×
today gold price 10 november 2022: सोना एक बार फिर महंगा, चांदी की कीमत में भी उछाल, जानिए क्या है आज का रेट...
today gold price: एक बार फिर सोने व चांदी के दामों में आई भारी गिरावट, जानिए आज का ताजा भाव

रुपये में तेजी आने से सोने के दाम गिरे हैं। हालांकि, सर्राफा बाजार में सोना जहां 51,700 के ऊपर बिक रहा है, वहीं, 18 कैरेट सोने की कीमत 47,000 के ऊपर चल रही है।दिल्ली के सर्राफा बाजार में बुधवार को सोना 141 रुपये टूटकर 51,747 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया था। इससे पिछले कारोबारी सत्र में पीली धातु का भाव 51,888 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। 

शादियों का सीजन शुरू हो चुका है और लोग काफी शॉपिंग कर रहे हैं। ऐसे में अगर आप भी शादी की शॉपिंग या फिर सोने की खरीदारी करने का प्लान कर रहे हैं, तो यह खबर आपके लिए है। शादी के सीजन में सोने व चांदी की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है। सोना फिलहाल अपने ऑलटाइम हाई से करीब 4530 रुपए सस्ता मिल रहा है। वहीं चांदी 18580 रुपए प्रति किलो सस्ती मिल रही है।

सिल्वर फ्यूचर की कीमत में अच्छी-खासी गिरावट आई थी।  एमसीएक्स पर मेटल में 317 रुपये या 0.51% की गिरावट के साथ 61,244 रुपये प्रति किलोग्राम पर चल रहा था।एवरेज प्राइस 61,324.53 प्रति यूनिट पर दर्ज हुआ था।  कल क्लोजिंग 61,561 रुपये पर हुई थी। 

18 से 24 Carat तक ये हैं सोने के दाम

Gold Purity Rate as per 10 Grams
99.9 Purity (24 Carat)  Rs. 51514
91.6  Purity (22 Carat) Rs. 47187
76.0 Purity (18 Carat) Rs. 38636

IBJA के अनुसार ये हैं सोने-चांदी के दाम

IBJA के अनुसार कारोबारी हफ्ते के दूसरे दिन यानि कल सुबह सोना 51502 रुपए प्रति 10 ग्राम पर खुला और 51514 रुपए प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। वहीं चांदी 61389 रुपए प्रति किलो पर खुली और 61550 रुपए प्रति किलो पर बंद हुई थी।  

MCX पर कुछ यूं कारोबार कर रहे सोना-चांदी

MCX के अनुसार कल सोना 51541 रुपए प्रति 10 ग्राम पर खुला और 51506 रुपए प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ। अगर कल के उच्च्तम स्तर की बात की जाए तो कल सोने का उच्चतम दाम 51577 रुपए प्रति 10 ग्राम रहा। अगर आज की बात करें तो आज सोना 51481 रुपए प्रति 10 ग्राम पर खुला और 10.46 मिनट पर 0.13 प्रतिशत की बढ़ोतरी के साथ 51572 रुपए प्रति 10 ग्राम के साथ कारोबार कर रहा है।

ऑलटाइम हाई से कितना सस्ता है सोना और चांदी

सोना फिलहाल अपने ऑलटाइम हाई से करीब 4530 रुपए प्रति 10 ग्राम सस्ता बिका रहा है। आपको बता दें कि सोने ने अगस्त 2020 में अपना ऑलटाइम हाई बनाया था। उस वक्त सोना 56200 रुपए प्रति दस ग्राम के स्तर तक चला गया था। वहीं चांदी अपने उच्चतम स्तर से करीब 18580 रुपए प्रति किलो की दर से सस्ती मिल रही है। चांदी का अबतक का उच्चतम दाम 79980 रुपये प्रति किलो है।

देश के बड़े शहरों में Gold Price और Silver Price

City 22K Gold in Rupees 24K Gold in Rupees Silver in Rupees
चेन्नई 48200 52580 61400
मुंबई 47360 51670 61400
दिल्ली 47460 51770 61400
कोलकाता 47360 51670 61400
बंगलुरू 47410 51720 67000
हैदराबाद 47360 51670 67000
पुणे 47390 51690 61400
अहमदाबाद 47410 51720 61400
सूरत 47410 51720 61400
जयपुर 47460 51770 61400
लखनऊ 47460 51770 61400
पटना 47390 51690 61400
नागपुर 47390 51690 61400
चंडीगढ़ 47460 51770 61400
भुवनेश्वर 47360 51670 67000

