चंद्रमा की चट्टानों से 40 साल बाद धरती पर नमूने लेकर आया चीन
चंद्रमा की चट्टानों से 40 साल बाद धरती पर नमूने लेकर आया चीन
चंद्रमा की चट्टानों से 40 साल बाद धरती पर नमूने लेकर आया चीन

लंबे समय से चंद्रमा का कोई नमूना धरती पर नहीं आया था। अब 40 से अधिक सालों में पहली बार चंद्रमा का सैंपल चीन के Chang’e-5 की मदद से धरती पर लाया गया है। इसमें करीब दो अरब साल पुराना लावा भी शामिल है, जो चंद्रमा पर ज्वालामुखी गतिविधियों की जानकारी देता है। दिसंबर 2020 में, चांग'ए-5 लैंडर चंद्रमा से लगभग 1,731 ग्राम सैंपल्स को लेकर वापस आया था।
चीनी अंतरिक्ष एजेंसी की ओर से शुरू की गई चंद्रमा की जांच के अंतर्गत चांग ई-5 मिशन में 40 से अधिक वर्षों के बाद चंद्रमा की ज्वालामुखीय चट्टान (लावा) के पहले ताजा नमूने लाए गए हैं।

चंद्रमा की चट्टानों पर किए गए इस अध्ययन के वैज्ञानिकों में वाशिंगटन विश्वविद्यालय के विशेषज्ञ ब्रैड जोलिफ भी शामिल हैं, जिन्होंने चंद्रमा की ज्वालामुखीय चट्टान की आयु करीब दो अरब साल निर्धारित की है। इन अध्ययन के निष्कर्ष साइंस पत्रिका में प्रकाशित हुए हैं। अमेरिका के निवासी जोलिफ चाइनीज एकेडमी ऑफ जियोलॉजिकल साइंसेज के नेतृत्व में चंद्रमा की चट्टानों के विश्लेषण के सह-लेखक हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक चीनी वैज्ञानिकों की टीम के इस पहले मिशन ने ओशनस प्रोसेलरम क्षेत्र के बारे में भविष्यवाणियों की पुष्टि करने के लिए सिर्फ एक छोटे क्षेत्र का इस्तेमाल किया, जहां अंतरिक्ष यान उतरा था. दो बिलियन साल पुराने ये नमूने ज्वालामुखी के संकेत देते हैं. जो नासा के अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों या सोवियत संघ के मानव रहित लूना मिशनों के नमूनों से कम से कम एक अरब साल नए हैं. ब्रिटेन के मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के एक ग्रह वैज्ञानिक कैथरीन जॉय ने कहा, ‘यह चंद्रमा से अब तक का सबसे कम उम्र का लावा प्रवाह है.’ रिपोर्ट में कहा गया है कि ये नमूने चंद्रमा के भूविज्ञान में एक महत्वपूर्ण अंतर को पूरा करते हैं और वैज्ञानिकों को अन्य सौर मंडल निकायों के इतिहास को समझने में भी मदद करेंगे.

जोलिफ बताते हैं, चांग ई-5 मिशन चंद्रमा पर सबसे कम उम्र की ज्वालामुखीय सतहों से चट्टानों को इकट्ठा करने और उन्हें वापस पृथ्वी पर लाने के लिए डिजाइन किया गया है। बेशक यह अभी नया मिशन है, लेकिन इसके निष्कर्ष काफी महत्वपूर्ण हैं।

Share this story