×
varanasi: चन्द्र ग्रहण 2022 काशी विश्वनाथ धाम के कपाट तीन घंटे के लिए बंद, भक्तों को क्यों करना पड़ेगा लंबा इंतज़ार?
kashi vishwanath dham close.jpg
Chandra Grahan 2022 : 08 नवंबर को चंद्रग्रहण, जानिए कब दिखेगा ग्रहण और सूतक काल, ग्रहण के दौरान किए गए जाप जल्दी होते हैं सिद्ध, इन मंत्रो का करें जाप, मन मुताबिक इच्छाएं होंगी पूरी...   काशी विश्वनाथ मंदिर के कपाट चंद्रग्रहण (Chandra Grahan 2022) के कारण आठ नवंबर को तीन घंटे तक बंद रहेंगे. दोपहर 3:30 से शाम 6:30 तक दर्शन नहीं होंगे।  

Varanasi-Viswanath Temple News: वाराणसी में स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर के कपाट चंद्रग्रहण (Chandra Grahan 2022) के कारण आठ नवंबर को तीन घंटे तक बंद रहेंगे।  दोपहर 3:30 से शाम 6:30 तक दर्शन नहीं होंगे।  इस दौरान विश्वनाथ धाम में किसी भी विग्रह के दर्शन नहीं होंगे। शाम 6:30 पर उग्रह पूजा के बाद ही दर्शन होंगे।  ये चंद्रग्रहण साल का आखिरी ग्रहण होगा। 

 

भारत के साथ ये चंद्रग्रहण कई अन्य देशों में भी दिखाई देगा।  भारतीय समयानुसार चंद्रग्रहण 8 नवंबर को शाम 5:32 बजे से शुरू होगा और शाम 6:18 बजे खत्म होगा। ग्रहण के सूतक काल में आम तौर पर मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाते हैं।  इस दौरान कोई भी धार्मिक अनुष्ठान नहीं किए जाते। 

 

कहां दिखाई देगा चंद्रग्रहण 

चंद्रोदय के समय से ये ग्रहण भारत के सभी हिस्सों से दिखाई देगा, लेकिन आंशिक और पूर्ण ग्रहण के प्रारंभिक चरण दिखाई नहीं देंगे क्योंकि दोनों घटनाएं तब शुरू होती हैं जब चंद्रमा भारत में हर जगह क्षितिज के नीचे होता है। कोलकाता सहित पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में पूर्ण चंद्रग्रहण का अनुभव होगा, जबकि देश के बाकी हिस्सों में लोग केवल ग्रहण के आंशिक चरण की प्रगति को देख पाएंगे जो शाम को लगभग 6:18 बजे समाप्त होगा। नई दिल्ली में चंद्रोदय से लगभग 5:31 बजे आंशिक ग्रहण का अनुभव होगा। 

 

दिवाली के बाद लगा था सूर्यग्रहण

खगोलविद के अनुसार, जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है तो चंद्रग्रहण की घटना होती है। चंद्रग्रहण की स्थिति में पृथ्वी की छाया चांद की रोशनी को ढक लेती है।इस साल दोनों दिवाली ग्रहण से प्रभावित हो रही हैं. पंचांग के अनुसार, इस बार 24 अक्टूबर को दिवाली थी और त्योहार के अगले ही दिन यानी 25 अक्टूबर को सूर्यग्रहण लगा था।  इस साल देव दिवाली 7 नवंबर 2022 को मनाई जाएगी, उसी के अगले दिन चंद्रग्रहण (Chandra Grahan 2022) लग रहा है। 

 

Chandra Grahan 2022 : 08 नवंबर को चंद्रग्रहण, जानिए कब दिखेगा ग्रहण और सूतक काल, ग्रहण के दौरान किए गए जाप जल्दी होते हैं सिद्ध, इन मंत्रो का करें जाप, मन मुताबिक इच्छाएं होंगी पूरी...

ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण के दौरान कई चीजे करने की मनाही होती है। इस समय सिर्फ भगवना का स्मरण करने की सलाह दी जाती है। 08 नवंबर, मंगलवार को देश-दुनिया में साल 2022 का आखिरी ग्रहण देखने को मिलेगा। यह ग्रहण पूर्ण चंद्रग्रहण  होगा। 15 दिनों के अंतराल पर यह दूसरा ग्रहण होगा इसके पहले बीते 25 अक्तूबर को साल का आखिरी सूर्य ग्रहण लगा था।

भारत में इस चंद्र ग्रहण को देखा जा सकेगा जिसके कारण ग्रहण का सूतक काल मान्य होगा। चंद्रग्रहण में सूतक काल ग्रहण के शुरू होने से 9 घंटे पहले लगेगा। भारत में पूर्वोत्तर राज्यों में पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखेगा। भारत के अलावा 08 नवंबर को लगने वाला चंद्रग्रहण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, एशिया और पेसिफिक में दिखाई देगा।

यह चंद्र ग्रहण कार्तिक पूर्णिमा पर देव दीपावली की तिथि पर लगेगा आपको बता दें कि 25 अक्तूबर को लगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण भी दिवाली के अगले दिन पर कार्तिक अमावस्या तिथि पर लगा था। भारत में यह चंद्रग्रहण शाम होते ही दिखाई देने लगेगा।आइए जानते हैं 08 नवंबर को लगने वाले चंद्रग्रहण से संबंधित सभी जानकारियां और इसके प्रभाव के बारे में विस्तार से...

