सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती स्थान में महाआरती में उमड़े श्रद्धालु
fffffffffff

 बिहार।  मधुबनी में कालिदास की याद संजोए मिथिलांचल का सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती स्थान शक्ति की उपासना के लिए श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। अपनी एतिहासिक व पौराणिक पृष्टिभूमि के लिए चर्चित उच्चैठ स्थित छिन्नमस्तिका भगवती का दर्शन करने बिहार, नेपाल, बंगाल के अलावा देश के अन्य भागों से भी भक्तगण प्रतिदिन आते ही रहते हैं। अनुमंडल मुख्यालय बेनीपट्टी से महज पांच किलोमीटर की दूरी पर उच्चैठ गांव में सिद्धपीठ छिन्नमस्तिका भगवती विराजमान है। थुम्हानी नदी के किनारे अवस्थित उच्चैठ गांव व उच्चैठ वासिनी दूर्गा मंदिर के बगल उत्तर-पूरब में सरोवर और उसके पूरब शमशान होना तथा काली, कालिया, काली मिश्र को ज्ञान की प्राप्ति के बाद कालीदास बनने की प्राचीन जनश्रूतियों से उच्चैठ वासिनी दुर्गा की एतिहासिकता एवं व्यापकता का दिग्दर्शन होता है। अतिप्राचीन अनूपम दिव्यकाले शिलाखंड पर जो मूर्ति अंकित है, उनमें देवी चार भूजा वाली है जिनके बाएं दो हाथों में कमल फूल और गदा तथा उसके नीचे बजरंग वली की मूर्ति, दाहिने दोनों हाथों में चक्र और त्रिशूल एवं उसके नीचे काली की मूर्ति फिर उसके नीचे मछली का चिन्ह व बाएं पांव में चक्र का चिन्ह अंकित है। सिंह के ऊपर कमलाशन में विराजमान, लेकिन मस्तक कटा हुआ है तथा इनमें महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती की सम्मलित शक्ति होने का प्रमाण बहुसंख्यक है। मां दुर्गा की ढाई फीट की कलात्मक प्रतिमा भक्तों के लिए मनभावन बनी हुई है।

मैया के दरबार में भक्तों को दिव्य अनुभूति व आलौकिक शांति मिलती है। साथ ही सच्चे मन से आने वाले भक्त सिद्धपीठ की दरबार से खाली हाथ नहीं लौटता है। मिथिलांचल का पौराणिक, धार्मिक, ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक विरासत को धारण किए सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती स्थान में आशीर्वाद की बरसात होती है। सिद्धपीद्ध उच्चैठ भगवती स्थान को अब तक पर्यटन स्थल का दर्जा नही मिल पाया है, जबकि सिद्धपीठ स्थल को विकसित किए जाने की जरूरत है। शारदीय नवरात्र में सुबह चार बजे एवं रात आठ बजे सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती स्थान में महाआरती देखने के लिए श्रद्धालुओं का भीड़ उमड़ रही है।

Share this story