×
UP में बंद होंगे ऐसे मदरसे, सर्वे रिपोर्ट पर भड़के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक क्या बोले?
UP में बंद होंगे ऐसे मदरसे, सर्वे रिपोर्ट पर भड़के डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक क्या बोले?

यूपी के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक मदरसा सर्वे रिपोर्ट पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि गैर कानूनी कार्यों में लिप्त मदरसों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक मदरसा सर्वे रिपोर्ट पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि गैर कानूनी कार्यों में लिप्त मदरसों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 

G-20 Summit: प्रधानमंत्री ऋषि सुनक से मिले PM नरेंद्र मोदी,क्या हुई बात?

इन मदरसों को सरकार बंद करा देगी। इसके इतर उन्होंने कहा कि डेंगू पूरी तरीके से काबू में है। मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है।  

मोरबी ब्रिज हादसा- 'बिना टेंडर आमंत्रित किए रेनोवेशन का ठेका कैसे दे दिया?' गुजरात हाईकोर्ट

मदरसों की सर्वे रिपोर्ट आने के बाद उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा ने कानून का राज स्थापित किया है, विपक्षियों को यह रास नहीं आ रहा। इस कारण अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं। जो भी मदरसे गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त हैं, उन्हें बंद करा दिया जाएगा। 

अफगानिस्तान- तालिबान ने देशभर में लागू किया इस्लामिक कानून

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि डेंगू को लेकर भी घबराने की आवश्यकता नहीं है। डेंगू पूरी तरह से कंट्रोल में है। केसों में भी लगातार कमी आ रही है। हर जिले में डेंगू मरीजों के लिए एक अलग अस्पताल नामित कर दिया गया है।  

जबरन धर्मांतरण पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई नाराजगी, देश के लिए बताया खतरा, सरकार से मांगा जवाब

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार अब वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जेल के अंदर से ही दुर्दांत अपराधियों की कोर्ट में वर्चुअल पेशी कराई जाएगी। इससे सरकारी व्यय और पुलिस पर भार भी कम होगा।

मदिरा प्रेमियों के लिए खुशखबरी! सिर्फ 52 रुपए में मिल रही शराब की कैन और रम की बोतल , थैला भर-भर के ले जा रहे लोग

यह भी पढ़े:

जनसंख्या विस्फोट से धरती खतरे में, कब रुकेगा यह विस्फोट

विश्व की जनसंख्या 1974 में 4 अरब ही थी, जो अब 8 अरब के पार हो गई है। 1950 में तो विश्व की जनसंख्या महज ढाई अरब ही थी। 2086 ऐसा साल होगा, जब इस विश्व में 10.6 अरब के पार इंसानों की जनसंख्या हो जाएगी। 

G-20 Summit: प्रधानमंत्री ऋषि सुनक से मिले PM नरेंद्र मोदी,क्या हुई बात?

World population: विश्व की जनसंख्या आज बढ़कर 8 अरब हो गई है। आज मानव सभ्यता इतना बड़ा परिवार हो गया है कि आने वाली सालों में खाद्यान्न समेत तमाम जरूरतों की किल्लत भी देखने को मिल सकती है।

जबकि, एक्सपर्ट्स मानते हैं कि इसी सदी में एक दौर ऐसा भी आएगा, जब जनसंख्या की ग्रोथ स्थिर हो जाएगी और फिर गिरावट भी देखने को मिलेगी। लेकिन बीते 48 सालों में जनसंख्या में जो इजाफा हुआ है, वह चौंकाने वाला है।

मदिरा प्रेमियों के लिए खुशखबरी! सिर्फ 52 रुपए में मिल रही शराब की कैन और रम की बोतल , थैला भर-भर के ले जा रहे लोग

विश्व की जनसंख्या 1974 में 4 अरब ही थी, जो अब 8 अरब के पार हो गई है। 1950 में तो विश्व की जनसंख्या महज ढाई अरब ही थी। यही नहीं 2086 ऐसा साल होगा, जब इस विश्व में 10.6 अरब के पार इंसानों की जनसंख्या हो जाएगी। 

आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो सबसे ज्यादा जनसंख्या अब भी 142 करोड़ के साथ चीन की है और दूसरे नंबर पर भारत है, जिसकी जनसंख्या 141 करोड़ है।

कहा जा रहा है कि जिस गति से भारत की जनसंख्या बढ़ रही है, उसके मुताबिक 2023 में वह चीन को भी इस मामले में पीछे छोड़ देगा।

जबरन धर्मांतरण पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई नाराजगी, देश के लिए बताया खतरा, सरकार से मांगा जवाब

हालांकि 2050 के आसपास से जनसंख्या की ग्रोथ स्थिर होगी और फिर कमी भी देखने को मिलेगी। यही वजह है कि भारत, चीन समेत विश्व के कई देशों में आने वाले दशकों में युवा जनसंख्या घटने की आशंका जताई जा रही है, जिसका वर्कफोर्स पर विपरीत असर देखने को मिल सकता है। 

विश्व के कई देशों में थमी जनसंख्या की रफ्तार

दरअसल विश्व के कई देशों में पहले से ही जनसंख्या की ग्रोथ रेट रिप्लेसमेंट लेवल यानी 2.1 से भी कम हो गई है। कहा जा रहा है कि पूरी विश्व की जनसंख्या की ग्रोथ रेट ही 2055 तक 2.1 यानी रिप्लेसमेंट लेवल तक रह जाएगी।

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक जनसंख्या में सबसे अधिक इजाफा 2012 से 2014 के दौरान हुआ है। इस दौरान 14 करोड़ से ज्यादा बच्चों का जन्म हुआ था। कहा जा रहा है कि कुछ उतार-चढ़ाव के साथ ही 2043 से जनसंख्या बढ़ने की दर में गिरावट देखी जा सकती है।

अफगानिस्तान- तालिबान ने देशभर में लागू किया इस्लामिक कानून

अब तक जनसंख्या में तेजी से इजाफा हुआ है, लेकिन अब अगले एक अरब लोगों के जनसंख्या में जुड़ने में 12 सालों का वक्त लगेगा। 

चीन और भारत नहीं, अब इन देशों में तेजी से बढ़ेगी जनसंख्या

जनसंख्या से जुड़े मामलों की समझ रखने वालों का कहना है कि मृत्यु दर में कमी की वजह से भी जनसंख्या में इजाफा हो रहा है। बीते करीब 70 सालों में विश्व की जनसंख्या बढ़ाने में चीन और भारत का अहम योगदान रहा है। इन दोनों देशों की जनसंख्या ही मिला लें तो यह करीब 2.80 अरब हो जाती है।

लेकिन आने वाले वक्त में भारत और चीन की ग्रोथ में कमी देखने को मिलेगी। कहा जा रहा है कि 21वीं सदी के आखिरी दशकों में भारत और चीन की बजाय अफ्रीकी देशों में जनसंख्या तेजी से बढ़ेगी। इन देशों में तंजानिया, नाइजीरिया और कॉन्गो शामिल होंगे। 

जनसंख्या बढ़ने की दर पर नजर दौड़ाएं तो विश्व में मनुष्यों की संख्या 1950 में ढाई अरब थी, जो अगले 10 सालों में बढ़कर 3 अरब हो गई। इसके बाद 1974 में 4 अरब हो गई। फिर अगले 13 सालों में यानी 1987 में यह आंकड़ा 5 अरब हो गया।

मोरबी ब्रिज हादसा- 'बिना टेंडर आमंत्रित किए रेनोवेशन का ठेका कैसे दे दिया?' गुजरात हाईकोर्ट

हालांकि अगला एक अरब यानी 6 करोड़ आंकड़ा होने में 12 साल ही लगे। फिर 2011 में दुनिया की जनसंख्या 7 अरब हो गई और अब आंकड़ा 11 सालों में 8 अरब के पार पहुंच गया है।

कहा जा रहा है कि आने वाले दशकों में जनसंख्या की ग्रोथ में थोड़ी स्थिरता आएगी और 2086 तक हमारी जनसंख्या 10.4 अरब तक पहुंच जाएगी।

Share this story