×

Covid-19: Corona प्रकोप के बीच चीन में बढ़ी भारतीय जेनेरिक दवाओं की मांग

Covid-19: Corona प्रकोप के बीच चीन में बढ़ी भारतीय जेनेरिक दवाओं की मांग

भारत में जेनेरिक दवाओं को लेकर केंद्र सरकार ने काफी अभियान चलाए हैं इसी का नतीजा है कि देश में बड़े पैमाने पर जेनेरिक दवाओं की मांग काफी ज्यादा हो गई है। लेकिन अब भारतीय जेनेरिक दवाओं की मांग देश के बाहर भी होने लगी है। इन दिनों चीन कोरोना के बुरे दौर से गुजर रहा है।

इस बीच चीन में भारतीय जेनेरिक दवाओं की मांग में तेजी आई है। वहीं चीनी विशेषज्ञों ने आगाह किया है कि इन दवाओं के नकली संस्करण बाजार में काफी बेचे जा रहे हैं।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा प्रशासन ने रविवार को कहा कि फाइजर की पैक्स्लोविड ओरल दवा लेकर लोगों को सावधान किया।

दरअसल इस दवा का उपयोग कोविड-19 के इलाज के लिए किया जाता है, इस दवा को बुनियादी चिकित्सा बीमा में दवाओं के रजिस्टर में शामिल नहीं किया जा सकता है, क्योंकि फाइजर ने इस दवा की कीमत काफी ज्यादा रखी थी।

चीन में बढ़ी भारतीय जेनेरिक दवाओं की मांग वहीं पैक्स्लोविड की भारी कमी के कारण, चीनी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के माध्यम से भारतीय जेनेरिक संस्करणों की मांग बढ़ गई है।

https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js?client=ca-pub-2953008738960898" crossorigin="anonymous">

चीनी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर भारत में बनाई जा रही कम से कम चार जेनेरिक कोरोना दवाएं प्रिमोविर, पैक्सिस्टा, मोलनुनाट और मोलनाट्रिस को हाल के हफ्तों में बिक्री के लिए सूचीबद्ध किया गया है जिनकी काफी तेजी से चीन में मांग बढी है।

चीनी मीडिया मुताबिक प्रिमोविर और पैक्सिस्टा पैक्सलोविड के दोनों जेनेरिक संस्करण हैं, जबकि अन्य दो मोलनीपिराविर के जेनेरिक संस्करण हैं।

भारत एकमात्र देश जो दे सकता है सस्ती कोविड दवाएं ऐसा प्रतीत होता है। 

Share this story