लखीमपुर खीरी हिंसा: श्रद्धांजलि सभा में प्रियंका ग़ांधी संग राकेश टिकैत हुए शामिल
लखीमपुर खीरी हिंसा: श्रद्धांजलि सभा में प्रियंका ग़ांधी संग राकेश टिकैत हुए शामिल

यूपी के लाखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुई हिंसा में मारे गए किसानों की आत्मा की शांति के लिए अंतिम अरदास (श्रद्धांजलि सभा) शुरू हो गई है। इस श्रद्धांजलि सभा में पांच लाख किसानों के आने की संभावना जताई गई है। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी भी लखीमपुर खीरी पहुंच गई हैं और कुछ ही देर में अदरास में शामिल होने के लिए तिकुनिया पहुंचने वाली हैं। किसान नेता राकेश टिकैत भी यहां पहुंच चुके हैं। घटनास्थल से करीब एक किमी की दूरी पर 30 एकड़ भूमि पर यह कार्यक्रम चल रहा है। कार्यक्रम में यूपी के अलावा पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और छत्तीसगढ़ से करीब 50 हजार किसान पहुंचे हैं।

किसान नेताओं के मुताबिक, कार्यक्रम में पंजाब, उत्तराखंड, दिल्ली, हरियाणा, यूपी आदि प्रदेशों से किसान पहुंच रहे हैं। इस अरदास में किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, बलविंदर सिंह राजेवाल आदि किसान नेता प्रमुख भी शामिल हो रहे हैं। हालांकि भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के पदाधिकारी के अनुसार, किसी भी राजनीतिक दल के राजनेता को मंगलवार की अंतिम प्रार्थना में किसान नेताओं के साथ मंच साझा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। वहां केवल संयुक्त किसान मोर्चा के नेता मौजूद रहेंगे।

टिकैत ने साफ कर दिया है कि ये अरदास किसानों की आत्मा की शांति के लिए रखी गई है और इसे राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। टिकैत ने कहा कि किसान अपनी मांग पर कायम हैं कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को गिरफ्तार किया जाए क्योंकि उनकी बर्खास्तगी के बिना ये जांच सही से नहीं हो पाएगी। उन्होंने आगे कहा कि मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी एक ‘रेड कार्पेट’ गिरफ़्तारी है। अगर मंत्री को तुरंत नहीं हटाया जाता है तो ये आंदोलन ऐसे ही चलता रहेगा। टिकैत ने कहा कि हम शहीद जवानों के घर भी जाएंगे, किसानों के साथ-साथ सभी को जवानों के घर भी जाना चाहिए और हम पहले भी जाते रहे हैं। जवान भी किसानों के ही बेटे है।

dxd

राकेश टिकैत का ऐलान- केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करें, नहीं तो ऐसे ही जारी रहेगा आंदोलन
लखमीपुर खीरी के तिकुनिया में गाड़ी से कुचलने से मारे गए किसानों की आत्मा की शांति के लिए आज अंतिम अरदास चल रही है। इस कार्यक्रम में देश भर से किसान तो पहुंचे ही हैं, कुछ ही देर में कांग्रेस नेता पप्रियंका गांधी भी यहां पहुंचने वाली हैं।

राकेश टिकैत का ऐलान- केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करें, नहीं तो ऐसे ही जारी रहेगा आंदोलन
किसान नेता राकेश टिकैत यूपी के लाखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुई हिंसा में मारे गए किसानों की आत्मा की शांति के लिए अंतिम अरदास (श्रद्धांजलि सभा) शुरू हो गई है। इस श्रद्धांजलि सभा में पांच लाख किसानों के आने की संभावना जताई गई है। कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी भी लखीमपुर खीरी पहुंच गई हैं और कुछ ही देर में अदरास में शामिल होने के लिए तिकुनिया पहुंचने वाली हैं। किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) भी यहां पहुंच चुके हैं।

टिकैत ने साफ कर दिया है कि ये अरदास किसानों की आत्मा की शांति के लिए रखी गई है और इसे राजनीति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। टिकैत ने कहा कि किसान अपनी मांग पर कायम हैं कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को गिरफ्तार किया जाए क्योंकि उनकी बर्खास्तगी के बिना ये जांच सही से नहीं हो पाएगी। उन्होंने आगे कहा कि मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी एक ‘रेड कार्पेट’ गिरफ़्तारी है। अगर मंत्री को तुरंत नहीं हटाया जाता है तो ये आंदोलन ऐसे ही चलता रहेगा। टिकैत ने कहा कि हम शहीद जवानों के घर भी जाएंगे, किसानों के साथ-साथ सभी को जवानों के घर भी जाना चाहिए और हम पहले भी जाते रहे हैं। जवान भी किसानों के ही बेटे हैं।

लखीमपुर खीरी हिंसा: श्रद्धांजलि सभा में प्रियंका ग़ांधी संग राकेश टिकैत हुए शामिल xcz


अरदास के कार्यक्रम के लिए कड़ी सुरक्षा

इस कार्य्रकम पर नज़र रखने के लिए सुरक्षा के मद्देनज़र मंडलायुक्त रंजन कुमार बीती रात से ही गुरु नानक देव एकेडमी में कैंप कर रहे हैं। उनके अलावा डीएम डॉ. अरविंद कुमार चौरसिया, एसपी विजय ढुल, एसडीएम ओपी गुप्ता भी मौके पर मौजूद हैं। श्रद्धांजलि सभा के लिए करीब 30 एकड़ इलाके में इंतजाम किए गए हैं। यह कार्यक्रम स्थल घटनास्थल से एक किलोमीटर की दूरी पर है।

भारतीय किसान सिख संगठन के तहसील अध्यक्ष गुरमीत सिंह रंधावा और भारतीय किसान यूनियन के तहसील अध्यक्ष गुरबाज सिंह ने बताया कि कई किसानों की भूमि को मिलाकर कार्यक्रम स्थल तैयार कराया जा रहा है। इसमें पंडाल, पार्किंग और लोगों के बैठन 

आदि की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि गुरुद्वारे में अखंड पाठ चल रहा है, अखंड पाठ को मंगलवार को विराम दिया जाएगा और उसके बाद अंतिम अरदास होगी।

कई राज्यों से पहुंचे किसान

किसान नेताओं के मुताबिक, कार्यक्रम में पंजाब, उत्तराखंड, दिल्ली, हरियाणा, यूपी आदि प्रदेशों से किसान पहुंच रहे हैं।  इस अरदास में किसान नेता राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, बलविंदर सिंह राजेवाल आदि किसान नेता प्रमुख भी शामिल हो रहे हैं। हालांकि भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के पदाधिकारी के अनुसार, किसी भी राजनीतिक दल के राजनेता को मंगलवार की अंतिम प्रार्थना में किसान नेताओं के साथ मंच साझा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। वहां केवल संयुक्त किसान मोर्चा के नेता मौजूद रहेंगे।

Share this story