डीएम ने चयनित विकासखंड के लक्ष्य को संतृप्तिकरण करने का दिया निर्देश
डीएम ने चयनित विकासखंड के लक्ष्य को संतृप्तिकरण करने का दिया निर्देश

गोरखपुर। प्रदेश में पिछड़े हुए 100 आकांक्षी विकास खंडों का चयन शासन द्वारा किया गया है जिसमें गोरखपुर जनपद के तीन विकासखंड कैंपियरगंज बासगांव  ब्रह्मापुर को चयनित किया गया है। चयनित विकासखंड के ग्राम पंचायतों का विकास, विकास के पथ पर ले जाने के लिए जिलाधिकारी  विजय किरन आनंद जिलाधिकारी सभागार में संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये। चयनित इन तीन विकास खंडों का विकास शासन के मनशाअनरूप  कराया जा सके। शासन द्वारा प्रदेश के अंतर्गत पिछड़े क्षेत्र के कुल 100 अकांक्षी विकास खण्डों का चयन कर विकास के लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर तय किये गए हैं जिसके आधार पर विभिन्न विभागों के लक्ष्य (टारगेट) का संतृप्तिकरण करने का निर्देश दिया गया हैं।

जनपद में कुल 3 विकास खण्ड कैम्पियरगंज  बांसगांव तथा ब्रहमपुर चयनित हैं। जिलाधिकारी  द्वारा लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटरवार समीक्षा करते हुए समस्त अधिकारियों को निर्देशित किया की अपने अपने विभाग केबलक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर के अनुसार प्रगति का संतृप्तिकरण करना सुनिश्चित करें जिला अर्थ एवम संख्याधिकारी चंद्रशेखर द्वारा अवगत कराया गया की विभिन्न विकास विभागों के 87 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर शासन द्वारा निर्धारित किये गए हैं जिसमे चिकित्सा विभाग के कुल 23 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर बाल विकास विभाग के कुल 8 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर शिक्षा विभाग के 14 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर कृषि एवम जल संसाधन में 18 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर वितीय समावेशन एवम कौशल विकास के 16 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर तथा आधारभूत अवसंरचना में 8 लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर फीडिंग हेतु निर्धारित हैं। 

जिसे मासिक त्रैमासिक अर्धवार्षिक व वार्षिक के रूप में किया जाना हैं जिलाधिकारी विजय किरन आनंद द्वारा निर्देशित किया गया की सम्बंधित सभी विभाग निर्धारित समय सरणी के अनुसार अपनी सूचना पोर्टल पर अवश्य फीड कराये आप द्वारा विकास कार्य करने के बाद भी पोर्टल पर डाटा फीड न करने के कारण प्रगति में सुधार परीलक्षित नहीं हो रहा हैं वर्तमान में शासन द्वारा लक्ष्य (टारगेट) इंडिकेटर का रैंकिंग प्रतिमाह किया जा रहा हैं जिसे अभी से लक्ष्य के अनुरूप कार्य करना सुनिश्चित करें जिस विभाग को सूचना भरने या इंडिकेटर को समझने में समस्या हो तो अधोहस्ताक्षरी या जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी के संज्ञान में लाते हुए समस्या का निराकरण कराये । अगली बैठक में सभी सम्बंधित अधिकारी पूर्ण तैयारी के साथ बैठक में प्रतिभाग करेंगे । बैठक में जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी  जिला विकास अधिकारी परियोजना निदेशक ग्राम विकास अभिकरण तथा अन्य विभाग के सम्बंधित अधिकारीगण उपथित थे।

Share this story