ड्यूटी पर लौटने का बनाया दबाव तो सेना में कार्यरत बेटे ने पिता की गोली मारकर की हत्या, 1 साल से घर में काट रहा था छुट्टी
ड्यूटी पर लौटने का बनाया दबाव तो सेना में कार्यरत बेटे ने पिता की गोली मारकर की हत्या, 1 साल से घर में काट रहा था छुट्टी

मध्य प्रदेश।  रीवा में सेना के एक भगोड़े जवान ने आपसी विवाद के चलते अपने माता-पिता को गोली मार कर घायल कर दिया। घटना के बाद पुत्र फरार हो गया था जिसे पुलिस ने पकड़ लिया है। गंभीर हालत में माता-पिता को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। मामला लौर थाने के पिडरिया गांव का है।  कलयुगी पुत्र सेना में पदस्थ था लेकिन पिछले एक साल से ड्यूटी पर नहीं गया।  भूतपूर्व सैनिक पिता अम्बिका लगातार उसे सेना में जाने के लिए कह रहे थे।  यह पुत्र अभिषेक को नागवार गुजरा।

नौकरी पर जाने में आनाकानी कर रहा था बेटा इसी से उपजे विवाद में अभिषेक ने लाइसेंसी बंदूक से माता-पिता को गोली मार दी। पूर्व सैनिक पिता नौकरी करने के लिए कह रहे थे लेकिन अभिषेक नौकरी में जाने पर आनाकानी कर रहा था।  पूर्व सैनिक पिता ने भारी मेहनत कर सैनिक कोटे से अभिषेक की सेना में भर्ती कराई थी। वह भगोड़ा घोषित होने की कगार में पहुंच गया है। पिता के बार-बार कहने से वह माता-पिता की जान का दुश्मन बन गया। 

इस घटना में अम्बिका पाण्डेय और उनकी पत्नी शीला पाण्डेय गंभीर रूप से घायल हो गए।  दोनों को गोली के छर्रे लगे हैं। घटना के बाद आरोपी पुत्र अभिषेक मौके से फरार हो गया है। इन्हें इलाज के लिए संजय गांधी मेमोरियल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है जहां इनकी हालत खतरे से बाहर हैं। 

Share this story