किस कैरेट का सोना कितना होता है शुद्ध

  • 24 कैरेट का सोना  99.9 फीसदी।  
  • 23 कैरेट का सोना  95.8 फीसदी।  
  • 22 कैरेट का सोना  91.6 फीसदी।  
  • 21 कैरेट का सोना  87.5 फीसदी।  
  • 18 कैरेट का सोना  75 फीसदी।  
  • 17 कैरेट का सोना  70.8 फीसदी।  
  • 14 कैरेट का सोना  58.5 फीसदी।  
  • 9 कैरेट का सोना  37.5 फीसदी।

सोने का रेट मिस्ड कॉल से जानें

गौरतलब है कि आप इन रेट्स को आसानी से घर बैठे पता लगा सकते हैं।  इसके लिए आपको सिर्फ इस नंबर 8955664433 पर मिस्ड कॉल देना है और आपके फोन पर मैसेज आ जाएगा, जिसमें आप लेटेस्ट रेट्स चेक कर सकते हैं। 

कैसे करें 22 और 24 कैरेट सोने में अंतर

24 कैरेट गोल्ड 99.9 प्रतिशत शुद्ध होता है और 22 कैरेट लगभग 91 प्रतिशत शुद्ध होता है।  22 कैरेट गोल्ड में 9% अन्य धातु जैसे तांबा, चांदी, जिंक मिलाकर जेवर तैयार किया जाता है। जबकि 24 कैरेट सोना सबसे शुद्ध होता है, बता दें कि 24 कैरेट सोने के आभूषण नहीं बनाए जा सकते।  इसलिए ज्यादात्तर दुकानदार 22 कैरेट में सोना बेचते हैं।

कैसे पहचाने सोने की शुद्धता (How to Check Gold Purity)

(International Organization for Standardization) अंतरराष्ट्रीय मानकीकरण संगठन द्वारा सोने की शुद्धता पहचानने के लिए हॉल मार्क दिए जाते हैं। 24 कैरेट सोने के आभूषण पर 999, 23 कैरेट पर 958, 22 कैरेट पर 916, 21 कैरेट पर 875 और 18 कैरेट पर 750 लिखा होता है।  ज्यादातार सोना 22 कैरेट में बिकता है, वहीं कुछ लोग 18 कैरेट का इस्तेमाल भी करते हैं।  कैरेट 24 से ज्यादा नहीं होता, और जितना ज्यादा कैरेट होगा, सोना उतना ही शुद्ध होगा। 

सोना ऐसी धातु है जिसकी खरीदारी शादी-ब्याह, सगाई और गिफ्ट देने से लेकर छोटे और बड़े मौके के लिए लोग अपने सामार्थ्य के अनुसार खरीदते हैं। सोना खरीदने की इच्छा हर किसी के मन में होती है।  खासकर महिलाएं किसी भी मौके पर सोना खरीदने के लिए तैयार रहती हैं। क्योंकि स्पेशल मौके से लेकर आम दिनों में भी महिलाएं सोना पहनती हैं।

हिंदू धर्म में भी सोने का खास महत्व होता है क्योंकि सोना-चांदी जैसे धातु को कुबेर का भंडार कहा जाता है।  बीआईएस मार्क-हर ज्वैलरी पर भारतीय मानक ब्यूरो का ट्रेडमार्क का लोगो होगा। कैरेट में प्योरिटी-हर ज्वैलरी की कैरेट या फाइनेंस में प्योरिटी होगी। 916 लिखा है तो इसका मतलब यह है कि ज्वैलरी 22 कैरेट के गोल्ड (91.6 फीसदी शुद्धता) की है। अगर 750 लिखा है तो इसका मतलब यह है कि ज्वैलरी 18 कैरेट (75 फीसदी शुद्ध) गोल्ड का है।

अगर 585 लिखा है तो इसका मतलब कि ज्वैलरी 14 कैरेट गोल्ड (58.5 फीसदी) का है। हर ज्वैलरी पर एक विजिबल आइडेंटिफिकेशन मार्क होगा जो हॉलमार्क सेंटर का नंबर होगा। ज्वैलरी पर एक विजिबल आइडेंटिफिकेशन मार्क होगा ज्वैलर कोड के रूप में, यानी यह किस ज्वैलर के यहां बना है, उसकी पहचान होगी।

सोना खरीदने का शुभ दिन

सोने की खरीदारी करने का सबसे शुभ दिन अक्षय तृतीया और धनतेरस होता है। इस दिन सोना खरीदने से मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है, और ऐसा कहा जाता है इस दिन खरीदी गई चीजों पर कई गुणा वृद्धि होती है।  इसके अलावा आप अन्य समय में सोना खरीदना चाहते हैं तो आप सप्ताह के रविवार और गुरुवार के दिन सोना खरीद सकते हैं।

