दो दिवसीय दौरे पर काशी आ रहे गृहमंत्री अमित शाह, तय करेंगे भाजपा की चुनावी योजना
अमित शाह

 वाराणसी। लोकसभा चुनावों के आते ही काशी देश के पटल पर सामने आ जाता है, ऐसा ही उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के दौरान भी होता है। सबसे बड़ा कारण रहा है कि यहां से खुद प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा चुनाव में जीत हासिल की। इस जीत का पूरा ताना बाना बुना गृहमंत्री अमित शाह ने। एक बार फिर यूपी विधानसभा चुनाव से पहले अमित शाह वाराणसी पहुंच रहे हैं। शाह शुक्रवार को 12 नवंबर को काशी में संगठनात्मक बैठक में हिस्सा लेंगे। उल्लेखनीय है कि पिछले 8 सालों से गृह मंत्री अमित शाह लगातार काशी आते रहे हैं और अहम संगठनात्मक बैठकों में हिस्सा लेते रहे हैं। यहीं से गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा चुनाव 2014, विधान सभा चुनाव 2017 और लोकसभा चुनाव 2019 का ताना-बाना बुना।


गृह मंत्री अमित शाह की सबसे पहली काशी यात्रा 2013 में थी, इस समय वे उत्तर प्रदेश के प्रभारी बने। नवंबर के महीने में हुई इस पहली यात्रा में उन्होंने कार्यकर्ताओं का फीडबैक लिया और उसी के आधार पर अपनी चुनावी रणनीति तैयार की। उसके बाद आया 2014 का लोकसभा चुनाव तब करीब एक महीने तक गृह मंत्री अमित शाह ने यहां पर कैंप किया और पीएम मोदी की चुनाव प्रचार अभियान की कमान संभाली। काशी से ही गृहमंत्री उत्तर प्रदेश की अन्य लोकसभा सीटों के चुनावी मैनेजमेंट का संचालन करते रहे। उसका नतीजा यह हुआ कि उत्तर प्रदेश के लोकसभा चुनाव में बीजेपी सबसे ज्यादा सीट जीतकर उत्तर प्रदेश में उभरी। 

अगले दिन शनिवार को वे राजभाषा विभाग के पहले अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे। दोपहर में वे आजमगढ़ जाएंगे और वहां चुनावी शंखनाद करेंगे। विधानसभा चुनाव से पहले अपनी रणनीति तय करने में जुटी भाजपा के चुनाव प्रबंधन टीम की 12 नवंबर को अहम बैठक बड़ालालपुर स्थित हस्तकला संकुल में होगी। पहला सत्र दोपहर ढाई बजे से है। केंद्रीय मंत्री व चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान इसकी अध्यक्षता करेंगे। शाम साढ़े पांच बजे से दूसरे सत्र की अध्यक्षता अमित शाह करेंगे। इसमें छह सौ से ज्यादा पदाधिकारी शामिल रहेंगे और यहां अलग-अलग चरणों में पार्टी का शीर्ष नेतृत्व चर्चा करेगा।
 
पार्टी पदाधिकारियों के अनुसार चुनाव प्रबंधन टीम अलग-अलग क्षेत्रों की रिपोर्ट तैयार करेगी और इसमें अमित शाह उसी आधार पर आगामी रणनीति पर चर्चा करेंगे। यहां बता दें कि प्रदेश में 300 पार का नारा लेकर चुनावी अभियान की शुरुआत में जुटी भाजपा पूर्वांचल से ही अपनी रणनीति बनाएगी। प्रदेश की 33 फीसदी सीटों को समेटने वाले पूर्वांचल में वर्ष 2017 में भाजपा का प्रदर्शन बहुत शानदार था। वर्ष 2014 से 2019 तक हुए तीन चुनावों में अमित शाह के प्रबंधन कौशल की वजह से ही यहां क्लीन स्वीप की स्थिति बनी थी।

दो सत्रों में होने वाली चुनाव प्रबंधन टीम की बैठक में धर्मेंद्र प्रधान की छह सदस्यीय टीम के साथ प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह की छह सदस्यीय टीम भी शामिल होगी। इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एयरपोर्ट पर गृह मंत्री की अगवानी के बाद पूरे कार्यक्रम में उनके साथ रहेंगे। इसके अलावा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, महामंत्री संगठन सुनील बंसल और प्रदेश के सभी छह क्षेत्र के अध्यक्ष भी शामिल रहेंगे। अमित शाह लंका स्थित अमेठी कोठी में रात्रि विश्राम करेंगे।


दो दिवसीय दौरे पर वाराणसी आ रहे गृह मंत्री अमित शाह 12 नवंबर को विधानसभा चुनाव में पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की भूमिका तय करेंगे। इसमें भविष्य में संगठनात्मक कार्यों की रूपरेखा के साथ ही रणनीति भी तैयार होगी। माना जा रहा है कि अमित शाह भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच चुनावी शंखनाद करेंगे। भाजपा काशी क्षेत्र के अध्यक्ष महेश चंद श्रीवास्तव ने बताया कि बैठक की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है।  क्षेत्रीय मीडिया प्रभारी नवरतन राठी ने बताया कि शहर के विभिन्न रूट पर पांच हजार झंडे और एक हजार होर्डिंग लगाए जाएंगे।

Share this story