यूपी में तंत्र-मंत्र और अंधविश्वास के चलते सगी ताई ने ही दे डाली 5 साल के मासूम की बलि
यूपी में तंत्र-मंत्र और अंधविश्वास के चलते सगी ताई ने ही दे डाली 5 साल के मासूम की बलि

उत्तर प्रदेश। मेरठ के थाना मुण्डाली क्षेत्र में 7 नवंबर को हुई पांच साल के बच्चे की हत्या का खुलासा पुलिस ने कर दिया है। तंत्र मंत्र और अंधविश्वास के चलते 5 साल के मासूम बच्चे की ताई ने अपने 14 साल के बेटे के साथ मिल कर मासूम की बलि दे डाली है। पुलिस ने मृतक बच्चे की ताई और उसके 14 साल के बेटे को पकड़ा है। इनके पास से हत्या में इस्तेमाल दंराती मिली है।

अंधविश्वास में दे डाली मासूम की बलि

पुलिस की पूछताछ में सामने आया की मृतक बच्चे की ताई के 8 बच्चे जन्म लेने के बाद मर चुके हैं। इसके अलावा जो दो बेटे जीवित हैं वह भी बीमार रहते हैं। ऐसे में उसको किसी ने बताया था कि यदि वह किसी बच्चे की बलि दे, तो बचे हुए दोनों बेटे कभी बीमार नहीं होंगे। पुलिस ने बताया कि थाना मुण्डाली क्षेत्र के ग्राम सिसौली में 7 नवंबर 2021 को वीर सिंह ने सूचना दी की उसका 5 साल बेटा बुद्धू उर्फ भानुप्रताप दोपहर 02.00 बजे दिन से घर से लापता है। इस सूचना पर पुलिस ने गुमशुदगी का मुकदमा लिखकर बच्चे को ढूंढना शुरू कर दिया। 8 नवंबर 2021 को यानी अगले दिन 5 साल के मासूम का शव वीर सिंह के बड़े भाई नरेश तोमर के घर में बने कमरे से भूसे के ढेर से बरामद हुआ।

घर में मचा कोहराम

इसके बाद घर में कोहराम मच गया और परिजनों ने हत्या के खुलासे के लिए हंगामा किया। इसके बाद यह भी पता चला कि 5 साल के बच्चे को तंत्र क्रिया के लिए मारा गया है। साथ ही ऐसा लग रहा था कि किसी अपने ने ही इस घटना को अंजाम दिया हो। पुलिस की तफ्तीश में वीर सिंह की भाभी यानी बच्चे की ताई मुकेश तोमर और उसके 14 साल के बेटे के नाम सामने आए।

मर चुके थे आरोपी महिला के 8 बच्चे

इसके बाद पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर मुकेश तोमर व उसके 14 साल के नाबालिग बेटे को सिसौली अडडे पशु चिकित्सालय के सामने से पकड़ लिया। पूछताछ की तो इस हत्याकांड की कड़ियां खुलती चली गई। मृतक 5 साल के बच्चे की ताई मुकेश तोमर ने बताया कि उस की शादी के बाद 8 बच्चे पैदा हुए और जन्म होने के बाद ही बच्चे मर जाते थे। अब उस के दो बेटे जीवित है और वो भी अधिकतर बीमार रहते हैं।

अंधविश्वास के चलते ली जान

मुकेश तोमर ने पुलिस को बताया कि उसने सुना था कि किसी बच्चे की बलि देने पर उस के बच्चे शारीरिक रूप से ठीक हो सकते है। इसी अंधविश्वास के चलते उस ने अपने देवर वीर सिंह के 5 साल के मासूम पुत्र बुद्ध उर्फ भानुप्रताप को बेटे की मदद से घर में बुलाया। यहां उसने दराती से मासूम का गला काटकर हत्या कर बलि दे दी और शव को अपने ही घर में बने कमरे में भूसे में छुपा दिया। उसका इरादा था कि मौका मिलते ही बच्चे के शव को कही और फैंक देती लेकिन मौका नहीं मिला और पुलिस तलाशी में बच्चे का शव बरामद हो गया। पुलिस ने आरोपी ताई मुकेश तोमर और उसके 14 साल के नाबालिग बेटे को पकड़ लिया है और ताई की निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल दराती भी बरामद कर ली है।

Share this story