ज्योतिष में ये दोनों ही दिन सोना खरीदने के लिए शुभ बताए गए हैं। सप्ताह के इन दिनों में सोना खरदीने पर मां लक्ष्मी के साथ भगवान सूर्य की भी कृपा प्राप्त होती है और घर-परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है। सोना खरीदते समय इन चार बातों को रखें ध्यान, वरना होगा भारी नुकसान लोग सोना खरीदते हैं, लेकिन खरीदारी से पहले कई बार कुछ बातों का ध्यान नहीं देते, जिसकी वजह से उन्हें परेशानी होती है। ऐसे में अगर आप सोने के गहनों की खरीदारी का मन बना ही चुके हैं, तो इन पांच बातों पर जरूर ध्यान दें।

भूलकर भी घर ना लाएं इस दिन सोना

कभी भी शनिवार के दिन सोना नहीं खरीदना चाहिए। क्योंकि सोना सूर्य का कारक होता है और शनिवार शनि देव का दिन होता है। सूर्य और शनि शत्रु ग्रह होते हैं। इसलिए शनिवार के दिन सोना खरीदने वाले जातक पर शनि पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

सोने की शुद्धता

वैसे तो हर दुकानदार अपने बेचे गए गहने को मार्केट में चल रहे रेट के अनुसार वापस लेने का दावा करता है। लेकिन अगर आप उसके पास जाएंगे तो जरूरी नहीं कि दावे के अनुरूप ही मुनाफा मिले और सोना वाकई उतना शुद्ध हो जितना कि उसने दावा किया था।  ऐसे में सोने के लिए हॉलमार्क को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शुद्धता का पैमाना माना जाता है जिसमें यह गारंटी होती है कि सोना शुद्ध है।

हॉलमार्क

भारतीय मानक ब्यूरो यानी बीआईएस का हॉलमार्क सोने की शुद्धता सुनिश्चित करता है। यही वजह है कि हॉलमार्क वाले आभूषण खरीदारी के लिहाज से सबसे सुरक्षित मान जाते हैं। कई बार हॉलमार्क के गहनों की कीमत भी अलग-अलग दुकानों पर अलग-अलग हो सकती है। इसलिए कई जगहों पर जानकारी लेकर उपयुक्त जगह से ही हॉलमार्क सोना खरीदें।सोना 18 कैरेट और उससे कम, 22 कैरेट और 24 कैरेट जैसे शुद्धता के विभिन्न वेरिएंट में आता है। हॉलमार्क वाली ज्वैलरी खरीदना बेहतर है ताकि आप शुद्धता को लेकर सुनिश्चित रहें। साथ ही जब भी सोना खरीदें तो उसका वजन चेक जरूर करें। सोना किराने के सामान जैसा नहीं है। यह बहुत महंगा हो गया है और इसकी लागत बहुत अधिक है। सोना खरीदने से पहले पर्याप्त रिसर्च कर लें। 

मेकिंग चार्जेस पर मोलभाव

मेकिंग चार्ज अलग-अलग गहनों के मुताबिक अलग-अलग होता है जिसे ज्वेलर्स सोने के गहने बनाने के मेहनताने के रूप में लेते है।ऐसे में ज्वेलरी खरीदते वक्त अलग-अलग जगहों के मेकिंग चार्ज की जानकारी जरूर ले। जिससे आपके गहने की कीमत में कम से कम मेकिंग चार्ज हो और सोना या मेटल अधिक हो। जब भी आप गहने बेचेंगे, मेकिंग चार्ज की कीमत का नुकसान तो होगा ही क्योंकि बेचते वक्त तो आपको सोने की कीमत ही मिलेगी।

ऐसे में कम से कम मेकिंग चार्ज वाली खरीदारी ही फायदे का सौदा है। सोने की ज्वेलरी खरीदते वक्त मेकिंग चार्जेज जानना बेहद जरूरी है। सौदेबाजी करना और मेकिंग चार्ज को कम करना और भी जरूरी है।ज्वेलरी के मेकिंग चार्जेस पर आपको मोलभाव करना चाहिए। याद रखें ये शुल्क गहनों की लागत का 30 प्रतिशत तक हो सकते हैं। आप इन्हें कम करने के लिए मोलभाव जरूर करें। 

बिल लेना न भूलें 

सोना जब भी खरीदें तो उसका बिल जरूर लें। आप अगर कुछ वर्षों के बाद उसी सोने को लाभ पर बेचते हैं, तो आपको कैपिटल गैन टैक्स की गणना के लिए खरीदारी का मूल्य पता होना चाहिए। इसके लिए बिल प्रूफ का काम करेगा। ज्वेलर की तरफ दिए जाने वाले बिल में आपके खरीदे गए सोने या चांदी के जेवर की शुद्धता के अलावा उसका रेट और वजन का विवरण होता है।आपके पास आभूषणों का बिल नहीं होगा तो सुनार आपसे मनमाने भाव पर सोना खरीदने की कोशिश करेगा।  इससे आपको नुकसान होगा।

Share this story