मां दुर्गा की सुंदर मुस्कराती हुई फोटो पूरे देश में वायरल, मूर्तिकार है पवन, झलक पाने उमड़ रहे लोग
maa

मध्य प्रदेश।  पूरे देश में नवरात्रि का पर्व बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जा रहा है। घरों में घट स्‍थापना होती है तो पंडालों में देवी मां की मर्ति रखी हुई है। कोविड गाइडलाइन के मुतााबिक, इस बार भी जगह-जगह आकर्षक प्रतिमाएं स्थापित की गई हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक मनमोहक मूर्ति की तस्वीरें खूब वायरल हो रही हैं। प्रतिमा में मां की मुस्कुराहट इतनी प्यारी है कि देखने में वह एकदम सजीव दिखाई दे रही है। आइए जानते हैं कहां रखी हुई है यह देवीजी की मूर्ति दरअसल, दुर्गा मां की यह मुस्कुराती मूर्ति मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से 22 किलोमीटर दूर सिंगोड़ी गांव में स्थापित की गई है। यहां के रहने वाले एक मूर्तिकार पवन प्रजापति ने देवी मां की यह मुस्कुराती मूर्ति बनाई है। तस्वीर देखने के बाद लोग उस मूर्तिकार की कलाकारी की खूब सराहना कर रहे हैं।

मां दुर्गा की सुंदर मुस्कराती हुई फोटो पूरे देश में वायरल, मूर्तिकार है पवन, झलक पाने उमड़ रहे लोग

मूर्तिकार देवी मां की ऐसी मूर्ति बनाई है कि लोगों को देखने लगता है कि यह सजीव है। इस मूर्ति को देखने हर दिन छिंदवाड़ा ही नहीं, पड़ोसी जिले नरसिंहपुर, बैतूल, होशंगाबाद, सिवनी से भी लोग पहुंच रहे हैं। हर कोई मूर्तिकार पवन से मिलता है और उनकी तारीफ करते नहीं थकता। मूर्तिकार पवन ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि कोरोना काल में लाखों लोगों ने अपनों को खो दिया है। करीब-करीब हर गांव हर परिवार से लोग इस महामारी के चलते हमें छोड़कर चले गए। हर तरफ सिर्फ दुख और मायूसी छाई हुई थी। इसलिए मैंने लोगों को खुस करने के लिए देवी मां की मुस्कुराते हुए चेहरे वाली मूर्ति बनाई। 

पवन का कहना है कि मुझे लगता है कि माता रानी के मनमोहक मुस्कुराते हुए चेहरे को देखकर  लोग अपने गमों को भूलकर जीवन में आगे बढ़ेंगे। मैं भी माता रानी से विनती करता हूं कि आपकी तरह हर इंसान का चेहरा यूं ही मुस्कुराता रहे। बस इसी उद्देशय से ही मैंने इस तरह की मूर्ति बनाई है।

मां दुर्गा की सुंदर मुस्कराती हुई फोटो पूरे देश में वायरल, मूर्तिकार है पवन, झलक पाने उमड़ रहे लोग

बता दें कि इस मनमोहक और सजीव मूर्ति को बनाने के लिए सिर्फ भूरी मिट्टी का इस्तेमाल किया गया है। जिसके चलते यह कभी भई क्रेक नहीं होगी। उन्होंने कहा कि मैंन कभी भी प्लास्टर ऑफ पेरिस सहित किसी भी ऐसी सामग्री का इस्तेमाल नहीं किया जो देवी मां की मूर्ति बनाने के लिए पाबंदी है।

Share this story