कोई कनेक्शन नहीं है,पानी की भी कोई व्यवस्था नहीं है।

जिन लोगों के घरों में शौचालय नहीं है वे लोग सामुदायिक शौचालय होने के बावजूद भी खुलें में शौच करने के लिए मजबूर है।

आधे अधूरे निर्मित शौचालय की साफ-सफाई व देख-रेख के लिए शायद कोई स्वयं सहायता समूह भी नियुक्त कर दिया गया हैं,जिसका वेतन भी आ रहा है,भुगतान हुआ कि नहीं हुआ इसकी कोई जानकारी नहीं है।

बगल में ही आंगनबाड़ी केंद्र का भवन भी है,वह भी अभी अर्धनिर्मित ही है।जिसके चलते खुलें आसमान के नीचे ही आंगनबाड़ी कार्यकत्री,सहायिका आदि बैठकर अपना कार्यालय चला रही है।

आजादी के अमृत महोत्सव काल में पंचायत विभाग के अधूरे कर्त्तव्यों से पथ विहीन अधूरा सामुदायिक शौचालय एवं आंगनबाड़ी केंद्र सिर्फ शो-पीस बन कर रह गया है।

२०२०-२१ के कार्ययोजना में ही निर्मित होने वाले इन दोनों भवनों को देखने से ऐसा प्रतीत होता है कि पंचायती विभाग के अधिकारियों,कर्मचारियों द्वारा इसके निर्माण में घोर लापरवाही बरती गई है।

जिसके लिए अन्न दाता मंच के संयोजक चौधरी रमेश सिंह सहित सुरेंद्र सिंह, रमेश,किशन,अमीत सिंह,मनोज सिंह,विनोद कुमार,प्रभु,रामजी आदि लोगों द्वारा दोनों भवनों के निर्माण सहित उचित पथ के निर्माण को अतिशीघ्र पुरा करने का मांग किया गया।

Share this story