इस श्रापित गांव की लड़कियां बड़े होते ही लड़का बन जाती हैं , वैज्ञानिक हैरान
 लड़कियां, लड़का बन जाती हैं

डोमिनिकन रिपब्लिक देश में दुनिया का सबसे रहस्यमयी गांव है जिसका नाम ला सेलिनास है. यहां की लड़कियों का एक खास उम्र के बाद जेंडर चेंज हो जाता है. इसके बाद यहां की लड़कियां, लड़का बन जाती हैं.

आपने आज तक बेहद ही अजीबोगरीब घटनाओं के बारे में सुना होगा और एक ऐसी ही घटना के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं जिसे जानकर आपके होश उड़  जाएंगे। आज हम आपको ऐसे गाँव के बारे में बताएंगे जहाँ कि लड़कियां बड़ा होते ही लड़का बन जाती है। अधिकांश लड़कों और लड़कियों के लिए यौवन एक अजीब और कठिन समय होता है. इस समय आवाज भारी होने लगती है, मूड स्विंग होता है तथा उन जगहों पर बाल आने शुरू हो जाते हैं, जहां पहले कभी नहीं होते. लेकिन क्या आप जानते है कि दुनिया के नक्शे पर एक ऐसा गांव है, दुनिया का सबसे रहस्यमयी गांव जिसकी आबादी 6 हजार के करीब है इस गांव की की लड़कियों का एक खास उम्र के बाद जेंडर चेंज हो जाता है. इसके बाद यहां की लड़कियां, लड़का बन जाती हैं. क्या हुआ, चौंक गए न आप? लेकिन यह बिल्कुल सच है आइये आप को बताते है उस गांव के बारे मे  .

. डोमिनिकन रिपब्लिक देश में ला सेलिनास नामक एक गांव है. यहां की लड़कियों का एक खास उम्र के बाद जेंडर चेंज हो जाता है. इसके बाद यहां की लड़कियां, लड़का बन जाती हैं. इस कारण यहां के लोग गांव को श्रापित गांव मानते हैं. इस रहस्य का आज तक वैज्ञानिक भी पता नहीं लगा पाए हैं.

.गाँव के लोग मानते हैं श्रापित

इस गाँव के लोगों का इस बारे में मानना थोड़ा अलग है, उनका कहना है कि गाँव पर अदृश्य शक्ति का साया है, इस गाँव को बहुत से लोग शापित भी मानते हैं, गाँव में पैदा तो लड़कियां होती है लेकिन 12 साल की उम्र में वह लड़का बन जाती हैं, इस कारण से इस गांव के लोग बेहद ही परेशान रहते हैं,

लड़की के पैदा होने पर यहाँ पर मातम छा जाता है। क्योकिं परिवार के लोगों को इस बात की चिंता सताने लगती है कि बड़ी होकर वह लड़का बन जाएगी। इसके चलते गांव में लड़कियों की संख्या बेहद कम हो गई है, इस रहस्यमयी बीमारी की वजह से आस-पास के गांव के लोग इस गांव को बुरी नजर से देखते हैं, ला सेलिनास गांव की कई लड़कियां 12 साल की उम्र में आते-आते लड़के में तब्दील होने लगती हैं. गांव की लड़कियों के लड़का बनने की 'बीमारी' की वजह से यहां के लोग बेहद परेशान रहते हैं. इस कारण गांव के कई लोगों का मानना है कि यहां किसी अदृश्य शक्ति का साया है. इसके अलावा कुछ बुजुर्ग लोग गांव को श्रापित मानते हैं. इस तरह के बच्‍चों को 'ग्वेदोचे' कहा जाता है ये एक तरह का अनुवांशिक विकार है, इस बीमारी से पीड़ित बच्चों को इस गांव में बेहद बुरी नजर से देखा जाता है, इस बीमारी के कारण गांव में लड़कियों की संख्या काफी कम होती जा रही है. .

समुद्र किनारे बसे इस गांव की आबादी 6 हजार के करीब है. अपने अनोखे आश्चर्य की वजह से यह गांव दुनियाभर के शोधकर्ताओं के लिए रिसर्च का विषय बना हुआ है. वहीं दूसरी तरफ डॉक्टर्स कहते हैं कि ये बीमारी 'आनुवंशिक विकार' है. स्‍थानीय भाषा में इस बीमारी से ग्रसित बच्‍चों को 'सूडोहर्माफ्रडाइट' कहा जाता है. जिन भी लड़कियों को यह बीमारी होती है, एक उम्र में आने के बाद उनके शरीर में पुरूषों जैसे अंग बनने लगते हैं. उनकी आवाज भारी होने लगती और शरीर में वो बदलाव आने शुरू हो जाते हैं, जो धीरे-धीरे उन्हें लड़की से लड़का बना देते हैं. गांव का 90 में से एक बच्चा इस रहस्यमयी बीमारी से जूझ रहा है.

Share this story