सावधान! क्या बैंक अकाउंट-पैन कार्ड को लिंक करके रखी जा रही आपकी वित्तीय गतिविधियों पर नज़र?
सावधान! क्या बैंक अकाउंट-पैन कार्ड को लिंक करके रखी जा रही आपकी वित्तीय गतिविधियों पर नज़र?

आज आधार कार्ड सबसे महत्वपूर्ण और अहम दस्तावेज में से एक माना जाता है। फिर चाहे आपको किसी सरकारी सुविधा का लाभ उठाना हो या फिर अपने लिए गैस का सिलिंडर या फ़ोन का सिम क्यों ना खरीदना हो।

और ऐसे कई महत्वपूर्ण काम भी हैं जहाँ आप आधार कार्ड के बिना अपने काम की शुरुआत भी नहीं कर सकते। पैन कार्ड, वोटर आईडी जैसे सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज को आधार कार्ड से लिंक करवाना भी सरकार ने अनिवार्य कर दिया हैं।

ऐसे में कई बार लोग ये भी सवाल उठाते हैं कि ये सारे दस्तावेज आधार से लिंक करके कहीं उनकी वित्तीय गतिविधियों को कहीं ट्रैक तो नहीं किया जा रहा है?

आधार कार्ड लिंक करने से ट्रैक होती हैं हमारी वित्तीय गतिविधियां 

दरअसल, यह एक बड़ा सवाल है जो सभी के मन में उठता भी है और उठना लाज़मी भी है। लेकिन इसका जवाब भी बड़ा सीधा और आसान हैं कि यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) किसी भी जानकारी से हमारी किसी भी गतिविधि पर ना कोई नज़र रखता हैं और ना ही ट्रैक करता है। 


 

इस पूरे मामले को लेकर UIDAI ने अपने आधिकारिक कू ऐप अकाउंट पर जानकारी देते हुए लिखा है, "नामांकन या अपडेट के समय UIDAI केवल न्यूनतम जानकारी लेता है, जिसमें आपका नाम, पता, लिंग, जन्म तिथि, अंगुलियों के निशान, आइरिस स्कैन और चेहरे की तस्वीर शामिल है।

UIDAI कभी भी निवासी की कोई वित्तीय जानकारी (Financial Information) / डेटा नहीं रखती है।"

UIDAI के डेटाबेस में कौन सी जानकारी होती है स्टोर 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आधार जारी करने वाली एजेंसी के पास आपकी जनसांख्यिकीय (डेमोग्राफिक) जानकारी जैसे- आपका नाम, पता, लिंग, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर (वैकल्पिक) और ईमेल जैसी जानकारी रहती है।

आधार कार्ड वाली एजेंसी के पास आपके बैंक खातों, वित्तीय विवरण के बारे में कोई जानकारी या डाटा नहीं होता हैं। ये जानकारी UIDAI के डेटाबेस में कभी नहीं रखी जाता है।

Share this story