×

Ayodhya News: तारुन थाना क्षेत्र के खौपुर गांव में इंटरलॉकिंग के नाम पर घटिया निर्माण करा कर शासन के धान का किया जा रहा दुरुपयोग

Ayodhya News:  तारुन थाना क्षेत्र के खौपुर गांव में इंटरलॉकिंग के नाम पर घटिया निर्माण करा कर शासन के धान का किया जा रहा दुरुपयोग

Ayodhya News:  तारुन थाना क्षेत्र के खौपुर गांव में इंटरलॉकिंग के नाम पर घटिया निर्माण करा कर शासन के धान का किया जा रहा दुरुपयोग


विभाग और ठेकेदारों में बना मेल, क्षेत्र में बदस्तूर जारी है घटिया निर्माण का खेल तारुनथाना क्षेत्र के खौंपुर गांव में विगत सप्ताह भर से इंटरलॉकिंग का कार्य क्षेत्र पंचायत निधि के द्वारा ब्लॉक प्रमुख तरुण की स्वीकृति पर कर जा रहा है जिसमें लगभग तीन हिस्सा कार्य घटिया निर्माण की भेंट चढ़ चुका है शेष बचा एक हिस्सा पर भी घटिया निर्माण की छत्रछाया ठेकेदार संबंधित विभाग की तरफ से निरंतर चल रहा है।

आपको बताते चलें की 243 मी इंटरलॉकिंग का कार्य उपरोक्त गांव के लिए ब्लॉक प्रमुख निधि से लगभग 12 लख रुपए की लागत से कर जा रहा है जिसमें ठेकेदार द्वारा मानक की धज्जियां उड़ाकर पीले ईट का प्रयोग कर रेजिंग का कार्य कराया गया जिसमें तीन बोरी मोरंग पांच बोरी बालू तथा एक बोरी सीमेंट मिलकर रैगिंग का कार्य पूर्ण कर लिया गया 243 मीटर इंटरलॉकिंग में मात्र 22 बोरी सीमेंट का प्रयोग किया गया।

इंटरलॉकिंग बिछाते समय पटे पटाए चक रोड पर गिट्टी की कुटाई पीली ईंट से कराकर उसके ऊपर ढेर सारा बालू डालकर उसी पर इंटरलॉकिंग का ईट बढ़ा दिया जा रहा है। जबकि जब से कार्य शुरू हुआ तब से आज तक जिला तहसील ब्लाक आज क्षेत्र से कोई भी अधिकारी कर्मचारी कार्य का जायजा लेने तक नहीं आया जिससे मन मुताबिक ठेकेदार द्वारा घटिया निर्माण करा कर धन और मुक्त कराकर अपनी जेब गर्म कर रहे हैं। लेबरों द्वारा पूछने पर नाम न छापने की शर्त पर बताया गया।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">

Ayodhya News:  तारुन थाना क्षेत्र के खौपुर गांव में इंटरलॉकिंग के नाम पर घटिया निर्माण करा कर शासन के धान का किया जा रहा दुरुपयोग

कि ठेकेदार द्वारा हम लोगों को यही मानक बताया गया है इसके विपरीत हम लोग कुछ करते हैं तो हमको ठेकेदार का कोप भाजन का शिकार होना पड़ता है। जिसकी वजह से ठेकेदार द्वारा मात्र 23 बोरी सीमेंट में 243 मी रेसिंग का काम कर दिया गया जिसमें मानक की धज्जियां उड़ाकर इंटरलॉकिंग का कार्य कराया जा रहा है जो अब लगभग पूर्ण होने की स्थिति में है।

सूत्रों द्वारा बताया गया कि उक्त निर्माण पूरी तरह से बरसात होने पर जगह-जगह गड्डो में तब्दील हो सकता है। ब्लॉक प्रमुख के कार्य कोटे से उपलब्ध इंटरलॉकिंग भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया आज तक कोई अधिकारी कर्मचारी हो रहे निर्माण के बारे में भौतिक सत्यापन तक नहीं कराया गया। मानक की धज्जियां उड़ाकर कराई जा रहे इस काम में ठेकेदार के अलावा जिम्मेदार अधिकारी भी भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में लगे है।

Share this story