Asad Rauf: क्रिकेट के मशहूर पूर्व अंपायर असद रऊफ का 66 वर्ष की आयु में निधन!
Asad Rauf: Cricket's famous former umpire Asad Rauf passed away at the age of 66!

लाहौर: आईसीसी एलीट पैनल का हिस्सा रह चुके पूर्व अंपायर असद रऊफ (Asad Rauf) का निधन हो गया है। वह 66 साल के थे। बताया जा रहा है कि उनकी मौत कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुई है।

 

पाकिस्तान के रऊफ 2000 के दशक में दुनिया के टॉप अंपायर में गिने जाते थे। उनके भाई ने बताया कि वह अपनी दुकान बंद करने के बाद वापस घर जा रहे थे। इसी दौरान उन्हें कार्डियक अरेस्ट हुआ और उनकी मौत हो गई।

 


200 से ज्यादा मैच में रहे अंपायर

 


असद रऊफ ने साल 2000 में अंपायरिंग डेब्यू किया था। उन्होंने पहली बार वनडे में अंपायर की भूमिका निभाई थी। 2005 में पहली बार उन्हें टेस्ट और 2007 में टी20 इंटरनेशनल मैच में अंपायरिंग का मौका मिला। उन्होंने 64 टेस्ट, 139 वनडे और 28 टी20 इंटरनेशनल में अंपायर की भूमिका निभाई है। उन्होंने 64 टेस्ट में से 49 में मैदानी अंपायर और 15 में टीवी अंपायर के रूप में हिस्सा लिया।

 

 


स्पॉट फिक्सिंग में आया नाम


2013 में असद रऊफ का नाम स्पॉट फिक्सिंग में आया। मुंबई पुलिस ने उन्हें आरोपी बनाया और वह वॉन्टेड हो गए। रऊफ ने उस आईपीएल सीजन के खत्म होने से पहले ही भारत छोड़ दिया था। फिर चैंपियंस ट्रॉफी से आईसीसी ने उन्हें हटाने का फैसला किया।

 

फिर उसी साल रऊफ को आईसीसी के एलीट पैनल से हटा दिया गया। हालांकि आईसीसी ने साफ किया था कि उन्हें इसलिए नहीं हटाया गया क्योंकि उनका नाम जांच में आया था। वहीं, बीसीसीआई ने 2016 में रऊफ को 5 साल के लिए बैन कर दिया।


अंपायर बनने से पहले असद रऊफ पाकिस्तान में घरेलू क्रिकेट खेल चुके थे। वह मध्यक्रम में बल्लेबाजी करने के साथ पार्ट टाइम गेंदबाजी करते थे। उन्होंने पाकिस्तान रेलवे, लाहौर और नेशनल बैंक ऑफ पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व किया था। उनके नाम 71 प्रथम श्रेणी मैच में 3423 रन थे। 40 लिस्ट ए मैचों में वह 611 रन बना सकते थे।

रऊफ ने पाकिस्तान के नेशनल बैंक और रेलवे की तरफ से 71 प्रथम श्रेणी मैच खेले और बाद में वह अंपायर बन गए। उन्हें अप्रैल 2006 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के एलीट पैनल में शामिल किया गया था। उन्होंने महिला टी20 में भी 11 मैचों में अंपायरिंग की।



अलीम दार के साथ वह पाकिस्तान के प्रमुख अंपायरों में शामिल रहे। हालांकि 2013 में उनका करियर तब समाप्त हो गया जब मुंबई पुलिस ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में उन्हें एक आरोपी बनाया। तब रऊफ इस टूर्नामेंट में अंपायरिंग कर रहे थे।



वह तब आईपीएल को बीच में ही छोड़कर भारत से चले गए थे और बाद में चैंपियंस ट्रॉफी से भी हट गए थे। उन्हें इसके बाद आईसीसी एलीट पैनल से बाहर कर दिया गया था।भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने वर्ष 2016 में उन पर भ्रष्टाचार और दुर्व्यवहार के लिए पांच साल का प्रतिबंध लगाया था।





बीसीसीआई के बाद पीसीबी ने भी उन पर प्रतिबंध लगा दिया था जिससे वह घरेलू मैचों में भी अंपायरिंग नहीं कर पाए। उन्हें पाकिस्तान में क्रिकेट से जुड़ी सभी गतिविधियों से प्रतिबंधित कर दिया गया था। इसके बाद उन्होंने लाहौर में कपड़ों और जूतों की दुकान खोल दी थी।

Share this story