भारत में कितने बजे शुरू होगा चंद्र ग्रहण ?

चंद्र ग्रहण की तिथि: 08 नवंबर, सोमवार 2022 चंद्रग्रहण का समय : शाम 05 बजकर 28 मिनट से 06 बजकर 19 मिनट तक चंद्रोदय का समय- 08 नवंबर शाम 5 बजकर 28 मिनट पर

कार्तिक माह की पूर्णिमा तिथि पर लगने वाला यह साल 2022 का दूसरा चंद्र ग्रहण होगा। 15 दिन पहले साल का आखिरी सूर्य ग्रहण दिवाली के अगले दिन कार्तिक अमावस्या के दिन पड़ा था। 08 नवंबर को चंद्र ग्रहण की शुरूआत भारत में शाम 05 बजकर 28 मिनट से होगी और इसका समापन 06 बजकर 19 मिनट पर होगा। 

चंद्र ग्रहण का सूतक काल कितने बजे से होगा शुरू

वैदिक ज्योतिष गणना के अनुसार सूर्य ग्रहण होने पर सूतक काल ग्रहण के शुरू होने से 12 घंटे पहले जबकि चंद्र ग्रहण होने पर 9 घंटे पहले से सूतक शुरू हो जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ग्रहण पर सूतक काल को शुभ नहीं माना जाता है। सूतक काल के दौरान पूजा-पाठ और शुभ कार्य वर्जित होता है। 08 नवंबर को सुबह 6 बजकर 39 मिनट से सूतक काल आरंभ हो जाएगा जो ग्रहण की समाप्ति के साथ खत्म हो जाएगा।

इस राशि और नक्षत्र में लगेगा चंद्र ग्रहण

ज्योतिष गणना के मुताबिक साल का यह चंद्र ग्रहण 08 नवंबर 2022 को मेष राशि और भरणी नक्षत्र में लगेगा। मेष राशि के स्वामी ग्रह मंगल होते हैं और इस दिन ये तीसरे भाव में वक्री अवस्था में रहेंगे। इसके अलावा चंद्रमा राहु के साथ मौजूद होंगे और सूर्य केतु,शुक्र और बुध के साथ स्थित होंगे। देवगुरु बृहस्पति अपनी स्वयं की राशि मीन और शनिदेव भी अपनी स्वयं की राशि मकर में विराजमान रहेंगे।

भारत में कहां-कहां दिखाई देगा चंद्र ग्रहण

दिवाली के बाद अब कार्तिक पूर्णिमा पर भी चंद्रग्रहण देखने को मिलेगा। 15 दिन के अंतराल पर यह दूसरा ग्रहण होगा। भारत में इस पूर्ण चंद्र ग्रहण को देखा जा सकेगा। भारत के कुछ हिस्सों में पूर्ण चंद्रग्रहण जबकि ज्यादातर हिस्सों में आंशिक चंद्रग्रहण देखने को मिलेगा। भारत में ग्रहण की शुरूआत 08 नवंबर को चंद्रोदय होने के साथ शुरू हो जाएगा।

देश में यहां दिखेगा पूर्ण चंद्र ग्रहण

भारत में 08 नवंबर की शाम को जैसे ही चंद्रोदय होगा सबसे पहले पूर्वोत्तर की दिशा में सबसे पहले चंद्र ग्रहण देखने को मिलेगा। अरुणाचल प्रदेश में सबसे पहले पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखाई देगा। 

देश के इन हिस्सों में दिखेगा आंशिक चंद्र ग्रहण

पूर्वोत्तर के क्षेत्रों को छोड़कर भारत के अधिकांश हिस्सों में आंशिक चंद्र ग्रहण दिखाई देगा।

दुनिया में यहां देखा जा सकेगा पूर्ण चंद्र ग्रहण

एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर, हिंद महासागर, उत्तरी पूर्वी यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दक्षिणी अमेरिका के अधिकांश हिस्से में साल का आखिरी चंद्र ग्रहण का नजारा दिखाई देगा।

यहां नहीं दिखेगा साल का आखिरी चंद्र ग्रहण

08 नवंबर को दक्षिणी पश्चिमी यूरोप और अफ्रीका में ग्रहण दिखाई नहीं देगा ।

चंद्र ग्रहण में क्या करें और क्या न करें?

