×

नर सेवा नारायण सेवा ही मनुष्य का सबसे बड़ा धर्म है

नर सेवा नारायण सेवा ही मनुष्य का सबसे बड़ा धर्म है

चंदौली। हिंदू जागरण मंच जनपद चंदौली के तत्वाधान में आज जिला संयोजक पवन कुमार के नेतृत्व में चन्दौली स्थित वृद्धआश्रम में मौनी अमावस्या के पावन पर्व पर परित्यक्त वृद्धजनों के बीच मिष्ठान और फल वितरण किया गया।


 उन्होंने कहा कि आज हमारा समाज संस्कार विहीन होते जा रहा है, जो माता- पिता अपने बच्चों की खुशियों के लिए अपने सारी खुशियों को त्याग कर देते हैं। वही बच्चे जब पढ़ लिख कर बड़े हो जाते हैं, तब अपने वृद्ध माता-पिता को वृद्ध आश्रमो में अकेले और तन्हा रहने के लिए छोड़ जाते हैं। यह एक स्वस्थ समाज के लिए बड़ा ही कलंकित प्रश्न है। 

नर सेवा नारायण सेवा ही मनुष्य का सबसे बड़ा धर्म है


उन्होंने कहा कि वृद्ध माता-पिता आंगन में उस पुराने पीपल के पेड़ की तरह है जो केवल अपने बच्चों को प्राणवायु के अलावा कुछ नहीं देता,इसलिए उन्होंने नौजवान पीढ़ियों से आह्वान करते हुए कहा कि अगर अपने बुढ़ापे को सुख में व्यतीत करना है, तो अपने माता पिता के बुढ़ापे की लाठी बनने की जरूरत है, और निरंतर उनकी सेवा करने की आवश्यकता है। और यही भारत और सनातन धर्म की संस्कृति भी रही है।


 इस अवसर पर आकाश कुमार जी, विकास जी दिनेश जी, कालिका जी ,श्यामसुंदर जी, पुनीत जी, नागेंद्र जी नरेंद्र जी अनामी जी सहित कई संगठन के अन्य पदाधिकारी साथी मौजूद रहे।

Share this story