बिहार में सबसे कम उम्र की मुखिया बनीं अनुष्का, 20 साल तक दादा ने संभाली थी पंचायत
बिहार में सबसे कम उम्र की मुखिया बनीं अनुष्का, 20 साल तक दादा ने संभाली थी पंचायत

बिहार में पंचायत चुनाव में महिलाओं की भागीदारी बढ़ती जा रही है। बड़ी संख्या में महिलाएं पंचायत चुनाव जीतकर जनप्रतिनिधि बन रही हैं।  सातवें चरण के आए चुनाव परिणाम में भी आधी आबादी ने बाजी मारी है। सबसे बड़ी बात यह है कि अब तक के चुनाव परिणामों में बिहार की सबसे कम उम्र की मुखिया भी महिला ही चुनी गई हैं। शिवहर जिले की कुशहर पंचायत में 21 साल की अनुष्का मुखिया बनी हैं। अनुष्का के दादा भी 20 साल तक मुखिया रह चुके थे। 

अनुष्का ने बेंगलुरु के प्रतिष्ठित संस्थान से बैचलर की डिग्री हासिल की है। पढ़ाई के बाद वह गांव लौट गई थी। इस बार पंचायत चुनाव में उसने चुनाव लड़ने का फैसला किया और मुखिया पद के लिए नामांकन दाखिल किया।

अनुष्का ने अपनी प्रतिद्वंदी रीता देवी को 287 मतों से हरा दिया। अनुष्का की जीत आज पंचायत के अलावा पूरे राज्य में चर्चा का विषय है। अनुष्का के पिता सुनील कुमार सिंह 2011 से 2016 तक जिला पार्षद रहे। वहीं, दादा राजमंगल सिंह 1978 से 2001 तक पंचायत में बतौर मुखिया के रूप में प्रतिनिधित्व किया था।

जीत के बाद पंचायत के लोगों का कहना है कि अनुष्का को अपने दादा के द्वारा किए गए कामों का फल मिला है। लोगों ने बताया कि राजमंगल सिंह ने इस पंचायत में कई विकास कार्य करवाए थे। इसमें हाई स्कूल का निर्माण भी शामिल था। वहीं अनुष्का अब अपने दादा के सपनों को साकार करने का एलान किया है।

अनुष्का ने बताया कि दादा चाहते थे कि इस पंचायत में मेडिकल कॉलेज बने, जिसके लिए परिवार ने जमीन भी दिया है। मेरी पहली प्राथमिकता इसे बनाना है। इसके अलावा पंचायत को डिजिटल और भ्रष्टाचार मुक्त बनाना है।

Share this story