08 नवंबर को साल का आखिरी ग्रहण होगा। कार्तिक पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा इस कारण से इसका सूतक काल मान्य होगा। ऐसे में ग्रहण के लगने के 09 घंटे पहले से सूतक काल लग जाएगा। शास्त्रों में सूतक काल को अशुभ माना गया है इसलिए सूतक लगने पर पूजा-पाठ,धार्मिक अनुष्ठान और शुभ काम नहीं किए जाते हैं। मंदिर के पट बंद दो जाते हैं। ग्रहण में न तो खाना पकाया जाता है और न ही खाना खाया जाता है। ग्रहण के दौरान मंत्रों का जाप और ग्रहण के बाद गंगाजल से स्नान और दान किया जाता है। ग्रहण की समाप्ति होने पर पूरे घर में गंगाजल से छिड़काव किया जाता है।

चंद्र ग्रहण में क्या न करें

  • चंद्र ग्रहण के दौरान कभी भी कोई शुभ काम या देवी-देवताओं की पूजा नहीं करनी चाहिए।

  • चंद्र ग्रहण के दौरान न ही भोजन पकाना चाहिए और न ही कुछ खाना-पीना चाहिए।

  • चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं का ग्रहण नहीं देखना चाहिए और न ही घर से बाहर जाना चाहिए। 

  • चंद्रग्रहण के दौरान तुलसी समेत अन्य पेड़-पौधों नहीं छूना चाहिए।

चंद्र ग्रहण में क्या करें

  • ग्रहण शुरू होने से पहले यानी सूतक काल प्रभावी होने पर पहले से ही खाने-पीने की चीजों में पहले से तोड़े गए तुलसी के पत्ते को डालकर रखना चाहिए।

  • ग्रहण के दौरान अपने इष्ट देवी-देवताओं के नाम का स्मरण करना चाहिए।

  • ग्रहण के दौरान इसके असर को कम करने के लिए चंद्रमा से जुड़े हुए मंत्रों का जाप करना चाहिए।

  • ग्रहण खत्म होने पर पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करना चाहिए।

  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान विशेष सावधानियां बरतनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को न तो ग्रहण देखना चाहिए और न ही ग्रहण के दौरान घर से बाहर जाना चाहिए। ग्रहण के दौरान अगर गर्भवती महिलाएं सूर्य ग्रहण देखती हैं या फिर बाहर निकलती हैं तो गर्भ में पल रहे नवजात शिशु पर नकारात्मक असर पड़ता है।  ज्योतिष के नजरिए से ग्रहण के समय सूर्य और चंद्रमा पर बुरे ग्रह राहु-केतु का प्रभाव सबसे ज्यादा होता है। इस कारण से बच्चे की कुंडली में इन ग्रहों से संबंधित कोई न कोई दोष हो सकता है। 

  • ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं बाहर जाने से बचें।
  • गर्भवती महिलाओं को सूर्य ग्रहण नहीं देखना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाएं ग्रहण शुरू होने से पहले और खत्म होने के बाद स्नान अवश्य करें।
  • ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को कोई भी नुकीली चीज का प्रयोग करने से बचना चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को सोने से बचना चाहिए।

ज्योतिष शास्त्र में कुछ चमत्कारी और शक्तिशाली मंत्रों के जाप के बारे में बताया गया है, जिनका जाप करने से व्यक्ति की सभी समस्याएं छूमंतर हो जाएंगी।

चंद्र ग्रहण के दौरान करें इन मंत्रों का जाप

1. शत्रुओं से मुक्ति के लिए बगलामुखी मंत्र का जाप करना उत्तम रहता है।

ॐ ह्लीं बगलामुखी देव्यै सर्व दुष्टानाम वाचं मुखं पदम् स्तम्भय जिह्वाम कीलय-कीलय बुद्धिम विनाशाय ह्लीं ॐ नम:।

2. अगर आप किसी मुकदमे में फंसे हुए हैं, और उसे जीतना चाहते हैं तो इस मंत्र का उच्चारण करना सर्वोत्तम उपाय है।

ॐ ह्लीं बगलामुखी सर्वदुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तंभय जिह्ववां कीलय बुद्धि विनाशय ह्लीं ओम् स्वाहा।। इस मंत्र में ‘सर्वदुष्टानां’ के स्थान पर उस व्यक्ति का नाम लें, जिससे छुटकारा पाना चाहते हैं।

3. कहते हैं कि ग्रहण के दौरान किए गए जाप जल्दी सिद्ध पाते हैं। ऐसे ही धन की देवी लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए इस मंत्र का उच्चारण करें।

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं ॐ स्वाहा:।

4. चंद्र ग्रहण के दौरान मंत्र के उच्चारण से वाक सिद्धि की प्राप्ति होती है।

ॐ ह्लीं दुं दुर्गाय: नम:।

5. नौकरी और व्यापार में वृद्धि चाहते हैं तो चंद्र ग्रहण के दौरान इस मंत्र का उच्चारण करें।

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद-प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नम:।

यह लेख मान्यताओं पर आधारित है। हम इसकी पुष्टि नहीं करते हैं।

Share this story