यूपी में कुएं से नहीं निकला पानी तो महिला किसान ने दी जान, जानिए क्यों ?
30 हजार रुपये खर्च कर खेत में खुदवाए गए कुएं से पानी न निकलने से आहत महिला किसान ने शुक्रवार की रात खेत में पेड़ से फांसी लगाकर जान दे दी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पुलिस आत्महत्या के अन्य कारणों की जांच कर रही है।   श्रीनगर थाना क्षेत्र के पवा गांव निवासी महिला किसान उर्मिला राजपूत (60) के नाम 10 बीघा और उसके पति देवकी नंदन राजपूत के नाम दो बीघा भूमि है। खेती किसानी कर देवकी नंदन परिवार का भरण पोषण करते हैं।   परिजनों ने बताया कि दस दिन पहले उर्मिला ने 30 हजार रुपये खर्च कर खेत में कुआं खुदवाया था, लेकिन मशक्कत के बाद भी कुएं से पानी नहीं निकला, जिससे वह परेशान थी। शुक्रवार रात दंपती खेत पर झोपड़ी में सो गए। शनिवार को सुबह पति ने पत्नी का पेड़ पर लटकता शव देखा तो होश उड़ गए।  उर्मिला के बेटे धीरज राजपूत ने बताया कि मां ने खरीफ की फसल बेचकर कुआं खुदवाया था। कुएं से पानी नहीं निकलने से मां परेशान थी और इसी के चलते आत्महत्या कर ली। घटना से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। पुलिस घटना की जांच कर रही है।

 महोबा। 30 हजार रुपये खर्च कर खेत में खुदवाए गए कुएं से पानी न निकलने से आहत महिला किसान ने शुक्रवार की रात खेत में पेड़ से फांसी लगाकर जान दे दी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पुलिस आत्महत्या के अन्य कारणों की जांच कर रही है। श्रीनगर थाना क्षेत्र के पवा गांव निवासी महिला किसान उर्मिला राजपूत (60) के नाम 10 बीघा और उसके पति देवकी नंदन राजपूत के नाम दो बीघा भूमि है। खेती किसानी कर देवकी नंदन परिवार का भरण पोषण करते हैं।


परिजनों ने बताया कि दस दिन पहले उर्मिला ने 30 हजार रुपये खर्च कर खेत में कुआं खुदवाया था, लेकिन मशक्कत के बाद भी कुएं से पानी नहीं निकला, जिससे वह परेशान थी। शुक्रवार रात दंपती खेत पर झोपड़ी में सो गए। शनिवार को सुबह पति ने पत्नी का पेड़ पर लटकता शव देखा तो होश उड़ गए।

उर्मिला के बेटे धीरज राजपूत ने बताया कि मां ने खरीफ की फसल बेचकर कुआं खुदवाया था। कुएं से पानी नहीं निकलने से मां परेशान थी और इसी के चलते आत्महत्या कर ली। घटना से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। पुलिस घटना की जांच कर रही है।

Share this story