रिया ने परफ्यूम मार्केट में 2025 तक 20% मार्केट शेयर का लक्ष्य रखा, हर चैनल पर विस्तार की बड़ी योजना
भारत की 25 वर्ष पुरानी नंबर वन परफ्यूम ब्रांड रिया का वैल्यू शेयर 10.8% हैः निल्सन आईक्यू रिटेल आडिट रिपोर्ट, जनवरी-दिसंबर 2021
भारत की 25 वर्ष पुरानी नंबर वन परफ्यूम ब्रांड रिया का वैल्यू शेयर 10.8% हैः निल्सन आईक्यू रिटेल आडिट रिपोर्ट, जनवरी-दिसंबर 2021
 

मुंबई/नई दिल्ली।  25 वर्ष पुरानी भारत की मशहूर परफ्यूम ब्रांड रिया ने  कोविड महामारी की चुनौतियों के बावजूद 80 करोड़ रूपए का टर्नओवर किया है। यह इतिहास कंपनी ने वित्त-वर्ष 2021-2022 में बनाया है।

 

 

  
कंपनी की स्थापना कोलकता में 1997 में की गई थी तबसे रिया को भारत की सबसे मशहूर परफ्यूम कंपनी में गिना जाता है। इसे भारत में वैल्यू शेयर के आधार पर लगातार तीसरे साल, परफ्यूम सेगमेंट की लीडर की मान्यता मिली है। यह मान्यता प्रतिष्ठित निल्सन आईक्यू रिटेल आडिट रिपोर्ट, जनवरी-दिसंबर 2021 में दी गई है।


 
नेल्सन आईक्यू रिटेल आडिट रिपोर्ट जनवरी-दिसंबर 2021 के अनुसार ई-कामर्स रेवन्यू को छोड़ दें तो भारत में परफ्यूम की इंडस्ट्री लगभग 790 करोड़ रूपए की है। माना जाता है कि वर्ष 2025 तक यह इंडस्ट्री बढ़कर 1200 करोड़ रूपए तक पहुंच जाएगी (ई-कामर्स सहित)।

इस घरेलू ब्रांड जिसकी पूरी भारत में पहुंच है, बढ़ती हुई परफ्यूम इंडस्ट्री में वर्ष 2025 तक अपना मार्केट शेयर 20% तक करते हुए अपना टर्नओवर 240 करोड़ रूपए तक करना चाहती है।


 
पर्पसप्लेनट के संस्थापक और सीईओ श्री आदित्य विक्रम डागा का कहना है, “भारत की परफ्यूम विशेषज्ञता का इतिहास लगभग 300 साल पुराना है। भारत का सामान्य आदमी भी खूशबुओं के तमाम प्रकारों से परिचित रहता है, इसमें जब मजबूत सांस्कृतिक कारणों को जोड़ देते हैं तब भारतीय परफ्यूम एक अनोखा रूप प्राप्त कर लेता है।

परफ्यूम को लेकर पश्चिमी जगत का जो आइडिया है वह लक्जरी और रोमांटिक परफ्यूम का है जिसको महंगा होने के कारण सभी भारतीय ग्राहक इस्तेमाल नहीं कर सकते। रिया ने अच्छे ढंग से भारतीय दृष्टिकोण से अपना मूल्य स्थापित कर लिया है और ओलफैक्टरी का जो ज्ञान है वह मैट्रो शहरों के साथ-साथ टीयर 1,2 और 3 के बाजारों की संवेदनाओं को समझता है।”

उन्होंने आगे कहा,“आज परफ्यूम का इस्तेमाल निजी तौर पर लोग ज्यादा करने लगे हैं और इसकी उपयोगिता सिर्फ खास मौकों पर इस्तेमाल करने तक सीमित नहीं रह गई है। ब्रांड के सामने इस समय मुख्य चुनौती व्यापक तौर पर परफ्यूम के असंगठित बाजार की है जो टीयर 2 और 3 शहरों के बाजार हैं।

सही ग्लोबल ब्रांड रोजमर्रा के इस्तेमाल के लिए काफी महंगे हैं और इसका इस्तेमाल आम आदमी के पहुंच से बाहर है, इसलिए इनमें से ज्यादातर ब्रांडों का इस्तेमाल विशेष अवसरों पर ही किया जाता है। हम इसी स्पेस (जगह) को भरने की कोशिश में हैं जो ग्लोबल ब्रांडों से छूटी हुई है।”

पर्पसप्लेनट की स्थापना 2020 में हुई थी जिसका मकसद रिया ब्रांड को आगे बढाना था यह काम रिस्ट्रक्चरिंग के दौरान हुआ जिससे विविधता आई। ब्रांड का इस समय एक ही लक्ष्य है ज्यादा से ज्यादा विस्तार करना जो उसकी आफलाइन उपस्थिति के द्वारा नए ग्राहक सेगमेंट में होना है। साथ ही, यह भी कोशिश की जा रही है कि इसे तमाम ई-कामर्स प्लेटफार्मों और सोशल कामर्स प्लेटफार्मों परलाया जाए। 

श्री डागा का कहना है, “आज रिया कई रेंजों में परफ्यूम, डियोडरेंट, रूम फ्रेशनर्स, एयर फ्रेशनर्स ला चुकी है। हमारी उपस्थिति केरल को छोड़कर हर राज्यों में है। हम चालू बाजार में आक्रामक ढंग से अपना वितरण नेटवर्क बढ़ाने जा रहे हैं और नए क्षेत्रों में कदम रखने वाले हैं।

परफ्यूम के आक्रामक ग्रोथ के साथ ही हम अपनी मार्केट लीडरशिप को मजबूत करना चाहते हैं। इसके अलावा, हम विविध क्षेत्रों पर बराबर से ध्यान रखे हुए हैं, जल्द ही हम ब्यूटी, ग्रूमिंग, और पर्सनल केयर के उत्पादों की घोषणा करेंगे। रिया के अनोखे प्राइस वैल्यूएशन के बाद, हमारी सोशल और ई-कामर्स केंद्रित स्ट्रेटजी भी हैं जो अपनी घोषणा के अंतिम चरण में हैं।”


     
मजे की बात है कि इस ब्रांड ने कभी भी लिगेसी मीडिया विज्ञापन के लिए ज्यादा फंडिंग नहीं की है। ट्रस्ट और विश्व स्तरीय गुणवत्ता वाले परफ्यूम बनाकर यह एक महत्वपूर्ण ब्रांड बन चुका है।

Share this story