अपने सीएम को थैंक्स कहना कि मैं बठिंडा एयरपोर्ट तक जिंदा लौट पाया: PM Modi
नड्डा ने ये भी कहा कि सबसे ज्यादा चिंता की बात ये है कि यह घटना पीएम मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक थी. पंजाब के प्रमुख सचिव और डीजीपी से एसपीजी को कहा गया था कि पीएम मोदी का रूट साफ है, इसके बावजूद वहां प्रदर्शनकारियों को जाने दिया गया. इससे भी बुरी बात ये है कि सीएम चन्नी ने फोन पर बात करने और मामले को सुलझाने से इनकार कर दिया.लेकिन इस पूरे विवाद पर कांग्रेस का कहना है कि आखिरी समय में पीएम मोदी का रूट बदल दिया गया था. उन्हें हवाई मार्ग से जाना था, लेकिन वे सड़क से आए. पूरे विवाद का ये वो पहलू जिस पर गृह मंत्रालय और कांग्रेस आमने-सामने है. MHA ने जोर देकर कहा है कि राज्य सरकार को पहले ही सूचित कर दिया गया था, लेकिन कांग्रेस इसका खंडन कर रही है. ऐसे में चुनावी मौसम में ये मुद्दा काफी बड़ा बन गया है और आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आज सुरक्षा में बड़ी चूक हुई है. उनकी पंजाब के फिरोजपुर में बड़ी रैली होनी थी. लेकिन प्रदर्शन कर रहे किसानों ने सड़क पर ही उनके काफिले को रोक दिया. अब ANI से बात करते हुए अधिकारियों ने बताया है कि पीएम मोदी इस घटना से खासा नाराज हैं. उन्होंने सीएम चन्नी पर निशाना साधते हुए कहा है कि अपने सीएम को थैंक्स कहना कि मैं एयरपोर्ट जिंदा लौट पाया.बताया जा रहा है कि पीएम मोदी जब बठिंडा एयरपोर्ट पर वापस लौट रहे थे, तब उन्होंने अधिकारियों को ये संदेश दिया था.

उन्होंने साफ-साफ सीएम चन्नी पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि अपने सीएम को थैंक्स कहना मैं बठिंडा एयरपोर्ट तक जिंदा लौट पाया. अब जानकारी के लिए बता दें कि आज पीएम मोदी पंजाब में बीजेपी का चुनावी प्रचार शुरू करने जा रहे थे.सुबह से ही फिरोजपुर में भीड़ इकट्ठा होना शुरू हो गई थी. लेकिन ये किसी को अंदाजा नहीं था कि चंद प्रदर्शनकारियों की वजह से पीएम मोदी की रैली को ही रद्द करना पड़ जाएगा. अब गृह मंत्रालय ने भी इसे पीएम की सुरक्षा में बड़ी चूक माना है और पंजाब सरकार से एक विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

दरअसल, पीएम मोदी बठिंडा पहुंचे थे. यहां से उन्हें हेलिकॉप्टर से हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाना था. लेकिन खराब रोशनी और बारिश के चलते पीएम मोदी 20 मिनट तक इंतजार करते रहे. लेकिन मौसम में सुधार नहीं हुआ, तो उन्होंने सड़क के रास्ते राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाने का फैसला किया. इस रास्ते से 2 घंटे का समय लगना था. पंजाब डीजीपी से सुरक्षा प्रबंधों की पुष्टि के बाद पीएम मोदी सड़क के रास्ते आगे बढ़े. राष्ट्रीय शहीद स्मारक से करीब 30 किमी पहले पीएम मोदी का काफिला जब फ्लाईओवर पर पहुंचा, तो यहां कुछ प्रदर्शनकारियों ने रास्ता रोक रखा था. इसके चलते पीएम मोदी के काफिले को 15-20 मिनट तक फ्लाईओवर पर रुकना पड़ा. इसे पीएम की सुरक्षा में बड़ी चूक माना जा रहा है.अब इस घटना को लेकर चन्नी सरकार मुसीबत में फंस गई है. गृह मंत्रालय ने तो तलब किया ही है, बीजेपी के दिग्गज नेता भी कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि अपनी घटिया हरकतों से पंजाब की कांग्रेस सरकार ने दिखा दिया है कि वे विकास विरोधी हैं और स्वतंत्रता सेनानियों के लिए भी उनके मन में कोई सम्मान नहीं है.


नड्डा ने ये भी कहा कि सबसे ज्यादा चिंता की बात ये है कि यह घटना पीएम मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक थी. पंजाब के प्रमुख सचिव और डीजीपी से एसपीजी को कहा गया था कि पीएम मोदी का रूट साफ है, इसके बावजूद वहां प्रदर्शनकारियों को जाने दिया गया. इससे भी बुरी बात ये है कि सीएम चन्नी ने फोन पर बात करने और मामले को सुलझाने से इनकार कर दिया.लेकिन इस पूरे विवाद पर कांग्रेस का कहना है कि आखिरी समय में पीएम मोदी का रूट बदल दिया गया था. उन्हें हवाई मार्ग से जाना था, लेकिन वे सड़क से आए.

पूरे विवाद का ये वो पहलू जिस पर गृह मंत्रालय और कांग्रेस आमने-सामने है. MHA ने जोर देकर कहा है कि राज्य सरकार को पहले ही सूचित कर दिया गया था, लेकिन कांग्रेस इसका खंडन कर रही है. ऐसे में चुनावी मौसम में ये मुद्दा काफी बड़ा बन गया है और आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.

Share this story