प्राइवेट पैथोलॉजी का बड़ा झोल,नेता जी की रिपोर्ट जाँच में पॉजिटिव लेकिन मेडिकल कॉलेज की जाँच में निगेटिव

Total Views : 927
Zoom In Zoom Out Read Later Print

गोरखपुर:- जी हा बिल्कुल सही बात है अगर आप तिलक पैथोलॉजी में जाँच के लिए जाते है तो थोड़ा सतर्क हो जाये।क्योंकि वहाँ पर क्या जाच होता है और कैसा रिपोर्ट आता है आप सोचकर हैरान हो जाएंगे।

आपको बता दे कि गोरखपुर के पूर्व सभापति विधानपरिषद श्री गणेश शंकर पाण्डेय का 26 अगस्त 2020 को तिलक पैथोलॉजी गोरखपुर में अपना कोविड टेस्ट कराये थे जहा पर उनका रिपोर्ट पॉजिटिव आया था, उसके आधे घंटे बाद उनके सहयोगियों ने गोरखपुर प्रशासन से बात कर उनका दूसरा सेम्पल मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में दिया  दूसरे दिन 27 अगस्त को लखनऊ प्रशासन के सहयोग से उन्हें लखनऊ मेदांता अस्पताल में कोविड वार्ड के प्राइवेट कमरा में एडमिट कराया गया, एडमिट होने के 5 घण्टे बाद मेडिकल कॉलेज का रिपोर्ट नेगेटिव आया लोगो ने त्वरित इसकी सूचना जिला प्रशासन गोरखपुर को दिया। लोगो ने तत्काल प्रशासन से बात कर उन्हें डिस्चार्ज कराया , फिर तिलक पैथोलॉजी के मालिक से उनके सहयोगियों ने बात किया तब उन्होंने बताया कि ये हम RTPCR से टेस्ट नहीं करते बल्कि TRUENAT Beta मशीन पर RTPCR विधि से करते हैं, जबकि RTPCR मशीन मेडिकल कॉलेज में लगी हुई है। उनके एक सहयोगी का कहना था कि शुक्र है कि मेडिकल कालेज पर विश्वास करते हुए हमने दूसरा सेम्पल भेज दिया जिसमें गोरखपुर प्रशासन ने नेता जी को एक बड़ी संकट से बचाया है।


सोचने वाली बात है कि यदि विधानपरिषद के पुर्व सभापति के साथ ऐसा किया जा रहा है तो सामान्य व्यक्ति के साथ क्या होता होगा? इसके फर्जी रिपोर्ट के कारण व्यक्ति पॉजिटिव न होने के बाद भी पॉजिटिव हो जाता, ऐसे में 65 वर्षीय नेता जी व पूरा परिवार  कितनी बड़ी मानसिक तनाव से गुजरा होगा। जो 5 घण्टे कोरोना मरीजों के बीच बिना पॉजिटिव होते हुए भी उनके बीच रहना पड़ा ये काफी चिंताजनक है। विशेष सहयोग हेतु उनके सहयोगियों ने गोरखपुर व लखनऊ जिला प्रशासन का आभार प्रकट करते हैं। उनके पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सरकार से अनुरोध किया है कि कृपया प्राइवेट पैथोलॉजी पर लगाम लगाई जाए और धनउगाही के चक्कर मे तिलक जैसे फर्जी पैथोलॉजी को तत्काल सीज किया जाय।

रिपोर्टर:- अश्वनी कुमार

See More

Latest Photos