दक्षिण कोरिया ने स्पेसएक्स रॉकेट पर पहला मून मिशन किया लॉन्च
दक्षिण कोरिया ने स्पेसएक्स रॉकेट पर पहला मून मिशन किया लॉन्च

सियोल। दक्षिण कोरिया ने गुरुवार को अपना पहला घरेलू रूप से विकसित चंद्र ऑर्बिटर लॉन्च किया। इस तरह दक्षिण कोरिया चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान भेजने वाला सातवां देश बन गया।

SpaceX द्वारा लॉन्च किया गया ये उपग्रह ईंधन को बचाने के लिए एक लंबा, गोल चक्कर लगा रहा है। पहले इसका प्रक्षेपण 27 जुलाई को निर्धारित किया गया था। बहरहाल स्पेसएक्स रॉकेट के रखरखाव के मुद्दे के कारण इसमें देरी हुई।

यदि मिशन सफल होता है तो अमेरिका, रूस, चीन, जापान, इज़राइल और भारत के बाद दक्षिण कोरिया दुनिया का सातवां ऐसा देश बनेगा जिसने चंद्रमा पर खोज मिशन भेजा है। 

दक्षिण कोरिया की अंतरिक्ष एजेंसी कोरिया एयरोस्पेस रिसर्च इंस्टीट्यूट (KARI) ने नासा के साथ मिलकर जुलाई 2014 में एक चंद्र ऑर्बिटर अध्ययन तैयार किया था।

 दोनों एजेंसियों ने दिसंबर-2016 में एक समझौते पर हस्ताक्षर किया जहां नासा को एक विज्ञान उपकरण पेलोड, दूरसंचार, नेविगेशन और मिशन डिजाइन के साथ चंद्र अभियान में सहयोग करना था।

कोरिया पाथफाइंडर लूनर ऑर्बिटर या फिर दानुरी जिसका अर्थ कोरियाई भाषा में चंद्रमा का आनंद लेना है, उसे फाल्कन 9 ब्लॉक 5 लॉन्च वाहन पर लॉन्च किया गया।

ऑर्बिटर को पानी के बर्फ, यूरेनियम, हीलियम-3, सिलिकॉन और एल्यूमीनियम जैसे चंद्रमा पर मौजूद संसाधनों का सर्वेक्षण करने का भी काम सौंपा जाएगा। ये भविष्य में चंद्रमा पर लैंडिंग करने की जगहों का चयन करने में मदद के लिए एक स्थलाकृतिक मानचित्र तैयार करेगा।

जून में दक्षिण कोरिया ने पहली बार अपने स्वयं के रॉकेट का उपयोग करके उपग्रहों को पृथ्वी के चारों ओर कक्षा में सफलतापूर्वक लॉन्च किया था। उसका पहला प्रयास पिछली बार विफल हो गया था। ये प्रक्षेपण उपग्रह को कक्षा में पहुंचने में विफल रहा था।

Share this story