अयोध्या: सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीकापुर में स्वास्थ्य मंत्री के फरमान का नहीं हो रहा असर, प्रसव के लिए आई प्रसूता से पैसा लेने एवं बाहर की दवा लिखने का आरोप
अयोध्या: सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीकापुर में स्वास्थ्य मंत्री के फरमान का नहीं हो रहा असर, प्रसव के लिए आई प्रसूता से पैसा लेने एवं बाहर की दवा लिखने का आरोप

अयोध्या। बीकापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीकापुर में स्वास्थ्य व्यवस्था पटरी पर नहीं लौट पा रही है। उपमुख्यमंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक के प्रदेश के स्वास्थ्य केंद्रों पर जगह-जगह निरीक्षण और हिदायतो का असर अयोध्या जनपद के सीएचसी बीकापुर में नहीं दिखाई पड़ रहा है।

प्रसव के लिए आई महिला के मामले में पैसा लेने और बाहर से दवा लिखने का मामला प्रकाश में आया है बीकापुर विकासखड क्षेत्र के मंहावा गांव निवासी प्रसव पीड़िता के परिजनों से प्रसव के बाद स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा सुविधा शुल्क के नाम पर 4500 रुपए डिमांड किए जाने का आरोप है। यही नहीं अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद 900 की बाहर से दवा लिखने के लिए लिखा गया।

गुरुवार को पीड़ित द्वारा जनसुनवाई शिकायत पोर्टल पर मुख्यमंत्री और जिलाधिकारी को शिकायत पत्र भेजकर प्रकरण से अवगत कराया गया। और दोषियों के विरुद्ध जांच कर कार्यवाही की मांग की गई। महावा गांव निवासी ईश्वर दीन द्वारा बताया गया कि उन्होंने अपनी 26 वर्षीय बहन कुसुम पत्नी सुनील कुमार को प्रसव के लिए 1 अगस्त को आशा कार्यकत्री सीमा तिवारी के साथ एंबुलेंस सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीकापुर में ले जाकर एडमिट कराया गया।

जहां पर उनकी बहन कुसुम ने नॉर्मल प्रसव द्वारा स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। प्रसव के बाद अस्पताल में प्रसव कराने के नाम पर 4500 ले लिया गया। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद घर आने के पहले 900 की बाहर की दवा मंगाई गई। घर जाने के लिए एंबुलेंस सेवा उपलब्ध ना होने पर प्राइवेट वाहन करके ढाई सौ रुपए देकर घर पहुंचा गया।

पीड़ित द्वारा भेजे गए शिकायत पत्र में कहा है कि वह काफी गरीब और मजदूर व्यक्ति है अस्पताल में व्याप्त भ्रष्टाचार की जांच करके दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही और उसका पैसा वापस दिलाया जाना चाहिए। इस संबंध में अधीक्षक अवधेश कुमार सिंह ने बताया कि शिकायत मिलने पर जांच की जाएगी।

Share this story